ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहाररेलवे में बहाली के नाम पर फ्रॉड, सोशल मीडिया पर भर्ती का विज्ञापन निकला फर्जी; RPF ने लिया यह एक्शन

रेलवे में बहाली के नाम पर फ्रॉड, सोशल मीडिया पर भर्ती का विज्ञापन निकला फर्जी; RPF ने लिया यह एक्शन

रेलवे बोर्ड की डीआईजी स्थापना सारिका मोहन ने सभी आरपीएफ पोस्ट प्रभारी को पत्र भेजा है। इसमें सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे अधिूसचना पत्र को फर्जी बताया गया है। आरपीएफ से इसकी जांच करायी जा रही है।

रेलवे में बहाली के नाम पर फ्रॉड, सोशल मीडिया पर भर्ती का विज्ञापन निकला फर्जी;  RPF ने लिया यह एक्शन
Sudhir Kumarसोमनाथ सत्योम,मुजफ्फरपुरWed, 28 Feb 2024 09:41 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में साइबर फ्रॉड का नया कारनामा सामने आया है। अब रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स  में भर्ती के नाम पर बेरोजगारों से ठगी करने की तैयारी साइबर फ्रॉड ने किया था। राज्य के विभिन्न जिलों में सोशल मीडिया पर बहाली का विज्ञापन जमकर वायरल हो रहा है। इसे देखते हुए रेलवे बोर्ड ने स्थिति को स्पष्ट किया है। कहा  गया है कि रेलवे की ओर से आरपीएफ में किसी प्रकार की बहाली को लेकर अधिसूचना जारी नहीं की गई है और न किसी अखबार या इलेक्ट्रोनिक मीडिया पर इस संदर्भ में विज्ञापन या खबर जारी की गई है।

इस संबंध में  रेलवे बोर्ड की डीआईजी स्थापना सारिका मोहन ने सभी आरपीएफ पोस्ट प्रभारी को पत्र भेजा है। इसमें सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे अधिूसचना पत्र को फर्जी बताया गया है। कहा गया है कि आरपीएफ से इसकी जांच करायी जा रही है। साथ ही इस प्रकार की गड़बड़ी फैलाने वालों पर नकेल कसने का निर्देश दिया गया है। डीआईजी स्थापना के द्वारा भेजे पत्र में बताया गया है कि इन दिनों सोशल मीडिया पर आरपीएफ में भर्ती को लेकर एक अधिसूचना जारी होने का हवाला दिया जा रहा है। इसे एक फॉर्मेट पर प्रिंट कर जारी किया गया है। इसमें 452 सब इंस्पेक्टर और 4208 जवानों यानी कुल 4660 पदों पर भर्ती के संबंध में बताया गया है।

साइबर फ्रॉड की बताई जा रही साजिश

बीते तीन-चार दिनों से भर्ती से संबंधित अधिसूचना पत्र सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्म पर वायरल हो रहा है। इसपर पेमेंट गेटवे जैसी तमाम जानकारी दी गयी है। बताया गया है कि यह साइबर फ्रॉड के किसी संगठित गिरोह ने सोशल मीडिया पर साजिशन जारी किया है, ताकि युवा गुमराह होकर भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन करें और ठगी के शिकार बन जाएं।

वाट्सएप ग्रुप में वायरल

आरपीएफ ने समय रहते फ्रॉड के मनसूबे को नाकाम कर दिया। हालांकि सैंकड़ो वाट्सएप ग्रुप में यह विज्ञापन वायरल हो चुका है। बेरोजगारों में इस विज्ञापन से खुशी की लहर थी कि रेलवे ने भर्ती निकाली है। यह चर्चा जब रेलवे बोर्ड तक पहुंची तो जांच की गई और विज्ञापन को फर्जी बताते हुए ठगों को चिन्हित कर कार्रवाई का निर्देश दिया गया है। बोर्ड का पत्र मिलने के बाद आरपीएफ ने जांच तेज कर दी है।


 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें