DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छठ पूजाः औरंगाबाद के देव में छठी मईया को अर्घ्य देने जुटेंगे 10 लाख लोग

देश के अलग-अलग हिस्सों में बने सूर्य मंदिरों का प्रवेश द्वार पूर्व दिशा की ओर होता है, लेकिन...
देश के अलग-अलग हिस्सों में बने सूर्य मंदिरों का प्रवेश द्वार पूर्व दिशा की ओर होता है, लेकिन...

देव सूर्य मंदिर के निर्माण और यहां के पूजन से कई किवदंतियां जुड़ी हुई हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों में बने सूर्य मंदिरों का प्रवेश द्वार पूर्व दिशा की ओर होता है, लेकिन देव सूर्य मंदिर का प्रवेश द्वार पश्चिमाभिमुख है। कहा जाता है कि मुगल शासक औरंगजेब ने अपने शासनकाल में मूर्तियों और मंदिरों को ध्वस्त करने का अभियान छेड़ रखा था। वह देव मंदिर भी तोड़ने पहुंचा लेकिन यहां के लोगों ने उसे छोड़ देने का आग्रह किया। उसने चुनौती दी कि यदि प्रवेश द्वार पूर्व से पश्चिम की ओर हो जाए तो वह इसे ध्वस्त नहीं करेगा। अगले दिन इसका प्रवेश द्वार पश्चिमाभिमुख हो गया जिसके बाद इसे बचा लिया गया।

देव सूर्य मंदिर से सटे दो कुंड हैं। यहां सूर्य कुंड में अघ्र्य देने की परंपरा रही है लेकिन रुद्र कुंड में श्रद्घालु अघ्र्य नहीं देते हैं। पिछले साल अत्यधिक भीड़ होने पर सैकड़ों लोगों ने रुद्र कुंड में भी अघ्र्य दिया था। हालांकि अभी भी यह रुद्र कुंड लोगों के लिए अछूत के बराबर है। सालों भर रुद्र कुंड में पूजा अर्चना और अघ्र्य देने का काम होता है और रुद्र कुंड की ओर लोग झांकने तक नहीं जाते हैं। इस बार रुद्र कुंड में भगवान शिव की आकृति उकेरी जा रही है ताकि लोग आकर्षित हों और यहां अर्ध्य दें। 

16वीं शताब्दी में राजा भैरवेंद्र द्वारा देव सूर्य मंदिर का पुनर्निर्माण कराया गया था। देव मंदिर का निर्माण दो भागों में बंटा हुआ है और इसे शिल्प के लिहाज से अनमोल विरासत बताया जाता है। भगवान सूर्य यहां उदयाचल, मध्याचल और अस्ताचल स्वरूप में है। सूर्य पुराण में इस कथा का जिक्र मिलता है। यह मंदिर दो भागो में है। पहला भाग गर्भ गृह है जिसके ऊपर कमलनुमा शिखर है। दूसरा भाग सामने का मुख मंडप है जिसके ऊपर पिरामिडनुमा छत है।

यह निर्माण नागर शैली की विशेषता है। विभिन्न राज्यों में बने मंदिरों का वास्तु विन्यास कुछ इसी तरह का है। यदि समकालीन बनाए गए मंदिरों से इसकी तुलना की जाए तो खजुराहो के मंदिर से इसकी शैली मेल खाती है। कई अन्य अलंकरण भी दूसरे राज्यों में बने मंदिरों से मेल प्रदान करते हैं।

VIDEO: आठ किलोमीटर की दूरी 20 घंटे में तय कर घाट पहुंची मां काली

चार दिवसीय लोक आस्था का महापर्व कल से शुरू, तैयारी में जुटे व्रती

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:chhath pooja in bihar aurangabad more than 10 lakh people would pray god sun