ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारपटना जीपीओ में EOU का छापा, ड्रग्स की आशंका पर कार्रवाई, महाराष्ट्र से जुड़े हैं स्मगलिंग के तार?

पटना जीपीओ में EOU का छापा, ड्रग्स की आशंका पर कार्रवाई, महाराष्ट्र से जुड़े हैं स्मगलिंग के तार?

पुणे और महाराष्ट्र में बड़ी खेप में ड्रग मिलने के बाद ईओयू ने बिहार में अभियान शुरू किया है। कुछ ही दिनों पहले पटना जंक्शन पर भी अभियान चलाया गया था। ड्रग की तस्करी को रोकने के लिए कार्रवाई चल रही है।

पटना जीपीओ में EOU का छापा, ड्रग्स की आशंका पर कार्रवाई, महाराष्ट्र से जुड़े हैं स्मगलिंग के तार?
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,पटनाThu, 22 Feb 2024 02:08 PM
ऐप पर पढ़ें

पटना जीपीओ में गुरुवार को ड्रग्स की आशंका पर आर्थिक अपराध इकाई ईओयू ने छापेमारी की। नारकोटिक्स विभाग को सूचना मिली थी कि पार्सल के जरिए नशीले पदार्थों की खेप आई है। तस्करी के लिए बड़ी खेप पटना लाई गई है। उसके बाद गुरुवार की दोपहर कई गाड़ियों से ईओयू की छापेमार टीम जीपीओ पहुंची। आर्थिक अपराध इकाई के एसपी राजेश कुमार के नेतृत्व में टीम ने टीएम में जीपीओ में छापा की कार्रवाई को अंजाम दिया। हालांकि किसी प्रकार की बरामदगी की सूचना नहीं है।

कार्रवाई के दौरान ईओयू के एसपा राजेश कुमार ने बताया कि पुणे और महाराष्ट्र में बड़ी खेप में ड्रग मिलने के बाद ईओयू ने बिहार में अभियान शुरू किया है। कुछ ही दिनों पहले पटना जंक्शन पर भी अभियान चलाया गया था। सिंथेटिक ड्रग की तस्करी को रोकने के लिए बिहार में तेजी से अभियान चलाया जा रहा है। इसी कड़ी में गुरुवार को ईओयू की टीम ने पटना जीपीओ पार्सल हब में डॉग स्क्वाड के साथ पहुंचकर जांच की। हालांकि आज के जांच में कुछ भी ऐसा नहीं पाया गया।

गुरुवार को पटना जीपीओ में उस समय हड़कंप मच गया जब डीएसपी, इंस्पेक्टर, कोतवाली थाने की पुलिस के साथ आर्थिक अपराधी इकाई की टीम छापेमारी के लिए पहुंची। पार्सल हब में जाकर तलाशी ली गई। यह मामला नारकोटिक्स तस्करी से जुड़ा हुआ है।  विभाग की ओर से पहले दिल्ली,  पुणे समेत 5 शहरों में एक साथ छापेमारी की गई थी। महाराष्ट्र के पुणे में भारी मात्रा में मादक पदार्थों की बरामद की हुई थी।आशंका है कि स्मगलिंग के तार पटना से जुड़ रहे हैं और पोस्टल डिपार्टमेंट के नेटवर्क का उपयोग तस्करों के द्वारा किया जा रहा है।  इसी को लेकर छापेमारी की गई। 

आर्थिक अपराध इकाई के एसपी राजेश कुमार ने बताया कि पुणे के पार्सल यार्ड में छापेमारी की गई थी तो बड़ी मात्रा में ड्रग्स की रिकवरी हुई थी । लगभग 1688 किलो मादक पदार्थों की बरामद की गई।  इस दौरान पता चला कि इसका कनेक्शन शराबबंदी वाले बिहार से जुड़ा हुआ है। इसी को लेकर यह कार्रवाई की गई है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें