Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारशराबबंदी: लालू के लाइन पर नीतीश के पूर्व मंत्री, कहा- सीएम करें शराबबंदी की समीक्षा

शराबबंदी: लालू के लाइन पर नीतीश के पूर्व मंत्री, कहा- सीएम करें शराबबंदी की समीक्षा

लाइव हिन्दुस्तान,पटनाSudhir Kumar
Mon, 06 Dec 2021 01:35 PM
शराबबंदी: लालू के लाइन पर नीतीश के पूर्व मंत्री, कहा- सीएम करें शराबबंदी की समीक्षा

इस खबर को सुनें

बिहार में शराबबंदी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का सपना है। लेकिन इसमें पलीता लगाने के लिए उनके पूर्व सहयोगी ही मैदान में उतर गये हैं। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और उनकी पार्टी के कई नेता पहले ही शराबबंदी नीति की समीक्षा की बात कह चुके हैं। अब नीतीश सरकार में विभागीय मंत्री रहे जमशेद अशरफ ने ही शराबबंदी की समीक्षा की बात कहकर लालू यादव की लाइन को सपोर्ट कर दिया है। पूर्व आबकारी मंत्री का कहना है कि शराबबंदी से राज्य के बच्चों के हाथ मे किताब की जगह शराब की बोतलें आ गयी हैं।

पूर्व मंत्री अशरफ ने कहा कि शराब  माफिया ने बच्चों को डिलीवरी ब्यॉय बना दिया है। बच्चे शराबबंदी के बीच अपना करियर तलाश रहे हैं। ग्रामीण इलाकों में बच्चों के बैग में शराब की सप्लाई हो रही है और  बच्चों को बहकाया जा रहा है। गलत तरीके से कमाए हुए धन की वजह से बच्चे नशा के शिकार बन रहे हैं। आज स्मैक जैसे खतरनाक नशे की चपेट में बड़ी संख्या स्कूली बच्चों की है जो काफी खतरनाक है। धीरे धीरे ये बच्चे शराब और नशा के कारोबार से भी जुड़ते जा रहे हैं।

पूर्व मंत्री जमशेद अशरफ ने यह भी बताया कि शराबबंदी लागू किये जाने के बाद राज्य सरकार की आय में भारी नुकसान हो गया है। एक अनुमान के अनुसार लगभग चालीस हजार करोड़ राजस्व की क्षति हो रही है। बिहार जैसे एक गरीब राज्य के विकास में यह नीति बड़ी बाधा उत्पन्न कर रही है।

पूर्व आबकारी मंत्री ने कहा कि शराबबंदी के कारण बिहार में पर्यटन उद्योग पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ा है। जिन राज्यों या देशों में शराब चालु है वहां के लोग बिहार नही आना चाहते। यहां तक कि बिहार के लोग झारखंड में जाकर फंक्शन करते हैं। इससे यहां का राजस्व दूसरे राज्यों में जा रहा है। उन्होंने कहा कि बिहार में शराबबंदी कानून पूरी तरह फेल है। शराबबंदी के कारण सरकार को राजस्व की प्राप्ति ना हो रही है लेकिन कारोबार चल रहा है इसलिए एक बड़ी रकम शराब माफिया के हाथो में जा रही है।

पूर्व मंत्री अशरफ ने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति के पीछे शराबबंदी का बड़ा हाथ है। राज्य में अपराध का ग्राफ काफी बढ़ गया है क्योंकि पुलिस शराब पीने और बेचने वालों को पकड़ने में लगी है। पिछले कुछ दिनों में जहरीली शराब पीकर मौत के कई हादसे हुए हैं। पुलिस वाले उन कांडों को सुलझाने में लगे हैं और अपराधी इसका फायदा उठा रहे हैं।

बताते चलें कि जमशेद अशरफ नीतीश सरकार के वही आबकारी मंत्री हैं जिनके कार्यकाल में पूरे बिहार में शराब की दुकानों का विस्तारीकरण किया गया था। उस समय सरकार के आदेश पर राज्य के चौक-चौराहे और गली-गली में शराब की दुकानें खोल दी गई थी। लेकिन आज वही जमशेद अशरफ ने शराबबंदीकानून के समीक्षा की बात कही है.
 

epaper

संबंधित खबरें