ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारछपरा हिंसा: चुनाव आयोग ने सारण एसपी गौरव मंगला को हटाया, कुमार आशीष नए आरक्षी अधीक्षक

छपरा हिंसा: चुनाव आयोग ने सारण एसपी गौरव मंगला को हटाया, कुमार आशीष नए आरक्षी अधीक्षक

छपरा हिंसा मामले में सारण के एसपी डॉ गौरव मंगला को हटा दिया गया है। और उनकी जगह मुजफ्फरपुर रेल के एसपी को कमान सौंपी गई है। कल ही एसआईटी ने चुनाव आयोग को रिपोर्ट सौंपी थी

छपरा हिंसा: चुनाव आयोग ने सारण एसपी गौरव मंगला को हटाया, कुमार आशीष नए आरक्षी अधीक्षक
Sandeepहिन्दुस्तान,छपराSun, 26 May 2024 12:45 PM
ऐप पर पढ़ें

छपरा में 20 मई को मतदान के अगले दिन हुई हिंसा मामले में सारण के एसपी डॉ गौरव मंगला पर गाज गिरी है। उन्हें कप्तान के पद से हटाकर मुजफ्फरपुर रेल एसपी डॉ. कुमार आशीष  को सारण कप्तान का प्रभार दिया गया है। डॉ कुमार आशीष 2012 बैच के आईपीएस हैं। रविवार को गृह विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया। वहीं, एसपी गौरव मंगला को पुलिस मुख्यालय में रिपोर्ट करने को कहा गया है। वेअभी पदस्थापन की प्रत्याशा में पुलिस मुख्यालय में रहेंगे।  मालूम हो कि सारण में चुनाव के दौरान हिंसक घटना के बाद आयोग ने ये कदम उठाया है। भारत निर्वाचन आयोग के फैसले  पर ये कार्रवाई हुई है।  

आपको बता दें कल ही इस मामले में कमिश्नर और डीजीआई ने जांच रिपोर्ट चुनाव आयोग को सौंपी गई थी। जिसके बाद से वरीय अधिकारियों से लेकर कई अफसरों पर गाज गिरने की चर्चा तेज हो गई थी। छठे चरण के मतदान के बाद आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में बिहार के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एचआर श्रीनिवास बताया कि अभी जांच रिपोर्ट का अध्ययन किया जा रहा है।

जांच में घटना के दिन से लेकर इस मामले में की गई कार्रवाई तक का उल्लेख किया गया है। इस दौरान किससे क्या चूक हुई इस पर भी फोकस किया गया है। रिपोर्ट में प्रशासन व अन्य लोगों के द्वारा दर्ज कराई गई प्राथमिकी के मामले में भी कई तथ्यों का उल्लेख है। 

यह भी पढ़िए- राबड़ी देवी की सुरक्षा में तैनात एक और सिपाही निलंबित, रोहिणी आचार्य के साथ वीडियो हुआ था वायरल

आपको बता दें छपरा में 20 मई को  मतदान के बाद अगले दिन सुबह हिंसक झड़प में एक आरजेडी समर्थक की गोली लगने से मौत हो गई थी। वहीं, दो अन्य लोग घायल हो गए थे। सारण लोकसभा सीट से आरजेडी प्रत्याशी रोहिणी आचार्य के एक पोलिंग बूथ पर बार-बार जाने से यह विवाद उठा था। दोनों पक्षों की ओर से पुलिस ने एफआईआर दर्ज की थी। हालात तो देखते हुए सारण में दो दिन इंटरनेट भी बैन किया गया था।