ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारमुसलमानों से माफी मांगें देवेश चंद्र ठाकुर, सीतामढ़ी सांसद को JDU नेता अशफाक करीम ने नसीहत

मुसलमानों से माफी मांगें देवेश चंद्र ठाकुर, सीतामढ़ी सांसद को JDU नेता अशफाक करीम ने नसीहत

अशफाक करीम ने कहा कि यह उनका निजी बयान है। फिर भी नहीं बोलना चाहिए क्योंकि इसका असर पार्टी पर पड़ेगा। नीतीश कुमार ने भी उनके बयान से किनारा कर लिया। देवेश जी को माफी मांग लेना चाहिए।

मुसलमानों से माफी मांगें देवेश चंद्र ठाकुर, सीतामढ़ी सांसद को JDU नेता अशफाक करीम ने नसीहत
Sudhir Kumarलाइव हिन्दुस्तान,पटनाThu, 20 Jun 2024 11:30 AM
ऐप पर पढ़ें

सीतामढ़ी के नवनिर्वाचित सांसद देवेश चंद्र ठाकुर यादव और मुसलमानों का काम नहीं करने वाले अपने बयान से पीछे हट गए हैं। लेकिन इस पर जारी सियासत बदस्तूर जारी है। पूर्व सांसद अशफाक करीम ने देवेश चंद्र ठाकुर पर मुसलमान समाज को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया है। कहा कि उन्हें मुस्लिम समाज से माफी मांगनी चाहिए।  बयान जारी कर जदयू नेता सह पूर्व सांसद ने कहा कि देवेश चंद्र ठाकुर जदयू के वरिष्ठ औ सम्मानित नेता हैं। लेकिन मुस्लिम समाज को लेकर की गई उनकी टिप्पणी पर ऐसा कुछ नहीं कहना चाहिए जिससे उनके सम्मान को ठेस पहुंचे।

अशफाक करीम ने बुधवार को अपने बयान में कहा कि यह उनका निजी बयान है जिससे नीतीश कुमार ने भी किनारा कर लिया है। फिर भी उन्हें पब्लिक डोमेन में ऐसा बयान नहीं देना चाहिए जिससे किसी वर्ग के मान सम्मान को ठेस पहुंचे। उन्हेंने कहा कि मुस्लिम समाज के लोगों पर जो शब्द कहे हैं वे बिल्कुल गलत हैं।  उन्हें पब्लिक डोमेन में माफी मांगना चाहिए।  देवेश चंद्र ठाकुर इस बात को वह स्वीकार करें कि उनसे गलती हुई है।

अशफाक करीम ने कहा कि जेडीयू और  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुस्लिम समाज के लिए बहुत काम किया। यह समाज नीतीश कुमार पर भरोसा करता है। ऐसे में देवेश चंद्र ठाकुर का बयान पार्टी के लिए के हित में नहीं होगा। उनके बयान से पार्टी को नुकसान होगा। साथ ही दावा किया मुस्लिम ने बढ़ चढ़ कर एनडीए को वोट दिया। दूसरी जात के लोगों का समर्थन मिला तभी तो जेडीयू को बड़ी कामयाबी मिली। पार्टी ने 16 में से 12 लोकसभा सीटें जीत कर 75 प्रतिशत उपलब्धि हासिल की। इसलिए उन्हें हर हाल में माफी मांगना चाहिए। नीतीश कुमार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाते कह दिया है कि देवेश चंद्र ठाकुर ने जो कहा है वह उनकी व्यक्तिगत भावना है।

देवेश चंद्र ठाकुर के बयान पर अशफाक करीम से पहले केसी त्यागी ने भी आपत्ति जताई। कहा कि ऐसा नहीं बोलना चाहिए। जीते हुए प्रतिनिधि सबके होते हैं। वहीं प्रवक्ता नीरज ने बचाव किया। बीजेपी नेता गिरिराज सिंह समेत कई लोगों ने देवेश चंद्र ठाकुर का समर्थन किया। लेकिन विवाद बढ़ने पर देवेश चंद्र ठाकुर खुद आगे आए और हालात को संभालने में जुट गए। पहले उन्होंने अपने बयान में नरमी और फिर पीछे हट गए।

दरअसल बीते दिनों सीतामढ़ी में आयोजित आभार सभा में देवेश चंद्र ठाकुर ने भाषण के फ्लो में विवाद बात बोल गए। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी के साथ होने के कारण यादव और मुसलमान समाज ने उन्हें वोट नहीं दिया। उनका कोई भी काम नहीं करेंगे। इन दोनों समाज के मित्रों से चाय मिठाई का संबंध रहेगा पर काम नहीं करेंगे। उन्होंने दुख जताया कि तीर छाप पर वोट देते हुए उन्हें मोदी का चेहरा नजर आता है। तो मुझे भी उनमें लालू यादव का चेहरा और लालटेन दिखता है। बाद में उन्होंने नरमी दिखाते हुए कहा कि उनकी पर्सनल काम नहीं करेंगे। सार्वजनिक महत्व का काम करते रहेंगे। बुधवार को उन्होंने कहा कि मैंने हमेशा जातिवाद से ऊपर उठकर काम किया है, आगे भी करता रहूंगा। मेरे रिश्ते किसी से न पहले खराब थे और न आगे खराब होंगे। उन्होंने कहा कि सीतामढ़ी के सभी मतदाताओं को धन्यवाद देता हूं।   

Advertisement