ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारछपरा हिंसा: सारण में तैनात रहेगा केंद्रीय बल, STET परीक्षा स्थगित; 23 मई तक इंटरनेट बंद

छपरा हिंसा: सारण में तैनात रहेगा केंद्रीय बल, STET परीक्षा स्थगित; 23 मई तक इंटरनेट बंद

छपरा में मतदान के बाद दो गुटों के बीच हुई गोलीबारी के बाद पुलिस मुख्यालय ने केंद्रीय बलों को तैनात रखने का निर्देश दिया है। सारण जिले में 23 मई तक के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद करने का आदेश दिया है।

छपरा हिंसा: सारण में तैनात रहेगा केंद्रीय बल, STET परीक्षा स्थगित; 23 मई तक इंटरनेट बंद
Malay Ojhaहिन्दुस्तान,पटनाTue, 21 May 2024 09:53 PM
ऐप पर पढ़ें

सारण लोकसभा के छपरा शहर में मतदान के बाद दो गुटों के बीच हुई गोलीबारी के बाद पुलिस मुख्यालय ने केंद्रीय बलों को तैनात रखने का निर्देश दिया है। स्थिति सामान्य होने तक संवेदनशील स्थानों को चिह्नित करते हुए खासतौर से रैफ और सीआरपीएफ के जवानों की तैनाती करने के लिए कहा गया है। वहीं गृह विभाग ने सारण जिले में 23 मई तक के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद करने का आदेश दिया है। इसके अलावा बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा संचालित माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा-2024 (प्रथम) के तहत 22 एवं 23 मई को सारण जिला में होने वाली परीक्षा स्थगित कर दिया गया है।

मंगलवार को गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव (एसीएस) प्रत्यय अमृत की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि उपलब्ध इनपुट और डीएम की रिपोर्ट के आधार पर इस क्षेत्र में इंटरनेट सेवा बंद करने का निर्णय लिया गया है। रिपोर्ट में ऐसी आशंका जताई गई है कि सारण में असामाजिक तत्वों की तरफ से लोगों को उकसाने और असंतोष फैलाने के लिए आपत्तिजनक सामग्री इंटरनेट माध्यम से प्रसारित की जा सकती है। इससे क्षेत्र में तनाव उत्पन्न हो सकता है। शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए यह निर्णय लिया गया है। इंटरनेट सेवा बंद करने से संबंधित आदेश सभी इंटरनेट सेवा प्रदाताओं (आईएसपी) को दे दिया गया है। इससे सोशल साइट का दुरुपयोग नहीं हो सकेगा।

छपरा हिंसा पर राजीव प्रताप रूडी बोले- सेल्फ डिफेंस में चली गोलियां, प्रताड़ित हो रहे बेकसूर लोग

गौरतलब है कि सारण संसदीय क्षेत्र में सोमवार को हुए मतदान के दूसरे दिन मंगलवार को शहर के भिखारी ठाकुर चौक पर राजद और भाजपा समर्थक आपस में भिड़ गए। इस हिंसक झड़प में एक राजद समर्थक की गोली मार कर हत्या कर दी गयी जबकि दो अन्य गोली लगने से गंभीर रूप से जख्मी हैं। दोनों ओर से कांच की बोतलें भी चलीं। घायलों को पीएमसीएच (पटना) में भर्ती कराया गया है, जिसमें एक की स्थिति नाजुक है। इस मामले में भाजपा नेता रमाकांत सिंह सोलंकी और उनके भतीजे रविकांत उर्फ रामप्रताप सिंह को पुलिस ने हिरासत में लिया है। उनके घर से पुलिस ने हथियार व कारतूस जब्त किया है। घटना के बाद लापरवाही बरतने के आरोप में टाउन थाने के थानेदार को लाइन हाजिर किया गया है और नये थानेदार के लिए आयोग को प्रस्ताव भेजा गया है। यहां राजद व भाजपा समर्थकों के बीच तनावपूर्ण स्थिति है। घटनास्थल पर पुलिस कैंप कर रही है। 

छपरा हिंसा: रोहिणी आचार्य के साथ मतदान केंद्रों पर किस अधिकार से घूम रहे थे भोला यादव? जेडीयू का आरजेडी से सवाल

सारण में एसटीईटी की परीक्षा स्थगित
बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा संचालित माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा-2024 (प्रथम) के तहत 22 एवं 23 मई को सारण जिला में होने वाली परीक्षा स्थगित कर दिया गया है। सारण जिला के सभी चार परीक्षा केंद्रों पर आयोजित परीक्षा को अपरिहार्य कारणवश स्थगित कर दिया गया है। उक्त परीक्षा के आयोजन  की तिथि बाद में प्रकाशित की जाएगी। उल्लेखनीय है कि समिति द्वारा एसटीईटी, 2024 (प्रथम) के तहत पेपर — 1 (वर्ग 9—10) के सभी विषयों की परीक्षा का आयोजन 18 मई से 29 मई  तक राज्य के विभिन्न जिलों में किया जा रहा है।

बीजेपी के गुंडों ने मुझे गालियां दीं, जानलेवा हमला हुआ; रोहिणी आचार्य ने छपरा बवाल पर क्या-क्या कहा?

रोहिणी ने सारण हिंसा के घायलों का हालचाल लिया, भाजपा पर बरसीं
सारण से राजद प्रत्याशी रोहिणी आचार्य मंगलवार को पीएमसीएच पहुंचीं और छपरा में हुई हिंसा के दौरान घायल लोगों का हालचाल जाना। इस दौरान मीडिया से बातचीत में जमकर भाजपा पर बरसीं। कहा कि भाजपा के लोग डरे हुए हैं। इसी वजह से इस तरह की हिंसा पर उतर आए हैं। छपरा की हिंसा में उनके एक कार्यकर्ता की मौत हुई है और कई घायल हुए हैं। इस मामले में उन्हें न्याय चाहिए। भाजपा के समर्थकों को गुंडों की संज्ञा देते हुए कहा कि इन्हें सबक मिलना चाहिए। इस घटना को अंजाम देने वालों पर एफआईआर होनी चाहिए। इन्हें पकड़कर जेल में डाल देना चाहिए। 

सारण के डीआईजी, डीएम व एसपी के साथ घटना की समीक्षा की गयी है। दोषियों को चिह्नित कर जल्द गिरफ्तार करने का आदेश दिया गया है। इंटरनेट सेवा बंद होने के बावजूद सारण से जुड़े मामले को लेकर किसी भी माध्यम से अफवाह या भ्रम फैलाने वालों पर भी नजर रखने का निर्देश दिया गया है।
- संजय कुमार सिंह, एडीजी, विधि व्यवस्था