DA Image
7 अप्रैल, 2020|3:39|IST

अगली स्टोरी

कोरोना से लड़ाई: स्वास्थ्य विभाग के रडार पर हैं संक्रमित मरीजों से जुड़े लोग

कोरोना के संक्रमित मरीज से जुड़े लोग स्वास्थ्य विभाग की टीम के रडार पर हैं। ऐसे लोगों की पूरी पड़ताल की जा रही है ताकि संक्रमण का दायरा बढ़ने से रोका जा सके। पटना में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या फिलहाल अभी तेजी से नहीं बढ़ रही है, लेकिन कोरोना जैसे लक्षण अधिक मिल रहे हैं। डॉक्टर से लेकर अस्पताल के कर्मचारी तक मुश्तैदी से लगे हैं। संक्रमण को फैलने से रोकने को लेकर लॉक डाउन के बाद भी हो रही मनमानी से जिम्मेदार्र ंचतित हैं। 

ऐसे मरीजों से बड़े खतरे का अंदेशा 
स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि जो संक्रमित लोगों के संपर्क में आए हैं उनसे संक्रमण का बड़ा खतरा है। ऐसे लोगों को पूरी तरह से रडार पर लिया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग संक्रमण को रोकने को लेकर इसे बड़ी चुनौती मान रहा है। बताया जा रहा है कि जैसे ही संदिग्ध मरीजों की रिपोर्ट विभाग को मिल रही है तत्काल परिवारों को पकड़ा जा रहा है उनकी जांच की जा रही है। बुधवार को कई लोगों से पूछताछ की गई है। संदिग्ध लगे लोगों का नमूना भी लिया गया है जिससे उनके अंदर संक्रमण की जांच कराई जा सके। 

स्वास्थ्य विभाग कर रहा है अपील 
स्वास्थ्य विभाग अपील कर रहा है कि ऐसे लोगों के बारे में सूचना दी जाए जो जांच में पाजेटिव पाए गए हें और क्षेत्र में पहले घूम चुके हैं। ऐसे लोगों की पड़ताल को लेकर स्वास्थ्स विभाग की टीम तो काम कर रही है। बताया जा रहा है कि जिन लोगों के बारे में जानकारी मिल रही है उनपर नजर रखी जा रही है। पटना के तीन लोगों को चिन्हित किया गया है जो कोरोना से संक्रमित हैं और अस्पताल में आने से पहले अपनी सोसायटी क्षेत्र में घूम चुके हैं। फुलवारी दीघा और पटना सिटी के रहने वाले इन लोगों से जुड़े रहने वालों की जानकारी इकट्ठर की जा रही है। आसपास के एरिया को सैनिटाइज कराने के साथ ही संदिग्ध लोगों की जांच को लेकर काम तेज कर दिया गया है। 

पटना एम्स में कोरोना पांच संदिग्ध भर्ती  
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान पटना में बुधवार को आधा दर्जन संदिग्ध मरीजों को छुट्टी दे दी गई है। फ्लू के 85 मरीजों की जांच की गई है। इस दौरान सात मरीजों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। 

पीएमसीएच में पांच मरीजों का भेजा गया नमूना  
पटना में डिकल कॉलेज में कोरोना संक्रमण को लेकर अलर्ट बढ़ा दिया गया है। मरीजों के साथ उनके तीमारदारों की सुरक्षा को लेकर भी काम किया जा रहा है। बुधवार को पटना मेडिकल कॉलेज में तीन नए संदिग्ध मामले आए हैं। अधीक्षक डॉ बिमल कारक ने कहा है कि सुरक्षा को लेकर व्यवस्था चौकसी की जा रही है।

तीन मरीजों की जांच रिपोर्ट निगेटिव 
पटना मेडिकल कॉलेज से भेजे गए नमूने में तीन की रिपोर्ट बुधवार को आ गई है। इन मरीजों में कोरोना का संक्रमण नहीं पाया गया है। हालांकि अभी उन्हें छोड़ा नहीं गया है। मरीजों की निगरानी की जा रही है, इसके बाद डॉक्टर आस्वस्थ्य होने के बाद उन्हें घर भेजेंगे। घर भेजने के बाद भी उन्हें निगरानी में रहने को कहा गया है। 

बुधवार को तीन संदिग्ध मरीज नए आए हैं जबकि तीन की छुट्टी की गई है। मौजूदा समय में 18 मरीज आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हैं। 
- डॉ बिमल कुमार कारक, अधीक्षक     

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Fighting with Corona People connected to infected patients are on the health department radar