ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारचिराग पासवान को मिला पशुपति पारस वाला खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय, बिहार को बदलने की क्षमता वाला विभाग

चिराग पासवान को मिला पशुपति पारस वाला खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय, बिहार को बदलने की क्षमता वाला विभाग

चिराग पासवान को चाचा पशुपति पारस वाला खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है। जो अपार क्षमताओं से भरा है। बिहार में मकई, केला, मखाने, धान की प्रोसेसिंग से रोजगार के अवसर पैदा किए सकते हैं।

चिराग पासवान को मिला पशुपति पारस वाला खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय, बिहार को बदलने की क्षमता वाला विभाग
Sandeepलाइव हिन्दुस्तान,पटनाMon, 10 Jun 2024 10:19 PM
ऐप पर पढ़ें

देश में तीसरी बार मोदी सरकार का गठन हुआ है। साथ ही मंत्रालयों का बंटवारा भी हो गया। बात अगर मोदी कैबिनेट में शामिल बिहार के मंत्रियों की करें तो 8 मंत्रियों को मंत्रालय बाटं दिए गए हैं। जिसमें लोजपा आर के अध्यक्ष चिराग पासवान को अपने चाचा पशुपति पारस वाला मंत्रालय मिला है। चिराग को खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय का प्रभार दिया गया है। 2019 के मोदी कैबिनेट में ये विभाग चिराग के चाचा पशुपति पारस के पास था। ये विभाग संभावनाओं और बिहार को बदलने की क्षमता रखने वाला विभाग है। 

दरअसल चिराग का पैतृक जिला खगड़िया है, जहां मकई की बंपर खेती होती है। वहीं जिस हाजीपुर सीट से चिराग पासवान चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे हैं। वहां केले की बंपर पैदावार होती है। वहीं दरभंगा, मधुबनी और समस्तीपुर जैसे जिलों में मखाने की खेती होती है। ऐसे में फूड प्रोसेसिंग के काफी उद्योग बिहार में लगाए जा सकते हैं। और रोजगार के अवसर पैदा किए जा सकते हैं। 

यह भी पढ़िए- मांझी MSME, ललन पंचायत- पशुपालन, गिरिराज कपड़ा, चिराग खाद्य प्रसंस्करण मंत्री; नित्यानंद, सतीश के मंत्रालय चेक करें

वहीं बिहार में धान की अच्छी पैदावार होती है।लेकिन प्रोसेसिंग दूसरे राज्यों में होती आ रही है। जिसके बाद बिहार के बाजारों में आता है। ऐसे में अगर राज्य में ही धान के  प्रोसेसिंग की व्यवस्था शुरू हो जाए तो रोजगार के साथ-साथ किसानों को उनके उत्पाद की सही कीमत भी मिल सकेगी।। ऐसा ही कुछ हाल मक्का, मखाने और केले का है। अगर इन उत्पादों की फूड प्रोसेसिंग बिहार में हो, तो बिहार के विकास को पंख लग सकते हैं। हालांकि बीते कुछ सालों में इस काम में तेजी भी आई है। लेकिन अभी और फिर सुधार की जरूरत है। 

चिराग पासवान का खाद्य  प्रसंस्ककरण मंत्रालय संभावनओं से भरा हुआ है। जिसे पहले उनके चाचा और RLJP के अध्यक्ष पशुपति पारस संभाल रहे थे। वहीं पिता उनके दिवंगत राम विलास पासवान भी खाद्य आपूर्ति मंत्रालय संभाल चुके हैं। और केंद्रीय मंत्री रहते हुए कई मंत्रालयों को संभालने का जिम्मा उठा चुके हैं।

चिराग के अलावा कैबिनेट मंत्री जीतन मांझी को एमएसएमई, गिरिराज सिंह को कपड़ा उद्योग, ललन सिंह को पंचायती राज और पशुपालन मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है। नित्यानंद राय को दोबारा गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली है। इसके अलावा रामनाथ ठाकुर को  राज्यमंत्री, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय बनाया गया है, सतीश चंद्र दुबे को राज्यमंत्री, कोयला, खनन मंत्रालय और राजभूषण चौधरी को राज्यमंत्री- जलशक्ति मंत्रालय का प्रभार सौंपा गया है।