ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारपूर्व सैनिक संभालेंगे डायल 112 की स्टीयरिंग, खाली पदों पर होगी बहाली, गृह विभाग से मिली मंजूरी

पूर्व सैनिक संभालेंगे डायल 112 की स्टीयरिंग, खाली पदों पर होगी बहाली, गृह विभाग से मिली मंजूरी

पुलिस मुख्यालय ने भागलपुर सहित सभी जिलों को लिखा है और संबंधित एसपी को उक्त जिले के सैनिक बोर्ड्स कार्यालय के पदाधिकारी से संपर्क करने को कहा है। एक जिला सैनिक बोर्ड्स के तहत कई जिले आते हैं।

पूर्व सैनिक संभालेंगे डायल 112 की स्टीयरिंग, खाली पदों पर होगी बहाली, गृह विभाग से मिली मंजूरी
Sudhir Kumarअमित चौधरी,भागलपुरThu, 18 Apr 2024 11:28 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में इमेरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम (ईआरएसएस) के तहत डायल 112 के वाहनों की स्टीयरिंग अब पूर्व सैनिक  संभालेंगे। उनकी संख्या 3171 होगी। राज्य के सभी जिलों में जरूरत के अनुसार सेवानिवृत सैनिक चालकों की मानदेय पर बहाली होगी। इसको लेकर गृह विभाग से स्वीकृति मिल चुकी है। वितंतु एवं तकनीकी सेवाओं के डीआईजी ने इसको लेकर सभी जिलों को लिखा है। अपने-अपने जिलों में वैसे सेवानिवृत सैनिक चालकों का पता करने को कहा गया है। उनकी लिस्ट मिलते ही बहाली की प्रक्रिया पूरी कर डायल 112 के वाहनों को चलाने की जिम्मेदारी सेवानिवृत सैनिक चालकों को मिल जाएगी। राज्य में डायल 112 की सेवा शुरू होने  से आम नागरिकों को सहूलियत हो रही है।

इन जिला सैनिक बोर्ड्स के तहत आते हैं सभी जिले, संपर्क करेंगे पुलिस अधिकारी  

पुलिस मुख्यालय ने भागलपुर सहित सभी जिलों को लिखा है और संबंधित एसपी को उक्त जिले के सैनिक बोर्ड्स कार्यालय के पदाधिकारी से संपर्क करने को कहा है। एक जिला सैनिक बोर्ड्स के तहत कई जिले आते हैं। भागलपुर जिले के तहत भागलपुर, बांका, कटिहार, पूर्णिया, अररिया, किशनगंज, सहरसा, मधेपुरा और सुपौल जिले आते हैं।

दूसरे चरण में विस्तार होना है, जरूरत है चालकों की

पूर्व सैनिक इमरजेंसी रिस्पांस सपोर्ट सिस्टम के तहत डायल 112 का पहला चरण पूरा हो चुका है। उसमें मिली सफलता को देखते हुए इसका दूसरे चरण में विस्तार किया जा रहा है। अब यह सुविधा शहर से निकलकर प्रखंडों तक में उपलब्ध करायी जाएगी। काफी संख्या में कुशल वाहन चालकों की जरूरत है। यही वजह है कि इसके लिए पूर्व सैनिक चालकों को इसके लिए उपयुक्त माना गया है। बताते चलें कि कानून का राज और विधि व्यवस्था के प्रति लोगों का विश्वास बढ़ाने और जरूरत पड़ने पर समय पर राहत और सुरक्षा दिलाने के मकसद से राज्य के सभी जिलों में डायल 112 की सेवा शुरू की गयी है।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें