ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार'पहले कोई शाम में निकलता था, 2005 में हम आए तो...'; नीतीश ने भीम संसद में लालू-राबड़ी राज की याद दिलाई

'पहले कोई शाम में निकलता था, 2005 में हम आए तो...'; नीतीश ने भीम संसद में लालू-राबड़ी राज की याद दिलाई

नीतीश कुमार ने भीड़ को संबोधित करते हुए कहा कि 2005 में मेरी सरकार बनी। उसके पहले शाम में कोई घर से बाहर नहीं निकलता था। हम जब आए तो सबकुछ ठीक किया। अब रात में भी लोग बेफिक्र होकर घुमते हैं।

'पहले कोई शाम में निकलता था, 2005 में हम आए तो...';  नीतीश ने भीम संसद में लालू-राबड़ी राज की याद दिलाई
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,पटनाSun, 26 Nov 2023 02:43 PM
ऐप पर पढ़ें

संविधान दिवस के मौके पर जेडीयू की ओर से पटना के वेटेनरी कॉलेज के मैदान में भीम संसद का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में जुटी भीड़ से गदगद नीतीश कुमार एक बार फिर लालू यादव और राबड़ी देवी के शासन काल की याद दिलाई। अपने भाषण में मुख्यमंत्री ने शनिवार को बाबू सभागार में आयोजित कार्यक्रम में भीड़ नहीं जुटा पाने के लिए भाजपा को भी लपेटा। उन्होंने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने की मांग उठाते हुए सभी लोगों से सहयोग की अपील की। सीएम ने भीम संसद के कर्ता धर्ता मंत्री अशोक चौधरी की जमकर तारीफ की।

नीतीश कुमार ने भीड़ को संबोधित करते हुए कहा कि 2005 में मेरी सरकार बनी। उसके पहले शाम में कोई घर से बाहर निकलता था क्या? हम जब आए तो सबकुछ ठीक किया। अब देखिए कि देर शाम तक और रात में भी लोग बेफिक्र होकर घुमते हैं। उन्हें कोई डर भय नहीं है।  कितना अच्छा माहौल बन गया है। अब रात में महिलाएं और लड़कियां भी घर से बाहर निकलती हैं। इसी का नतीजा है कि आज के भीम संसद में कितनी बड़ी संख्या में महिलाओं की भागीदारी है।

अपने संबोधन में सीएम ने कहा कि मेरी सरकार बनने से पहले किसी ने दलित-महादलित समाज ध्यान नहीं दिया। उनकी उन्नति और विकास  के लिए कुछ नहीं किया। जब हम आए तो सब काम शुरू कर दिया। इन लोगों के आगे बढ़ने के लिए और बच्चों की पढ़ाई के लिए कितना काम किया। उसका फायदा मिल रहा है कि सब लोग आगे बढ़ रहे हैं।

सभी जानते हैं कि बिहार में 2005 से पहले लंबे समय तक लालू यादव और राबड़ी देवी की सरकार थी। उसके पहले कांग्रेस पार्टी सत्ता में रही। हालांकि नीतीश कुमार ने किसी का नाम नहीं लिया। जननायक कर्पूरी ठाकुर को याद करते हुए नीतीश ने कहा कि वे मुख्यमंत्री के रूप में कितना अच्छा काम कर रहे थे। लेकिन दो ढाई साल में उन्हें हटाने की साजिश की गयी। कहा कि जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह कर्पूरी ठाकुर के शिष्य थे। 

भीम संसद में जुटी भीड़ से नीतीश कुमार बहुत उत्साहित दिखे। कहा कि वेटेनरी कॉलेज के ग्राउंड पर इतनी बड़ी संख्या में कभी लोग नहीं जुटे। उन्होंने मौजूद लोगों को धन्यवाद देते हुए बीजेपी पर करारा प्रहार किया। कहा कि दिल्ली में जिनकी सरकार है और सब जगह अपना प्रचार करते रहते हैं, एक दिन पहले उनका कार्यक्रम बोगस हो गया। दरअसल शनिवार को पटना के बापू सभागार में बीजेपी की ओर से वीरांगना झलकारी बाई जयंती समारोह का आयोजन किया गया था जिसमें सुशील मोदी, नित्यानंद राय, विजय कुमार सिन्हा समेत कई बड़े चेहरे शामिल हुए। लेकिन, भाजपा के इस काय्रक्रम में पार्टी दो सौ की भीड़ भी नहीं जुट पाई। नीतीश कुमार ने पत्रकारों से आग्रह किया कि इसे जरूर छापिएगा।

नीतीश कुमार ने एक बार फिर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि इसके लिए पार्टी विशेष अभियान चलाएगी। सीएम ने भीम संसद में पहुंचे लोगों से इसके लिए समर्थन की मांग की। कहा कि आप लोग हाथ उठाकर समर्थन दीजिए तो हमे ताकत मिलेगी। बिहार की बेहतरी के लिए हम आपके सहयोग से केंद्र सरकार से विशेष राज्य का दर्जा लेकर रहेंगे।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें