DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गडकरी बोले,  2019 तक 80 फीसदी गंगा होगी निर्मल  

nitin gadkari

केंद्रीय पथ परिवहन और जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि वर्ष 2019 तक गंगा को 80 फीसदी निर्मल करना है। इस दिशा में भारत सरकार बड़े पैमाने पर कार्य कर रही है। उन्होंने यह भी कहा कि जल मार्ग परियोजना के तहत बनारस से हल्दिया तक गंगा में कोई बराज नहीं बनेगा। 

‘नमामि गंगे’ परियोजना को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ समीक्षा बैठक करने के बाद वे पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बनारस से हल्दिया के बीच गंगा में पानी लेवल की समस्या नहीं है। जल मार्ग को लेकर बनारस से हल्दिया तक गंगा में तीन मीटर गहराई मेंटेन करने को लेकर एक योजना स्वीकृत की गई है। इसमें 1700 करोड़ खर्च होंगे। इसको लेकर विश्व का आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा। 

उन्होंने आगे कहा कि गंगा को निर्मल करना एक कठिन कार्य है। इसे चुनौती के रूप में भारत सरकार ने लिया है। इसके लिए 20 हजार करोड़ मंजूर किए गए हैं। गंगा में नाले का पानी नहीं गिरे और पानी का ट्रीटमेंट कर कहीं और इस्तेमाल करने पर भी काम चल रहा है। फरक्का बराज को लेकर विभिन्न फोरम पर उठाए गए विरोध पर उन्होंने कहा कि इसको लेकर अध्ययन किया जा रहा है। बिहार सरकार का भी जो मत है, उस पर भी आगे बातें होंगी। 

पटना में गंगा के 26 घाट आपस में जुड़ेंगे
उन्होंने कहा कि पटना गंगा नदी तट विकास परियोजना के दूसरे चरण में पटना सिटी के नौजर घाट से मालसलामी के नूरपुर घाट के बीच 27 घाटों को आपस में जोड़ा जाएगा। इन घाटों के बीच की दूरी छह किलोमीटर है। इस पर 218 करोड़ खर्च होंगे। पटना रीवर फ्रंट के अंतर्गत ये कार्य किए जा रहे हैं। 
बिहार में सी-प्लेन की शुरुआत होगी 
गडकरी ने कहा कि बिहार सरकार अगर चाहेगी तो बिहार में भी सी-प्लेन की शुरुआत की जाएगी। इस पर मुख्यमंत्री ने तुरंत कहा कि क्यों नहीं। बिहार सरकार यह जरूर चाहेगी। गडकरी ने कहा कि सी-प्लेन पानी में भी लैंड कर सकता है और वहां से उड़ान भी भर सकता है। कहा कि गुजरात समेत कई राज्यों में वहां की प्रमुख नदियों में सी-प्लेन सेवा शुरू करने पर काम चल रहा है।   

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Gadkari says 80 percent of Ganga will be cleaned by 2019