ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारचीन में फैल रहे निमोनिया का कोरोना जैसा खौफ! अलर्ट पर बिहार के अस्पताल, बेड से लेकर दवाई के इंतजाम

चीन में फैल रहे निमोनिया का कोरोना जैसा खौफ! अलर्ट पर बिहार के अस्पताल, बेड से लेकर दवाई के इंतजाम

चीन में फैले निमोनिया को लेकर भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों को अलर्ट जारी किया है। जिसके देखते हुए पटना के अस्पताल अलर्ट पर हैं। बेड से लेकर दवा तक के इंतजाम करने के आदेश दिए हैं।

चीन में फैल रहे निमोनिया का कोरोना जैसा खौफ! अलर्ट पर बिहार के अस्पताल, बेड से लेकर दवाई के इंतजाम
Sandeepप्रधान संवाददाता,पटनाWed, 29 Nov 2023 11:37 AM
ऐप पर पढ़ें

चीन में फैले निमोनिया ने एक बार फिर कोरोना की तरह डर का माहौल कायम कर दिया है। डब्ल्यूएचओ ने चीन के बाद वियतनाम में फैले इस बीमारी को लेकर चिंता जाहिर कर दी है। भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों को अलर्ट पर रहने को कहा है। इसे देखते हुए बच्चों में बीच फैल रहे निमोनिया के प्रकोप को लेकर पटना के अस्पतालों को सतर्क करने का निर्देश जारी किया गया है। यह निर्देश पत्र के माध्यम से राज्य स्वास्थ्य समिति द्वारा सिविल सर्जन कार्यालय को दिया गया है। 

इसके अलावा पीएमसीएच और आईजीआईएमएस को अलर्ट पर रहने तथा शिशु रोग विभाग को संबंधित तैयारी पूरी रखने के निदेश दिए गए हैं। पीएमसीएच में निमोनिया की आवश्यक दवाइयों का भंडारण सुनिश्चित रखने की कवायद शुरू भी कर दी गई है। पीएमसीएच में बच्चा वार्ड में आईसीयू के 16 बेड जबकि आईजीआईएमएस 40 बेड हैं। सिविल सर्जन डॉ. श्रवण कुमार ने बताया कि बुधवार से जिले के सभी प्राथमिक और अनुमंडलीय स्वास्थ्य केंद्रों को निमोनिया को लेकर एलर्ट पर रखा जाएगा। वहां डॉक्टरों की तैनाती और दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी।

पीएमसीएच के एक वरीय शिशु रोग विशेषज्ञ ने बताया कि निमोनिया जैसी बीमारियों में वेंटिलेटर बेड, नेबुलाइजेशन की व्यवस्था होनी जरूरी है। पीएमसीएच में जरूरी सभी व्यवस्था उपलब्ध है। ऐसी ही व्यवस्था जिले के सभी सरकारी अस्पतालों में हो तो बच्चों को राहत मिल सकती है। सिविल सर्जन डॉ. श्रवण कुमार ने बताया कि  सदर व अनुमंडलीय अस्पताल तक कर दी गई थी, उसी तरह निमोनिया की तैयारी भी की जाएगी। अस्पताल में फिलहाल इससे जुड़ी दवाइयों की कोई कमी नहीं है। जरूरी हुआ तो निमोनिया पीड़ित बच्चों को चिन्हित करने और जांच करने के कार्य में तेजी लाई जाएगी।

कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए पीएमसीएच-आईजीआईएमएस, एनएमसीएच जैसे बड़े मेडिकल कॉलेजों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए गए थे। सभी प्लांट पूरी तरह से कार्यरत हैं। इमरजेंसी और शिशु वार्ड में बेड तक ऑक्सीजन की पहुंच पाइपलाइन के माध्यम से किया जाता है। यहां ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता वर्तमान जरूरत से 10 गुना अधिक है। जरूरी हुआ तो जिले के अन्य अस्पतालों में भी यहां से ऑक्सीजन की आपूर्ति हो सकती है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें