DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  किसानों के लिए गुड न्‍यूज: केला और पपीता की खेती करने पर मिलेगा अनुदान, ऐसे करें आवेदन
बिहार

किसानों के लिए गुड न्‍यूज: केला और पपीता की खेती करने पर मिलेगा अनुदान, ऐसे करें आवेदन

हिन्‍दुस्‍तान टीम ,समस्‍तीपुर Published By: Ajay Singh
Fri, 18 Jun 2021 12:52 PM
किसानों के लिए गुड न्‍यूज: केला और पपीता की खेती करने पर मिलेगा अनुदान, ऐसे करें आवेदन

बिहार के समस्तीपुर के उन किसानों के लिए अच्छी खबर है जो फलदार पौधों की खेती करने को इच्छुक हैं। उद्यान विभाग के मुख्यमंत्री सघन बागबानी मिशन योजना के तहत आम, अमरूद, पपीता व केला की खेती करने वाले किसान को अनुदान दिया जाएगा। इसके लिए विभाग की ओर से लक्ष्य निर्धारित कर दिया गया है। निजी जमीन पर 25 हेक्टेयर में आम का बगीचा लगेगा। किसानों को पौधे लगाने और उसकी देखरेख के लिए अलग से राशि दी जाएगी। पपीता, केला और अमरूद के बाग लगाने की भी योजना तैयार की गयी है। आम में मालदह, बम्बइया, गुलाब खास, अम्रपाली व मल्लिका के पौधे लगाए जायेंगे। एक किसान कम से कम आठ कट्ठा और अधिकतम एक हेक्टेयर में आम का बगीचा लगा सकते हैं। प्रति हेक्टेयर 50,000 के प्रोजेक्ट पर तीन किश्त में राशि व्यय होगी।

पहले वर्ष में 60 फीसदी यानी 30 हजार अनुदान मिलेगा। एक हेक्टेयर के लिए 400 पौधे 70 रुपए की दर से दिये जाएंगे। पौधे की कीमत 28 हजार होगी,जिसे काट लिया जाएगा। शेष दो हजार रुपया किसान के खाते में जाएगी। जबकि, दूसरे साल में 10 हजार और तीसरे साल में भी 10 हजार रुपया सब्सिडी मिलेगी। शर्त यह कि पौधे 90 फीसदी सुरक्षित रहने चाहिए। इसी तरह, केला के बाग लगाने पर प्रति हेक्टेयर 62,500 रुपया खर्च होगा। पहले साल में पौधे लगाने और देखरेख के लिए 75 फीसद अनुदान दिया जाएगा। दूसरे साल में 25 फीसदी राशि मिलेगी। पपीता की खेती के लिए एक हेक्टेयर पर 45 हजार खर्च होंगे। यह योजना भी दो साल की है। पहले साल में 75 फीसदी तो दूसरे साल 25 फीसद अनुदान दिया जाएगा। अमरूद के बाग लगाने पर प्रति हेक्टेयर 40 हजार खर्च होंगे। तीन किश्त में चयनित किसान को राशि मिलेगी। पहले साल 60 तो दूसरे और तीसरे साल 20-20 प्रतिशत अनुदान राशि दी जाएगी।

करना होगा किसानों को ऑनलाइन आवेदन
योजना का लाभ पाने वाले किसानों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। उद्यान विभाग के पोर्टल पर आवेदन लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है। पहले आओ पहले पाओ के आधार पर आवेदकों का चयन होना हैं। इसको लेकर विभाग की ओर से भी किसानों को जागरूक करने का काम किया जा रहा है।

आवेदन के साथ देने होंगे ये कागजात
किसानों को योजना का लाभ लेने को लेकर आवेदन के साथ कुछ जरूरी कागजात लगाने होंगे। इसमें एलपीसी या जमीन की कैरेंट रसीद, पहचान पत्र, आधार कार्ड, पासपोर्ट साइज की एक फोटो सहित बैंक पासबुक की फोटो कॉपी लगाना होगा। वहीं इन सबों का ऑेरिजनल कागजात भी अपने पास रखना होगा।

आम, पपीता और अमरूद का बगीचा लगाकर जिले के किसान आर्थिक रूप से समृद्ध हो सकते हैं। वैसे किसान जो अपनी जमीन पर बगीचा लगाना चाहते हैं, वे जरूरी कागजात के साथ आवेदन कर सकते हैं।
विकास कुमार, जिला कृषि पदाधिकारी

संबंधित खबरें