DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खुलासा: झारखंड पुलिस के करीबी निकले चेक क्लोन करने वाले जालसाज

पाटलिपुत्र यूनिवर्सिटी के चार करोड़ 57 लाख के जाली चेक को भुनाने पहुंचे जालसाज झारखंड पुलिस के करीबी हैं। जामताड़ा और रांची में रहकर वे पूरे देश के बड़े संस्थानों पर नजर रखते हैं। वहीं से निजी और सरकारी संस्थानों के खातों में सेंध लगायी जाती है। 

यह खुलासा सोमवार  देर रात चेक क्लोन करने वाले जालसाज राजकुमार ने किया। गिरफ्तारी के बाद उसने पुलिस को बताया कि तीन महीने पहले तक वह जामताड़ा के मिहीजाम थाने की गश्ती गाड़ी चलाता था। इसी तरह बाकी के जालसाज भी वहां के कुछ पुलिसवालों के करीबी हैं। इधर, राजकुमार के रांची के मुक्तिशरण लेन, लालपुर स्थित घर पर पुलिस ने छापेमारी की। राजकुमार ने बताया कि सोनू चेक क्लोन गैंग का सरगना है। पुलिस ने सोनू के जामताड़ा के मिहीजाम के कोड़ापाड़ा गांव स्थित घर पर छापेमारी की, वह फरार मिला। दूसरी ओर डीआईजी सेंट्रल रेंज राजेश कुमार के निर्देश पर ‘चेक क्लोन गैंग’ का पर्दाफाश करने के लिये एसआईटी गठित की गई है। 

कॉल डिटेल रिकॉर्ड की पड़ताल 
पत्रकारनगर थानेदार मनोज कुमार ने बताया कि पुलिस राजकुमार के मोबाइल के कॉल डिटेल रिकॉर्ड की पड़ताल कर रही है। सीडीआर की जांच के बाद यह स्पष्ट हो जायेगा कि वह किन लोगों से बातचीत किया करता था। 

इन सवालों के जवाब तलाश रही एसआईटी 
- आखिर जालसाजों को कैसे पता चलता है कि किस संस्थान के कौन से चेक नंबर को भुनाना है? 
- कहीं न कहीं से उन्हें असली चेक मिलता होगा, जिसे देखने के बाद हू-ब-हू नकली चेक तैयार की जाती है। यह सब कुछ कैसे होता है? 
- क्या उस संस्थान के किसी व्यक्ति को जालसाज अपने साथ मिला लेते हैं जहां के खाते में सेंध लगानी होती है या बैंक का ही कोई कर्मी उन्हें चेक और उस पर किये हस्ताक्षर को दिखा देता है? 

पकड़े गये जालसाज को रिमांड पर लेगी पुलिस
पकड़े गये जालसाज को पत्रकारनगर थाने की पुलिस रिमांड पर लेगी। गुरुवार को उसके रिमांड की अर्जी कोर्ट में दी जायेगी। उस दौरान भी राजकुमार से कई सवाल दागे जायेंगे। 

सीसीटीवी कैमरे में अकेले दिखा 
पत्रकारनगर थाने की पुलिस ने मंगलवार को सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के कॉमर्स कॉलेज ब्रांच में लगे सीसीटीवी कैमरे की पड़ताल की। कैमरे में राजकुमार बैंक में अकेले दिखा। जबकि सोमवार को यह बात सामने आयी थी कि सोनू के एक साथ एक महिला और एक अन्य युवक भी था। पुलिस को शक है कि बैंक के बाहर उसके गैंग के अन्य युवक मौजूद थे। उस ओर लगे कैमरे की पड़ताल की जा रही है। 

चेक क्लोन गैंग को पकड़ने के लिये एसआईटी का गठन किया गया है। स्पेशल टीम इस पूरे मामले की छानबीन करेगी। झारखंड सहित अन्य जगहों पर पुलिस कार्रवाई कर रही है ताकि जालसाजों को गिरफ्तार किया जा सके।  
-राजेश कुमार, डीआईजी सेंट्रल रेंज  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Clone check thugs close of Jharkhand Police