ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहारदीपांकर भट्टाचार्य बोले- 2024 से पहले सीएम बदलेगी भाजपा, बीजेपी को छोड़े जेडीयू तो माले-लेफ्ट नीतीश के साथ

दीपांकर भट्टाचार्य बोले- 2024 से पहले सीएम बदलेगी भाजपा, बीजेपी को छोड़े जेडीयू तो माले-लेफ्ट नीतीश के साथ

सीपीआई-एमएल के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने बिहार में बढ़ी राजनीतिक हलचल के बीच कहा है कि 2024 के चुनाव से पहले महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की तरह बीजेपी नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद से हटा देगी।

दीपांकर भट्टाचार्य बोले- 2024 से पहले सीएम बदलेगी भाजपा, बीजेपी को छोड़े जेडीयू तो माले-लेफ्ट नीतीश के साथ
Ritesh Vermaएजेंसी,पटना कोलकाताMon, 08 Aug 2022 06:45 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

सीपीआई-एमएल के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने दावा किया है कि अगर नीतीश कुमार की अगुवाई वाली एनडीए सरकार चलती रहती है तो महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की तरह 2024 से पहले बीजेपी नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री की कुर्सी से हटा देगी। बिहार में बीजेपी-जेडीयू गठबंधन में टूट और जेडीयू-आरजेडी महागठबंधन सरकार बनने की अटकलों के बीच माले महासचिव ने कहा है कि अगर जदयू भाजपा का साथ छोड़ती है तो वामपंथी पार्टियां नीतीश कुमार का समर्थन करेंगी। बिहार विधानसभा में लेफ्ट के 16 विधायक हैं जिसमें 12 माले के और 2-2 सीपीआई और सीपीएम के हैं। 

दीपांकर भट्टाचार्य ने पीटीआई से कहा कि अगर जेडीयू बीजेपी का साथ छोड़ती है और एक नई सरकार बनती है तो हम मदद करेंगे। वहीं सीपीएम पोलित ब्यूरो के सदस्य नीलोत्पल बसु ने कहा कि अगर बिहार में नया समीकरण बनता है तो यह अच्छी बात होगी। हम इस बात का स्वागत करेंगे अगर बीजेपी का प्रभाव खत्म किया जाता है। हालांकि बसु ने कहा कि सीपीएम अभी हालात पर नजर रखे हुए है और किसी ऐसा होगा, वैसा होगा जैसे सवाल पर जवाब नहीं देगी। 

नीतीश बदलेंगे बिहार सरकार? जगदानंद सिंह का बड़ा बयान- आरजेडी-जेडीयू का गठबंधन नहीं होगा

बिहार में राजनीतिक माहौल गर्म है और अटकल बहुत तेज है कि नीतीश बीजेपी का साथ छोड़कर आरजेडी नेतृत्व वाले महागठबंधन को साथ लेकर नई सरकार बना सकते हैं। नीतीश की नाराजगी की बात कर रहे लोग गिनती कर रहे हैं कि दिल्ली में सरकार के लगातार चार कार्यक्रमों में बिहार के मुख्यमंत्री नहीं गए।

हर बार लोकसभा चुनाव से पहले जागती है नीतीश की अंतरात्मा, गठबंधन सरकार बदल जाती है, सीएम वही

आरसीपी सिंह के इस्तीफे के बाद शुरू हुए आरोप-प्रत्यारोप और बयानबाजी में जेडीयू अध्यक्ष ललन सिंह ने बीजेपी को बिना नाम लिए लपेट दिया और कहा कि चिराग मॉडल पर जेडीयू के खिलाफ साजिश रची जा रही थी। जेडीयू का आरोप रहा है कि चिराग पासवान को आगे करके जेडीयू को 2020 के विधानसभा चुनाव में हराया गया जिससे उनकी पार्टी कम सीटें जीत पाई। चिराग ने उस चुनाव में बीजेपी की सीट पर लोजपा का कैंडिडेट नहीं दिया था लेकिन जेडीयू की सीटों पर एलजेपी के उम्मीदवार लड़े थे।

epaper