DA Image
1 अप्रैल, 2020|10:03|IST

अगली स्टोरी

कोरोना वायरस से निपटने को गंभीर है केंद्र और राज्य सरकार: सुशील मोदी

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि कोरोना वायरस से जूझने के लिए केंद्र और राज्य सरकार गंभीरता से काम कर रही है। एक ओर जहां केंद्र सरकार ने गरीबों के लिए 1 लाख 70 हजार करोड़ के राहत पैकेज की घोषणा की,वहीं बिहार सरकार ने दिल्ली और अन्य स्थानों पर फंसे मजदूरों को उनके स्थान पर ही भोजन-आवासन की व्यवस्था के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष से 100 करोड़ रुपये दिये। पूरा शासन तंत्र कोरोना को मानव के प्रति करुणा से हराने के प्रधानमंत्री मोदी के मंत्र के अनुरूप काम कर रहा है। लॉकडाउन के कठिन दिनों में गरीबों की मदद करना समाजवाद है, लेकिन कांग्रेस इसमें भी पूंजीवाद सूंघ रही है।

गुरुवार को ट्वीट कर उपमुख्यमंत्री ने कहा कि लालू प्रसाद जिन जन-धन खातों का विरोध कर रहे थे, उन्हीं खातों के जरिये 30 करोड़ गरीबों को बिना कमीशनखोरी के सब्सिडी और सरकारी सहायता मिल रही है। अब  लॉक डाउन के दौरान मदद के लिए हर खाते में पांच-पांच सौ रुपये भी आएंगे। जो लोग जेल के भीतर से या बिहार के बाहर से ट्वीट कर रहे हैं, उन्हें गरीबों के साथ खड़ी सरकार के काम दिखाई नहीं पड़ते हैं। 

कोरोना के खिलाफ लड़ाई हम अवश्य जीतेंगे : अश्विनी चौबे
केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने  कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना को हम सभी संकल्प व संयम के साथ हराएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो आह्वान किया है, उसका अक्षरश : पालन करते हुए घर में ही रहेंगे। अपने और अपने परिवार जनों को सुरक्षित रखेंगे। 21 दिनों की लक्ष्मण रेखा को पार नही करने के संकल्प को हम सबको पूरा करना है। हम सभी को सुरक्षित और स्वस्थ रहना है। 

गुरुवार को जारी बयान में उन्होंने कहा कि खाद्य पदार्थों से लेकर दवाइयों एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं की  देश में कमी नहीं है। पैनिक होने की जरूरत नहीं है। सरकार सभी का भरपूर ख्याल रख रही है।  स्लम , गांव या  शहर सभी जगह विशेष ध्यान सरकार द्वारा रखा जा रहा है। आपसे विनती है कि आप सभी केंद्र एवं राज्य सरकारों के दिशा निर्देशों का पालन करें।  कोरोना के खिलाफ हम सभी इस जंग को हर हाल में जीत लेंगे।

कहीं भी पेयजल की समस्या नहीं आने दें : मंत्री
लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण मंत्री विनोद नारायण झा ने विभागीय पदाधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दिया है कि राज्य में कहीं पर भी पेयजल सी समस्या नहीं आने दें। सभी कार्यपालक अभियंता ड्यूटी पर रहते हुए निरंतर इसकी मॉनिटरिंग करें और सुनिश्चत हो कि कहीं भी पेयजल की दिक्कत नहीं आए। सभी जलापूर्ति योजनाएं, चापाकलों और टैंकरों के माध्यम से पेयजल की निर्बाध व्यवस्था की जाए। सभी पदाधिकारी अपने जिलाधिकारी से संपर्क बनाकर जलापूर्ति से संबंधित हर संभव व्यवस्था करें। उन्होंने विभागीय कर्मियों को स्वयं भी कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर अपनी सुरक्षा के लिए सजग रहने को कहा है। यह भी कहा है कि इस विश्वव्यापी संकट का सामना धैर्य, संयम और सावधानी के साथ सभी को मिलकर करना है। 

बिहार के लोगों को घबराने की जरूरत नहीं : जदयू
जदयू प्रवक्ता अरविंद निषाद ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बिहारवासियों को घबराने की जरूरत नहीं है। अचानक आई इस विशेष परिस्थिति में लोगों की हर संभव मदद में बिहार सरकार एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प्रयासरत हैं। बिहारवासी धैर्य से लॉक डाउन का पालन करें ताकि सभी स्वास्थ्य रह सकें। 
जदयू प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जो कहते हैं उसे पूरा भी करते हैं। बिहार के बाहर रहने वालों के लिए 100 करोड़ रुपए निर्गत कर इसे फिर साबित किया कि राज्य के खजाने पर पहला हक आपदा पीडि़तों का है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Center and Bihar government are serious to deal with corona virus Sushil Modi