ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारबिहार विधान परिषद की 11 सीटों पर चुनाव का ऐलान; नीतीश, राबड़ी समेत 10 नेताओं का टर्म पूरा होगा

बिहार विधान परिषद की 11 सीटों पर चुनाव का ऐलान; नीतीश, राबड़ी समेत 10 नेताओं का टर्म पूरा होगा

आगामी 6 में को जिन नेताओं का कार्यकाल पूरा हो रहा है उनमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, विधान परिषद में नेता विरोधी दल राबड़ी देवी. अनुसूचित जाति जनजाति कल्याण मंत्री संतोष कुमार सुमन शामिल हैं।

बिहार विधान परिषद की 11 सीटों पर चुनाव का ऐलान; नीतीश, राबड़ी समेत 10 नेताओं का टर्म पूरा होगा
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,पटनाFri, 23 Feb 2024 03:37 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार विधान परिषद की 11 सीटों के लिए चुनाव का ऐलान कर दिया गया है।  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और विधान परिषद में नेता विरोधी दल राबड़ी देवी समेत 11 एमएलसी का टर्म पूरा हो रहा है। इनकी सदस्यता 6 मई को समाप्त हो रही है। चुनाव के लिए 4 मार्च को नोटिफिकेशन जारी कर दिया जाएगा। 21 मार्च को चुनाव होगा और उसी दिन शाम में परिणाम की घोषणा कर दी जाएगी। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार विधान परिषद का चुनाव का शेड्यूल इस प्रकार होगा।

नोटिफिकेशन-    4 मार्च 

नामांकन की आखिरी तारीख-  11 मार्च 

नामांकन पत्रों की जांच-   12 मार्च 

नाम वापसी की आखिरी तारीख-   14 मार्च 

चुनाव की तारीख-   21 मार्च 

चुनाव परिणाम की घोषणा-   21 मार्च शाम

इन नेताओं का टर्म पूरा हो रहा

आगामी 6 में को जिन नेताओं का कार्यकाल पूरा हो रहा है उनमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, विधान परिषद में नेता विरोधी दल राबड़ी देवी. अनुसूचित जाति जनजाति कल्याण मंत्री संतोष कुमार सुमन, खालिद अनवर, प्रेमचंद्र मिश्रा, पूर्व मंत्री मंगल पांडे, संजय झा, संजय पासवान, रामेश्वर महतो, रामचंद्र पूर्वे और पूर्व मंत्री शाहनवाज हुसैन शामिल हैं। इनमें से संजय झा पहले ही राज्यसभा जा चुके हैं।

टर्म पूरा हो रहे 11सीटों में से जदयू के पास चार, बीजेपी के पास 3, राजद के पास दो, कांग्रेस के पास एक और जीतन राम मांझी की पार्टी हम के पास एक सीट है। सभी दल इसे बरकरार रखने के लिए अपने गठबंधन साथियों के साथ ताकत झोंक देंगे। संख्या बल की बात करें तो विधान परिषद की एक सीट पर जीत के लिए विधानसभा के 21 सदस्यों के वोट की जरूरत है। विधानसभा में संख्या बल के हिसाब से एनडीए आसानी से छह सीटों पर जीत हासिल करता हुआ दिख रहा है। विपक्षी गठबंधन की सभी सीटों पर जीत में थोड़ा संदेह है क्योंकि विश्वास मत से ठीक पहले आरजेडी के तीन विधायक टूटकर जदयू के साथ आ गए। विपक्ष को पांच सीटों पर जीत के लिए 105 विधायकों के वोट की जरूरत होगी जिसके लिए वे एड़ी चोटी एक कर देंगे। फिलहाल  विधानसभा में दलवार स्थिति इस प्रकार है। 78 विधायकों के साथ भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बन गयी है। राजद के 79 विधायकों में से तीन ने जदयू खेमें में आ  जाने से उनकी संख्या अब 79 से घटकर अब 76 रह गई है। एनडीए के जदयू के 45, हम के चार विधायक हैं। महागठबंधन में कांग्रेस के 19, भाकपा माले के 11, माकपा और भाकपा के चार तथा एक निर्दलीय और  एएमआइएएम के एक विधायक हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें