ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारबिहार के शिक्षा विभाग में घमासान! एसीएस केके पाठक पर भड़के मंत्री चंद्रशेखर, भेजा पीत पत्र

बिहार के शिक्षा विभाग में घमासान! एसीएस केके पाठक पर भड़के मंत्री चंद्रशेखर, भेजा पीत पत्र

कि केके पाठक ने एक महीने पहले शिक्षा विभाग के एसीएस का कार्यभार संभाला था। तब से उन्होंने विभाग में कई तरह के बदलाव किए हैं। उन्होंने काम में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की है।

बिहार के शिक्षा विभाग में घमासान! एसीएस केके पाठक पर भड़के मंत्री चंद्रशेखर, भेजा पीत पत्र
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,पटनाWed, 05 Jul 2023 10:12 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के शिक्षा विभाग में मंत्री और आईएएस अधिकारी के बीच घमासान छिड़ गया है। शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने विभाग के एसीएस केके पाठक की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए उन्हें पीत पत्र भेजा है। मंत्री ने अपने पत्र में लिखा कि विभाग के कुछ काम नियमों के मुताबिक नहीं हो रहे हैं। गैजेटेड अफसरों को उनके पद के अनुसार काम नहीं दिए जा रहे हैं। बता दें कि एक महीने पहले ही नीतीश सरकार ने तेजतर्रार छवि वाले आईएएस केके पाठक को शिक्षा विभाग का अपर मुख्य सचिव बनाया था। कार्यभार संभालते ही पाठक एक्शन में आ गए और लापरवाह कर्मचारियों और पदाधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी।

मंत्री चंद्रशेखर ने केके पाठक और निदेशक स्तर के कुछ पदाधिकारियों को पीत पत्र भेजा है। इसमें उन्होंने कहा कि ऐसा देखा जा रहा है कि कई मामलों में सराकर की कार्यसंहिता के हिसाब से काम नहीं किया जा रहा है। राजपत्रित अधिकारियों को भी उनके पद के अनुरूप काम नहीं दिया जा रहा है। विभाग के ऐसे कई अधिकारी हैं, जिनसे उनके पद से नीचे के स्तर के काम लिए जा रहे हैं। यह विभाग के नियमों के अनुकूल नहीं है। 

शिक्षा मंत्री ने अपने पत्र में कहा कि विभाग में ज्ञान से ज्यादा नट बोल्ट टाइट करने, शौचालय सफाई, झाड़ू मारने, ड्रेस पहनने, फोड़ने, डराने, पैंट गीली करने, नकेल कसने, वेतन काटने, निलंबित करने, उखाड़ देने, फाड़ देने जैसे शब्दों का इस्तेमाल हो रहा है। विभाग की कार्यवाही का टीवी पर टेलीकास्ट हो रहा है। यह नियमों के विरूद्ध है। 

बता दें कि केके पाठक ने एक महीने पहले शिक्षा विभाग के एसीएस का कार्यभार संभाला था। तब से उन्होंने विभाग में कई तरह के बदलाव किए हैं। उन्होंने काम में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों, कर्मचारियों और पदाधिकारियों के खिलाफ भी अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की है। औचक निरीक्षण के दौरान हाल ही में अनुपस्थित पाए गए कई शिक्षकों और कर्मचारियों का वेतन रोक दिया गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें