ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारबिहार में हीटवेव का कहर जारी, नवादा में 12 छात्राओं की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

बिहार में हीटवेव का कहर जारी, नवादा में 12 छात्राओं की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

बिहार में भीषण गर्मी को देखते हुए स्कूल फिर से बंद कर दिए गए हैं। नवादा में आवासीय विद्यालय में रह रहीं 12 छात्राओं की बुधवार को हीटवेव की वजह से तबीयत बिगड़ गई।

बिहार में हीटवेव का कहर जारी, नवादा में 12 छात्राओं की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती
delhi heat stroke one died
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,नवादाWed, 12 Jun 2024 07:12 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में स्कूल खुलने के बाद भी भीषण गर्मी का कहर जारी है। हीटवेव की वजह से फिर से स्कूली बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी है। ताजा मामला नवादा जिले से आया है। यहां मेसकौर प्रखंड स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में 12 छात्राओं की बुधवार की तबीयत बिगड़ गई। छात्राएं एक-एक कर बेहोश होकर गिरने लगीं तो शिक्षकों के हाथ-पैर फूल गए। आनन-फानन में उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिलहाल सभी की हालत खतरे से बाहर है। बिहार के 15 जिले बुधवार को लू की चपेट में रहे, ऐसे में शिक्षा विभाग के स्कूलों को फिर से खोलने के फैसले पर सवाल उठ रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक मेसकौर के कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में बुधवार को 12 बच्चियों की हालत अचानक बिगड़ गई। सभी को मेसकौर पीएचसी में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों की टीम ने उनका इलाज किया। उन्होंने बताया कि भीषण गर्मी की वजह से डिहाइड्रेशन होने से उनकी हालत बिगड़ी है। सभी को उचित उपचार देकर ठीक किया गया है।

बता दें कि पिछले महीने भी राज्यभर के अलग-अलग स्कूलों में बच्चों और शिक्षकों के गर्मी की वजह से बेहोश होने के कई मामले आए थे। इसके बाद सीएम नीतीश कुमार ने संज्ञान लेते हुए सभी स्कूलों को 8 जून तक के लिए बंद कर दिया गया था। शिक्षा विभाग ने 10 जून से स्कूलों को फिर से खोलने का आदेश दिया। हालांकि, इसके समय में परिवर्तन किया गया है। अब स्कूलों में कक्षाएं सुबह 6.30 से 11.30 बजे तक संचालित की जा रही है। पहले समय सुबह 6 से दोपहर 12 बजे तक था।

हालांकि, अब भी राज्यभर में भीषण गर्मी का कहर कम नहीं हुआ है। मॉनसून आने तक हीटवेव की आशंका बनी हुई है। ऐसे में स्कूलों को 10 जून से फिर से खोले जाने के शिक्षा विभाग के आदेश पर शिक्षक एवं अभिभावक सवाल उठा रहे हैं।