DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › पंचायत चुनाव: समस्तीपुर में इस वजह से एक मुखिया प्रत्याशी तीन साथियों के साथ हो गया गिरफ्तार, अन्य समर्थकों को पुलिस खदेड़ रही है
बिहार

पंचायत चुनाव: समस्तीपुर में इस वजह से एक मुखिया प्रत्याशी तीन साथियों के साथ हो गया गिरफ्तार, अन्य समर्थकों को पुलिस खदेड़ रही है

लाइव हिन्दुस्तान,समस्तीपुरPublished By: Sudhir Kumar
Sat, 18 Sep 2021 01:56 PM
पंचायत चुनाव: समस्तीपुर में इस वजह से एक मुखिया प्रत्याशी तीन साथियों के साथ हो गया गिरफ्तार, अन्य समर्थकों को पुलिस खदेड़ रही है

पंचायत चुनाव को भयमुक्त, प्रभावमुक्त और स्वच्छ रखने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग एक्शन में है। लेकिन पंचायती राज प्रतिनिधि पद पर पहले से काबिज प्रत्याशी चुनाव जीतने के लिए अभी से ही गैर कानूनी हथकंडे अपना रहे हैं। जिसमें शराब की पार्टी भी शामिल है। समस्तीपुर से एक निवर्तमान मुखिया सह मुखिया प्रत्याशी का एक ऐसा ही सनसनीखेज  कारनामा सामने आया है। मामला उजागर होने के बाद पुलिस ने उसे कई साथियों के साथ गिरफ्तार कर लिया है। जबकि एक दर्जन लोगों की गिरफ्तारी के लिए सघन छापेमारी चल रही है। मामला मुफस्सिल थाना क्षेत्र के करपुरीग्राम का है।

वीडियो से मामला हुआ उजागर

चुनाव की अधिसूचना के साथ ही पूरे राज्य में आदर्श आचार संहिता लागू है। इसमें शराब पर पूरी पाबंदी है। बिहार में पहले से भी शराब बंदी है। ऐसे में मुखिया पर पद पर रहते हुए इस प्रत्याशी द्वारा शराब पार्टी आयोजित किए जाने का मामला चर्चा में है। इसका खुलासा तब हुआ जब उस पार्टी में शामिल एक व्यक्ति ने इसका वीडियो और फोटो बना कर पुलिस को भेज दिया। 

वीडियो देखकर पुलिस हुई गंभीर

वीडियो सामने आते ही पुलिस गंभीर हो गई और मुखिया प्रत्याशी संजीव पासवान के साथ उसके समर्थक सोनू सिंह, अजय कुमार और मनोज साह को गिरफ्तार कर लिया। इसमें मुख्य रूप से शामिल चंदन सिंह, पिंटू सिंह और धीरज कुमार समेत एक दर्जन लोगों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है। जिले के डीएसपी सदर मोहम्मद सेहवान हबीब ने कहा कि वीडियो लगभग 1 सप्ताह पुराना बताया जा रहा है। 

आरोपी के कॉल लिस्ट से पार्टी में शामिल होने वालों की हो रही तलाश

डीएसपी का कहना है कि शराब और रुपए के बल पर मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के लिए मीटिंग बुलाई गई थी। संजीत पासवान का यह कृत्य आदर्श आचार संहिता का खुल्लम खुल्ला उल्लंघन है। बिहार में शराबबंदी है। इसलिए सामान्य दिनों में भी शराब पीना मना है। पुलिस ने मुखिया और उसके साथियों का मोबाइल भी जप्त कर लिया है।  मोबाइल से यह पता लगाया जा रहा है कि पार्टी के दिन किन किन लोगों को फोन किया गया था। पुलिस उन तमाम लोगों से पूछताछ करेगी जिनके पार्टी में शामिल होने की थोड़ी भी संभावना बनती है।
 

संबंधित खबरें