DA Image
9 अगस्त, 2020|4:55|IST

अगली स्टोरी

कश्मीर की बेटी जैसी कालजयी उपन्यास लिखने वाले हिंदी के साहित्यकार डॉ. शत्रुघ्न प्रसाद नहीं रहे

 famous hindi writer dr shatrughan prasad died due to illness they wrote novels centered on nalanda

क्षिप्रा साक्षी है और कश्मीर की बेटी जैसी कालजयी उपन्यास लिखने वाले हिंदी के साहित्यकार डॉ. शत्रुघ्न   प्रसाद नहीं रहे। बुधवार को उनका निधन हो गया। 88 वर्षीय डॉ. शत्रुघ्न   प्रसाद पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ चल रहे थे और आईजीआईएमएस में भर्ती थे। उनका अंतिम संस्कार बुधवार को बांसघाट पर हुआ।
 
1932 में जन्मे डॉ. शत्रुघ्न   प्रसाद अपने पीछे तीन पुत्र और तीन पुत्री समेत भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं। बिहार के सारण (छपरा) जिले में जन्मे डॉ. प्रसाद पिछले 60 वर्षों से रचनात्मक साहित्य में सक्रिय थे और पत्रकारिता से भी इनका गहरा जुड़ाव रहा। छपरा के राजेन्द्र कॉलेज से स्नातक करने के बाद पटना विश्वविद्यालय से हिंदी में स्नातकोत्तर की पढ़ाई पूरी की। किसान कॉलेज नालंदा (सोहसराय, बिहारशरीफ) में हिंदी के प्राध्यापक और विभागाध्यक्ष रहे। रचनात्मक साहित्य में उनके योगदान को देखते हुए वर्ष 2016 में उन्हें गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। तत्कालीन राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने उन्हें राष्ट्रपति भवन में अप्रैल 2016 में सम्मानित किया था। उन्होंने कई साहित्यकारों को आगे बढ़ाने में सीढ़ी का काम किया। 

आपातकाल में जेल भी गए
हिंदी की ऐतिहासिक उपन्यास परम्परा के अग्रणी हस्ताक्षर डॉ. शत्रुघ्न   प्रसाद एक आदर्श शिक्षक के साथ एक प्रबुद्ध चिंतक और कवि भी थे। आरएसएस से भी उनका गहरा जुड़ाव था और आरएसएस के कई पदों पर भी वे रह चुके थे। उन्होंने नालंदा, दारा शिकोह और कबीर केन्द्रित उपन्यास  लिखे। पिनाक और सदा नीरा पत्रिका का संपादन भी किया। अखिल भारतीय साहित्य परिषद के वर्षों तक राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहे। अनेक हिंदी सलाहाकार समितियों के सदस्य भी थे। केंद्रीय हिंदी संस्थान की शासी परिषद के सदस्य रहे। वे विश्व संवाद केंद्र के पत्रकार सम्मान समिति के सदस्य थे। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बाल स्वयंसेवक थे। संघ के दक्षिण बिहार प्रांत के संघचालक भी रह चुके थे। आपातकाल में लंबे समय तक जेल में रहे। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Famous Hindi writer Dr Shatrughan Prasad died due to illness they wrote novels centered on Nalanda Dara Shikoh and Kabir