ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारपटना में टूटा बिजली डिमांड का रिकॉर्ड; पीक आवर में 800 मेगावाट की खपत, प्रचंड गर्मी में हांफ गए ट्रांसफार्मर

पटना में टूटा बिजली डिमांड का रिकॉर्ड; पीक आवर में 800 मेगावाट की खपत, प्रचंड गर्मी में हांफ गए ट्रांसफार्मर

राजधानी पटना में मंगलवार की रात चार घंटे तक बिजली डिमांड के सारे रिकॉर्ड टूट गए। और बिजली खपत 800 मेगावाट पहुंच गई। जो बीते साल 775 थी। जिसके कई इलाकों में बिजली कटौती हुई।

पटना में टूटा बिजली डिमांड का रिकॉर्ड; पीक आवर में 800 मेगावाट की खपत, प्रचंड गर्मी में हांफ गए ट्रांसफार्मर
Sandeepकार्यालय संवाददाता,पटनाThu, 13 Jun 2024 06:47 AM
ऐप पर पढ़ें

भीषण गर्मी ने इस बार बिजली की खपत का रोजाना नया रिकॉर्ड बन रहा है। पहली बार ऐसी स्थिति बनी कि मंगलवार की रात लगातार चार घंटे तक बिजली की खपत 800 मेगावाट के पार रही। पिछले साल बिजली की अधिकतम मांग 775 मेगावाट तक गई थी, लेकिन कुछ ही देर बाद यह नीचे चली आई थी। मांग बढ़ने से बिजली आपूर्ति व्यवस्था प्रभावित हुई है।

सबस्टेशन के पावर ट्रांसफार्मर से लेकर आपूर्ति ट्रांसफार्मर पर लोड दोगुना हो जा रहा है, जिसके कारण शहर में बिजली कटौती थम नहीं रही है। लोग उमस भरी गर्मी में परेशान हो रहे हैं। वहीं दीघा ग्रिड के केबल ट्रंच में आग लगने से पांच लाख की आबादी प्रभावित रही। 150 पर चलने वाले ट्रांसफार्मर पर 300 एम्पीयर लोड मंगलवार की रात पीकआवर में 11 बजे 857 मेगावाट और बुधवार की दोपहर 3 बजे 832 मेगावाट बिजली की मांग रही।

यह मांग पिछले तीन-चार दिनों से लगातार बनी हुई है। इसका असर यह हो रहा कि पेसू पूर्वी और पश्चिमी अंचल के कई इलाके में पावर ट्रांसफार्मर सामान्य रूप से चल नहीं पा रहा। 150 एम्पीयर पर चलने वाले पावर ट्रांसफार्मर पर लोड 300 एम्पीयर तक चला जा रहा है। यह ओवरलोडेड होकर बार-बार ट्रिप कर रहा। आपूर्ति ट्रांसफार्मर अलग ही समस्या बनी हुई है। यह ओवरलोड होकर बार-बार ट्रिप कर रहा है। साहित्य सम्मेलन पावर सबस्टेशन का लोड क्षमता से अधिक जा रहा था। दस एमवीए इसकी क्षमता बढ़ाकर 30 से 40 एमवीए की गयी। इससे बारीपथ, हथुआ मार्केट, बाकरगंज, कदमकुआं, दलदली रोड की बिजली आपूर्ति सुधरी है।

दीघा न्यू ग्रिड के केबल ट्रंच में सुबह दस बजे आग लग गई, जिस ग्रिड को तत्काल बंद करना पड़ा। इससे पश्चिमी पटना में बिजली आपूर्ति ठप हो गई। 40 मिनट तक बिजली आपूर्ति प्रभावित रही। सुबह 10.50 बजे आग लगी और 11.30 बजे बहाल हुई। ग्रिड को सुरक्षा के लिए बंद कर दिया गया। ऐसा नहीं करने पर पावर ट्रांसफार्मर में आग पकड़ लेता और करोड़ों का नुकसान हो जाता। दीघा न्यू ग्रिड के बंद होने से लगभग दस 33 केवीए के दस फीडर बंद हो गए। इन फीडरों से जुड़े पांच लाख लोगों को बिजली की किल्लत 40 मिनट तक झेलनी पड़ गई।

शहर में ओवरलोडेड ट्रांसफार्मर वाले जगहों पर अतिरिक्त ट्रांसफार्मर लगाए जा रहे हैं। पेसू पूर्वी अंचल में 4 आपूर्ति ट्रांसफार्मर लगाए गए। लोड शेयर कर ट्रांसफार्मर को चालू किया गया। खेमनीचक, नेशनल हॉस्पिटल, कनौजी स्टेडियम गोपालपुर कंकड़बाग टू, प्रकाश नगर गोपालपुर कंकड़बाग में 200 केवीए के ट्रांसफार्मर लगे।