DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चारा घोटाला: दुमका कोषागार मामले में दोषियों की सजा का ऐलान आज

Lalu Prasad Yadav

चारा घोटाला के दुमका कोषागार से अवैध निकासी से संबंधित मामले में 37 दोषियों को बुधवार को सजा सुनायी जाएगी। चारा घोटाला कांड संख्या आरसी 45ए/96 में सीबीआई के विशेष न्यायाधीश शिवपाल सिंह की अदालत ने मंगलवार को अभियुक्तों की सजा के बिंदु पर सुनवाई पूरी कर ली। अभियुक्तों की ओर से अधिक उम्र और बीमारी आदि का हवाला देते हुए सजा कम देने का आग्रह किया गया। वहीं सीबीआईकी ओर से अभियुक्तों को कड़ी सजा देने की मांग की गयी। 

पूर्व में अदालत ने मामले में फैसला सुनाते हुए 37 अभियुक्तों को दोषी करार दिया था, जबकि पांच को बरी कर दिया था। इसके बाद दोषियों के सजा के बिंदु पर सुनवाई शुरू हुई थी। मंगलवार को नौ अभियुक्तों की सजा के बिंदु पर सुनवाई पूरी हुई। इनमें राजन मेहता, सर्वेंदु कुमार दास, संजय शंकर, संजय कुमार अग्रवाल, शशि कुमार, सुनील कुमार सिन्हा, सुशील कुमार, त्रिपुरारी मोहन प्रसाद एवं विनोद कुमार झा शामिल हैं। चारा घोटाला का यह 51 वां मामला है, जिसमें सजा सुनायी जायेगी।  

क्या है मामला

दुमका कोषागार से वर्ष 1991-92 और वर्ष 1995-96 के बीच 34 करोड़ 91 लाख 54 हजार 844 रुपये की अवैध निकासी हुई थी। मामले को लेकर सबसे पहले दुमका के तत्कालीन एक्जिक्यूटिव मजिस्ट्रेट के पद पर रहे राजीव अरुण एक्का ने 22 फरवरी 1996 को दुमका टाउन थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। 15 अप्रैल 1996 को सीबीआई ने कांड संख्या आरसी 45ए/96 के तहत 72 आरोपितों के खिलाफ जांच शुरू की थी। 12 अक्तूबर 2001 को अदालत में चार्जशीट दायर की गई। वहीं 24 जुलाई 2004 को 60 अभियुक्तों के खिलाफ अदालत में चार्जफ्रेम हुआ था। ट्रायल के दौरान 14 अभियुक्तों का का निधन हो गया। 

यह भी पढ़े - चारा घोटाला: दुमका कोषागार से गबन मामले में 37 दोषी करार, 5 बरी

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Fodder scam In Dumka Treasury case conviction will be announced today