ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारलोकतंत्र की राह में महिला ने कैंसर को दी मात, स्ट्रेचर से बूथ पहुंच डाला वोट; बेटे ने बताई अंदर की बात

लोकतंत्र की राह में महिला ने कैंसर को दी मात, स्ट्रेचर से बूथ पहुंच डाला वोट; बेटे ने बताई अंदर की बात

कैंसर पीड़ित सुभद्र देवी को जब बताया गया कि आज वोट है तो उन्होंने अपने मताधिकार का प्रयोग करने की इच्छा जताई। बेटे विजय कुमार मिश्र उन्हें स्ट्रेचर पर लादकर पोलिंस बूथ पहुंचे और वोट डलवाया।

लोकतंत्र की राह में महिला ने कैंसर को दी मात, स्ट्रेचर से बूथ पहुंच डाला वोट; बेटे ने बताई अंदर की बात
Sudhir Kumarलाइव हिन्दुस्तान,दरभंगाMon, 13 May 2024 05:37 PM
ऐप पर पढ़ें

Bihar Lok Sabha Election 2024: बिहार के दरभंगा में लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में सोमवार को वोटिंग हुई। इस बीच भारत के मजबूत लोकतंत्र की एक बेहद खूबसूरत तस्वीर दरभंगा से  सामने आई  इस लोकसभा क्षेत्र में एक ऐसी महिला ने मतदान केंद्र पर पहुंच कर वोट डाला जिसे देखकर सबके चेहरे खिल गए। पोलिंग बूथ पर मौजूद अन्य मतदाताओं ने उनके जज्बे को सलाम किया। दरअसल यह महिला सुभद्रा देवी हैं जो कैंसर पीड़ित हैं। लेकिन उन्होंने वोट डालने की इच्छा जताई तो उनका बेटा स्ट्रेचर पर लेकर पहुंचा और उन्होंने अपने मनपसंद उम्मीदवार को अपना वोट देकर लोकतंत्र के प्रति अहम जिम्मेदारी का निर्वहन किया। सोमवार को दरभंगा के अलावे बेगूसराय, समस्तीपुर, उजियारपुर और मुंगेर में भी वोटिंग हुई।

सुभद्रा देवी कैंसर की बीमारी से जिंदगी की जंग लड़ रही हैं। दरभंगा के बेनीपुर विधानसभा क्षेत्र के विष्णुपुर चौगमा गांव के निवासी शुभकान्त मिश्र की पत्नी  हैं शुभद्रा देवी जो पिछले कई महीनों से कैंसर रोग से पीड़ित हैं। उनका इलाज चल रहा है लेकिन वह खाना-पीना नहीं खा रही हैं। बीमार होने के कारण वह चलने-फिरने में असमर्थ हैं। लेकिन जब उन्हें बताया गया कि आज वोट है तो उन्होंने अपने मताधिकार का  प्रयोग करने की इच्छा जताई। इस पर उनके बेटे विकास कुमार मिश्र अन्य परिजनों के साथ मिलकर स्ट्रेचर पर लादकर बूथ संख्या 116 पर ले गए और मतदान करवाया।

Video: नरेंद्र मोदी को देख फूट-फूटकर रोने लगी छपरा की यह महिला, पीएम ने सिर पर हाथ रख कही यह बात

अपनी मां सुभद्रा देवी को लेकर वोट दिलाने पहंचे विजय कुमार मिश्र ने बताया कि जब मां ने अपने जीवन के अंतिम क्षणों में मतदान करने की इच्छा जाहिर की तो रोम रोम खड़ा हो गया। इतनी खुशी हुई कि बता नहीं सकते। मां 80 साल की हैं और अब कितने दिन जिंदा रहेंगी यह भी पता नहीं है। कहना अच्छा नहीं लगता है लेकिन,अब हम लोग उनकी अंतिम सेवा में लगे हुए हैं। मां ने कैंसर से पीड़ित होने के बाद भी वोट डालने आईं यह मेरे लिए गौरव की बात है। सभी लोगों को अपने मताधिकार का प्रयोग करना चाहिए।