ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारबिहार के यूनिवर्सिटी-कॉलेज के शिक्षकों के लिए गुड न्यूज, बढ़ी दर पर मिलेगा महंगाई भत्ता

बिहार के यूनिवर्सिटी-कॉलेज के शिक्षकों के लिए गुड न्यूज, बढ़ी दर पर मिलेगा महंगाई भत्ता

बिहार के सभी पारंपरिक विश्वविद्यालयों और अंगीभूत कॉलेजों के शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारियों को बढ़ी हुई दर से महंगाई भत्ता मिलेगा। इसके साथ ही उन्हें अंतर बकाया राशि भी मिलेगी।

बिहार के यूनिवर्सिटी-कॉलेज के शिक्षकों के लिए गुड न्यूज, बढ़ी दर पर मिलेगा महंगाई भत्ता
Malay Ojhaहिन्दुस्तान,पटनाMon, 20 Nov 2023 09:21 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के सभी पारंपरिक विश्वविद्यालयों और अंगीभूत कॉलेजों के शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारियों को बढ़ी हुई दर से महंगाई भत्ता मिलेगा। इसके साथ ही उन्हें अंतर बकाया राशि भी मिलेगी। शिक्षा विभाग ने इसकी तैयारी पूरी कर ली है। अब विभाग इस पर खर्च होने वाली राशि के आकलन में जुट गया है। दरअसल, विभाग ने पिछले दिनों यह निर्णय लिया था कि बढ़ी हुई दर के हिसाब से महंगाई भत्ते की बकाया राशि एवं डीआर डिफरेंस मद की बकाया राशि का भुगतान पारंपरिक विश्वविद्यालयों एवं अंगीभूत महाविद्यालयों के सेवानिवृत्त शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारियों को भी होगा। 

इस संबंध में उच्च शिक्षा निदेशक रेखा कुमारी ने सभी परंपरागत विश्वविद्यालयों के कुलसचिवों को निर्देश जारी किया है। इसके तहत पारंपरिक विश्वविद्यालयों एवं अंगीभूत महाविद्यालयों के कार्यरत शिक्षक एवं शिक्षकेतर तथा सेवानिवृत्त कर्मियों के वेतनादि एवं गैर वेतनादि मद में जुलाई, 2022 से दिसंबर, 2022 तक 34 प्रतिशत से 38 प्रतिशत एवं  जनवरी, 2023 एवं फरवरी, 2023 का 34 प्रतिशत से 42 प्रतिशत तक का महंगाई भत्ता एवं डीआर डिफरेंस की गणना कर भुगतान किया जाना है।

यूनिवर्सिटी-कॉलेजों में आउटसोर्सिंग से कर्मियों की कमी दूर होगी
बिहार के सभी विश्वविद्यालयों व कालेजों में आउटसोर्सिंग से कर्मचारियों की कमी पूरी की जायेगी। इस संबंध में शिक्षा विभाग ने विश्वविद्यालयों से यह जानकारी मांगी है कि पहले से ऐसे कितने कर्मचारी रखे गये हैं। इस संबंध में उच्च शिक्षा निदेशक रेखा कुमारी ने सभी परंपरागत विश्वविद्यालयों के कुलसचिवों को  निर्देश जारी किया है। इसके लिए निदेशालय ने फॉर्मेट भी जारी किया है। जारी निर्देश के अनुसार विश्वविद्यालयों को कर्मचारियों के पदनाम, स्वीकृत पद की संख्या, नियमित रूप से कार्यरत कर्मी की संख्या, आउटसोर्सिंग एजेंसी से कार्यरत कर्मी की संख्या, अन्य विधि से कार्यरत कर्मी की संख्या तथा भुगतान हेतु राशि के स्रोत का ब्योरा देना है।