DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  बिहार में बोरे में बेटे का शव ढ़ोने वाले लाचार पिता की तस्वीर वायरल में कार्रवाई, दो पुलिस अधिकारी सस्पेंड

बिहारबिहार में बोरे में बेटे का शव ढ़ोने वाले लाचार पिता की तस्वीर वायरल में कार्रवाई, दो पुलिस अधिकारी सस्पेंड

कटिहार। एक संवाददाताPublished By: Sunil Abhimanyu
Sun, 07 Mar 2021 04:04 PM
बिहार में बोरे में बेटे का शव ढ़ोने वाले लाचार पिता की तस्वीर वायरल में कार्रवाई, दो पुलिस अधिकारी सस्पेंड

बिहार में दिल को झकझोरने वाले केस बोरे में बेटे का शव ढ़ोने वाले लाचार पिता की तस्वीर की मीडिया की सुर्खियां बनने और वायरल होने के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। पुलिस विभाग ने इस अमानवीयता दिखाने वाले केस में अपने-अपने क्षेत्र के थाने में तैनात दो पुलिस पदाधिकारी को सस्पेंड कर दिया है। कटिहार  एसपी विकास कुमार ने बताया कि पिता द्वारा अपने पुत्र के लाश को बोरे में बंद कर थाना पहुंचने के मामले में दो सहायक अवर निरीक्षक को निलंबित किया गया है। 

उन्होंने बताया कि कुरसेला थाना में पदस्थापित एएसआई नंदलाल चौधरी और गोपालपुर थाना में पदस्थापित सब इंस्पेक्टर राजदीप नयन को निलंबित कर दिया गया है। बताया जाता है कि संबंधित केस में किशोर के शव को देखने के लिए गोपालपुर(भागलपुर) और कुर्सेला(कटिहार) पुलिस भी पहुंची लेकिन शव के सड़गल के कंकाल में बदलने की वजह से अपने साथ नहीं ले गई। अंत में बेबस और लाचार पिता अपने बेटे के शव को बोरे में बंद कर 3 किलोमीटर पैदल चलकर कुरसेला थाना पहुंचे। यह सनसनीखेज मामला भागलपुर जिला के नवगछिया पुलिस जिला के गोपालपुर थाना और कटिहार जिले के कुर्सेला थाना क्षेत्र से जुड़ा हुआ है।

सुशासन में विकास के दावे के बीच सिस्टम की एक शर्मनाक तस्वीर कटिहार से सामने आने पर उसे देखकर पूरे जिले के लोग  ना केवल सहमे बल्कि पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाने लगे। मामले में भागलपुर जिला के पीड़ित लेरू यादव कहते हैं कि गोपालपुर थाना क्षेत्र के तीनटंगा गांव में नदी पार करने के दौरान 13 वर्षीय बेटे हरिओम यादव नाव से गिर गया था और वह लापता था। इस बाबत गोपालपुर थाना में भी गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया गया था लेकिन कुछ पता नहीं चल सका। निजी स्तर पर खोजबीन के दौरान पता चला कि बेटे का शव बगल के ही कटिहार जिले के कुर्सेला थाना क्षेत्र के खेरिया नदी के तट पर उपला रहा है। पता चलने पर जब घाट पर पहुंचा तो बेटे का शव सड़ा-गल चुका था लेकिन शव पर मिले कपड़े और अन्य शारीरिक बनावट के आधार पर उन्होंने अपने बेटे के शव को पहचान लिया। सूचना मिलने के बावजूद उस शव को लाने में न तो भागलपुर जिला के गोपालपुर थाना पुलिस और ना ही कटिहार जिला के कुर्सेला पुलिस कोई संजीदगी दिखाई। ऐसे में एक मजबूर पिता ने शव को बोरे में बंद कर तीन किलोमीटर तक पैदल चलकर थाना लेकर पहुंचे। परेशान पिता ने कहा कि करें तो क्या करें कोई थाना या कोई पुलिस न तो गाड़ी उपलब्ध करवायी और न कोई सहानुभूति दिखाई इसलिए शव को इसी तरह लेकर आना पड़ा।
 

संबंधित खबरें