ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारकेके पाठक कैसे ईमानदार जो CM का आदेश नहीं मानते, नीतीश सरकार पर राबड़ी देवी हमलावर

केके पाठक कैसे ईमानदार जो CM का आदेश नहीं मानते, नीतीश सरकार पर राबड़ी देवी हमलावर

राबड़ी देवी ने कहा है कि केके पाठक को कोई अधिकार नहीं है कि विश्वविद्यालय के वीसी को बुलाएं और कोई आदेश जारी करें। यह पावर सिर्फ और सिर्फ राजभवन को है। ईमानदार हैं तो CM की बात एसीएस क्यों नहीं मानते।

केके पाठक कैसे ईमानदार जो CM  का आदेश नहीं मानते, नीतीश सरकार पर राबड़ी देवी हमलावर
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,पटनाFri, 23 Feb 2024 08:42 AM
ऐप पर पढ़ें

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव के के पाठक पर बिहार में सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच सियासी भिड़ंत  जारी है।  नीतीश कुमार और उनके सहयोगी जहां पाठक को ईमानदार अधिकारी बता रहे हैं वहीं लालू यादव की पार्टी आरजेडी समेत पूरा विपक्ष कह रहा है कि एसीएस मुख्यमंत्री का आदेश भी नहीं मानते हैं।  गुरुवार को भी विधानमंडल के दोनों सदनों में इस मुद्दे पर जोरदार हंगामा हुआ। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी समेत आरजेडी और लेफ्ट पार्टी  के नेताओं ने केके पाठक को हटाने की मांग की है।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने कहा है कि के के पाठक को कोई अधिकार नहीं है कि विश्वविद्यालय के वीसी को बुलाएं और कोई आदेश जारी करें। यह पावर सिर्फ और सिर्फ राज भवन को है।  पूर्व सीएम ने कहा कि  पाठक अगर बहुत ईमानदार हैं तो मुख्यमंत्री के आदेश क्यों नहीं मानते हैं।  यह कैसी ईमानदारी हुई।। उन्होंने नीतीश कुमार पर भी  सवाल उठाया और कहा कि कम दोनों तरफ से बोलते हैं। ऐसा नहीं चल सकता। उन्हें तय करना होगा कि के के  पाठक के काम करने का तरीका सही है या गलत। विधान परिषद में भी केके पाठक को लेकर विपक्षी नेताओं ने हंगामा किया। 

इससे पहले के के पाठक द्वारा गाली देने का एक कथित वीडियो दिखाकर पूर्व शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने सवाल किया तो पूरा विपक्ष वेल में आकर हंगामा करने लगा।  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्कूल की टाइमिंग को लेकर कहा है कि 10:00 से पढ़ाई शुरू होगी और इसके लिए शिक्षक 15 मिनट पहले पहुंचेंगे।  शाम को 4:00 बजे छुट्टी होगी और 15 मिनट बाद शिक्षक स्कूल बंद करेंगे।  यानी सरकार के अनुसार स्कूल की टाइमिंग सुबह 9:45 बजे से शाम 4:15 बजे तक होगी।  लेकिन केके पाठक ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर गुरुवार को निर्देश दिया कि शिक्षक 9:00 बजे स्कूल पहुंचेंगे इससे पहले 8:30 बजे तक निरीक्षक पदाधिकारी पहुंच जाएं।  शिक्षक 9:00 नहीं आते हैं उन्हें अनुपस्थित मानकर वेतन काटने की कार्रवाई कर दें।   पाठक ने यह भी निर्देश दिया कि 4:00 तक बच्चों की पढ़ाई होगी और 5:00 बजे तक मिशन दक्ष के तहत कमजोर बच्चों क्या स्पेशल क्लास लिया जाएगा।

केके पाठक का यह आदेश तब जारी हुआ जब शिक्षा मंत्री ने भी गुरुवार को स्पष्ट कर दिया कि मुख्यमंत्री ने जो आदेश दिया  है उसे हर हर में लागू करना होगा।  ऐसे में विपक्ष ने मुख्यमंत्री से इस्तीफा की मांग कर दी है। राजद के भाई वीरेंद्र ने कहा कि नीतीश कुमार या तो केके पाठक को बर्खास्त करें या खुद इस्तीफा दे दें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें