ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारOMG! थाने से गायब हो गए ट्रक की पूरी इंजन और चक्के, कोर्ट ने एसपी को दिया यह आदेश

OMG! थाने से गायब हो गए ट्रक की पूरी इंजन और चक्के, कोर्ट ने एसपी को दिया यह आदेश

2 अक्टूबर 2020 को नगर थाने की पुलिस ने सात मवेशी लदे हुए एक ट्रक को जब्त किया था। धाराएं जमानतीय होने के कारण यूपी के हल्द्वानी के ट्रक चालक लाल बहादुर यादव को जमानत मिल गई थी।

OMG! थाने से गायब हो गए ट्रक की पूरी इंजन और चक्के, कोर्ट ने एसपी को दिया यह आदेश
Sudhir Kumarहिंदुस्तान,गोपालगंजSat, 24 Feb 2024 03:40 PM
ऐप पर पढ़ें

आपके घर दुकान में चोरी होती है तौ थाना पर जाते हैं ताकि सुरक्षा मिले और चोरी का सामान पुलिस वाले खोज निकालें। लेकिन बिहार के गोलपालगंज में थाना परिसर से ट्रक का इंजन गायब हो गई लेकिन पुलिस वालों को भनक तक नहीं लगी। बिहार पुलिस की इस करतूत पर कोर्ट सख्त है। सीजेएम मानवेंद्र मिश्र की कोर्ट ने नगर थाना परिसर में जब्त कर रखे गए ट्रक के चारों चक्के और इंजन थाना गायब हो जाने के मामले को गंभीरता से लिया है। कोर्ट ने मामले में एसपी से जांच कर दोषी की पहचान करते हुए एक माह के अंदर रिपोर्ट तलब की है।

बताया जाता है कि 2 अक्टूबर 2020 को नगर थाने की पुलिस ने सात मवेशी लदे हुए एक ट्रक को जब्त किया था। धाराएं जमानतीय होने के कारण यूपी के हल्द्वानी के ट्रक चालक लाल बहादुर यादव को जमानत मिल गई थी। जमानत मिलने के बाद उसने ट्रक को मुक्त करने के लिए कोर्ट में आवेदन दिया।

बार-बार निर्देश के बाद जब कोर्ट की तरफ से धारा 349 का नोटिस दिया गया तो नगर थाना द्वारा अनापत्ति रिपोर्ट कोर्ट में भेजी गयी। जिसके आधार पर 1 जून 2023 को ट्रक को मुक्त करने का आदेश कोर्ट की तरफ से दिया गया। लेकिन, आवेदक जब मुक्ति आदेश लेकर थाने पर गया तो पता चला कि थाने पर ट्रक नहीं है। बाद में पता चला कि जादोपुर रोड में बन रहे महिला थाने के परिसर में ट्रक लगा हुआ है। जब आवेदक वहां पहुंचा तो ट्रक के चारों चक्के और इंजन तथा अन्य पुर्जे गायब थे। केवल बॉडी बचाहुआ था।

29 लाख 30 हजार रुपए में खरीदा था ट्रक

आवेदक ने कोर्ट में बताया कि उसने 29 जून 2018 को 29 लाख 30 हजार रुपए में ट्रक खरीदा था। मामले की गंभीरता को देखते हुए सीजेएम ने एसपी को अपने स्तर से पूरे मामले की जांच कर एक माह में रिपोर्ट देने को कहा है। कोर्ट ने कहा कि क्या थाने के किसी पुलिसकर्मी की मिली भगत से ट्रक के चक्के और इंजन गायब हुए या उसकी बिक्री कर दी गई । जबकि सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस की थी।आखिर इतनी बड़ी चूक और लापरवाही कैसे हुई। जिम्मेदार पुलिस पदाधिकारी के वेतन से कटौती कर ट्रक मालिक को क्यों नहीं मुआवजे का भुगतान कर दिया जाए।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें