DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  बिहार में होमगार्डों को रिटायरमेंट के छह महीने बाद भी है डेढ़ लाख रुपये अनुदान मिलने का इंतजार
बिहार

बिहार में होमगार्डों को रिटायरमेंट के छह महीने बाद भी है डेढ़ लाख रुपये अनुदान मिलने का इंतजार

वरीय संवाददाता,मुजफ्फरपुरPublished By: Amit Gupta
Thu, 17 Jun 2021 08:58 AM
बिहार में होमगार्डों को रिटायरमेंट के छह महीने बाद भी है डेढ़ लाख रुपये अनुदान मिलने का इंतजार

31 दिसंबर 2020 को होमगार्ड के छह दर्जन से अधिक जवान सेवानिवृत हुए। उन्हें विभाग की ओर से 1.50 लाख रुपये अनुदान मिलना है, पर छह माह बाद भी भुगतान नहीं हो सका है।  होमगार्ड अनुदान से वंचित है। इसे लेकर होमगार्ड लगतार कार्यालय का चक्कर काट रहे हैं। कार्यालय में प्रतिनियुक्त लिपिकों से जानकारी भी ले रहे हैं।

होमगार्ड के कमांडेट गौतम कुमार ने बताया कि रिटायर जवानों में से दो दर्जन के लिए मुख्यालय से आवंटन मिला है। राशि जल्द उनके बैंक खाता में भेजी जाएगी। इसे लेकर निर्देश दिये गए हैं। वहीं तीन दर्जन से अधिक जवानों के का लिस्ट तैयारकी जा रही है। उसे मुख्यालय भेजा जाएगा। इसके बाद मुख्यालय से आवंटन मिलने पर उन्हें भी भुगतान किया जाएगा।

सर्विस के दौरान 3650 दिन करनी थी ड्यूटी :
कमांडेंट ने बताया कि यह अनुदान सभी जवानों को नहीं मिल सकेगा। इसके लिए उन्हें ही योग्य माना जा रहा है जो पूरे सर्विस के दौरान 3650 दिन यानि 10 साल होमगार्ड को सेवा दी है। इसकी गणना की जा रही है।

मैनुअल गणना होने से हो रही देरी  :

कमांडेंट ने बताया कि वर्ष 2018 में जिला होमगार्ड कार्यालय ऑनलाइन हुआ। इससे पहले सभी काम मैनुअल हुआ करता था। वर्ष 2018 के बाद जवान कितना ड्यूटी किये, यह सभी डिजिटलाइज है। उसकी गणना करने में परेशानी नहीं है। 2018 से पहले कितने दिन जवानों ने ड्यूटी की है। उसकी गणना मैनुअल तरीके से करायी जा रही है। इस वजह से सूची मुख्यालय भेजने में देर हो रही है।

संबंधित खबरें