DA Image
24 सितम्बर, 2020|4:38|IST

अगली स्टोरी

अच्छी खबर! 406 करोड़ से बनेगा कमला बराज, 1.10 लाख एकड़ में होगी सिंचाई

chief minister nitish gave instructions to officials while inspecting flood relief work during madhu

मधुबनी जिले के जयनगर में कमला नदी पर बनने वाले बराज पर अब 406 करोड़ खर्च होंगे। साथ ही इससे 1.10 लाख एकड़ में सिंचाई हो सकेगी। बराज का नया स्टीमेट तैयार किया गया है। पहले इसका स्टीमेट 363 करोड़ का था। मुख्यमंत्री ने इसे अत्याधुनिक तरीके से बनाने का निर्देश दिया है, जिससे राशि बढ़ी है।
 
विभाग ने सीएम के निर्देश पर बराज का स्टीमेट तैयार कर लिया है। योजना अभी लोक वित्त समिति की पास है। वहां से पास होने के बाद आगे की कार्रवाई शुरू होगी। यह ऑटोमेटिक बराज होगा, जिसका संचालन मशीन से होगा। बराज बनने से इलाके को नं सिर्फ अधिक सिंचाई सुविधा मिल पाएगी बल्कि बाढ़ से बचाव भी होगा। सिंचाई तो सिर्फ मधुबनी जिले में हो पाएगी, लेकिन बाढ़ से बचाव मधुबनी और दरभंगा सहित पूरे मिथिला क्षेत्र का होगा। 

उल्लेखनीय है कि जयनगर में कमला नदी पर बना बीयर वर्षों से आधी क्षमता पर ही काम कर रहा था। वर्ष 2013 में केन्द्रीय जल आयोग ने इसके पौंड लेबल को बढ़ाकर इसे बराज में बदलने की अनुशंसा की थी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर जल संसाधन विभाग ने अब जाकर इस पर काम अब शुरू किया है।  मुख्यमंत्री ने एक महीना पहले इस बीयर का मुआयना करने के बाद इसे आधुनिक बराज में बदलने का निर्देश दिया था। इसके पहले रूड़की आईआईटी के इंजीनियर नयन शर्मा ने भी नदी का अध्ययन किया था। उन्होंने भी बराज बनाने के साथ पौंड लेबल बढ़ाने की अनुशंसा की थी। 

वर्ष 1974 में बने इस बीयर की सिंचाई क्षमता 84 हजार 521 एकड़ की थी। बराज बनने से एक लाख दस हजार एकड़ में सिंचाई होने लगेगी। हालांकि बीयर अब अपनी पूरी क्षमता पर काम नहीं कर पा रहा है। गत वर्ष इससे मात्र 46 हजार एकड़ में ही सिंचाई हो पाई थी। इस लिहाज से अगर गणना करें तो बराज बनने से सिंचाई क्षमता दूनी हो जाएगी। इसी के साथ नये सिरे से बराज बनने पर अधिक पानी आने पर भी इलाके को बाढ़ से बचाया जा सकेगा। जब बीयर बना था तब नदी का डिस्चार्ज 1.40 लाख क्यूमेक माना गया था। अब डिस्चार्ज बढ़कर 2.19 लाख क्यूमेक हो गया है। बराज बनने से पौंड लेबल भी बढ़ेगा। लिहाजा बरसात के दिनों में जो पानी गांवों में जाकर बाढ़ की स्थिति पैदा करता था, अब बराज में उसे बांधकर खेतों की सिंचाई में उसका उपयोग हो सकेगा। 

बराज एक नजर में 
1.10 लाख एकड़ में होगी सिंचाई
406 करोड़ रुपये खर्च होंगे
6224 घनसेक पानी जमा होगा
10 स्लुईस होंगे दस-दस मीटर के 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Good News: Kamla Barrage will be built with Modern way from 406 crores in Madhubani and also one lakh acres will be irrigated