ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारसेक्स से मना करने पर हैवानियत, सिंदूर डाल ब्लैकमेलिंग; मुजफ्फरपुर के DBR नेटवर्किंग का 4 राज्यों में जाल

सेक्स से मना करने पर हैवानियत, सिंदूर डाल ब्लैकमेलिंग; मुजफ्फरपुर के DBR नेटवर्किंग का 4 राज्यों में जाल

नौकरी के नाम पर फंसाई गई लड़कियों का यौन उत्पीड़न किया जाता था। सेक्स के लिए तैयार नहीं होने पर बेल्ट से पीटा जाता था। डीबीआर यूनिक नेकटवर्किंग का जाल 4 राज्यों के 72 जिलों में फैला है।

सेक्स से मना करने पर हैवानियत, सिंदूर डाल ब्लैकमेलिंग; मुजफ्फरपुर के DBR नेटवर्किंग का 4 राज्यों में जाल
Sudhir Kumarहिन्दुस्तान,मुजफ्फरपुरThu, 20 Jun 2024 09:28 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित डीबीआर यूनिक नेटवर्किंग कंपनी में नौकरी के नाम पर शोषण का शिकार हुई दो युवतियों ने पुलिस को दिए बयान में कई खुलासे किए हैं। अहियापुर थाने में दर्ज मामले की मुख्य गवाह दन दोनों युवतियों ने बुधवार को पुलिस को बताया कि डीबीआर यूनिक नेटवर्किंग कंपनी ने चार राज्यों के 72 जिलों में अपना नेटवर्क फैला रखा है। कंपनी के अधिकारियों की बात नहीं मानने या शोषण का विरोध करने वाली लड़कियों के साथ बर्बरता की हदें पार कर दी जाती थी। लड़कियों को न सिर्फ मारा पीटा जाता था, बल्कि उन्हें हैवानियत का भी शिकार होना पड़ता था। सारण और मीनापुर क्षेत्र की इन दोनों युवतियों ने परिवाद दायर करने वाली पीड़िता के आरोपों की पुष्टि भी की है। शोषण और बर्बरता की इस घटना के वायरल वीडियो में यह दोनों युवतियां प्रताड़ित होती दिख रही हैं। वीडियो में इन्हें बेल्ट और थप्पड़ से मारा जा रहा है।

मामले के आईओ जीतेंद्र महतो ने बुधवार को दोनों को थाने पर बुलाकर गवाही के रूप में बयान लिए। दोनों का बयान केस डायरी में दर्ज कर कोर्ट में पेश किया जाएगा। इसके अलावा, पुलिस ने पीड़िता के भाई और छपरा के एक अन्य गवाह का भी बयान लिया है। सारण की युवती ने पुलिस को बताया है कि उसे हाजीपुर में रखा गया था। उसने बताया कि वायरल वीडियो में दिख रहे लोग मुझसे और एक अन्य लड़के से मारपीट कर रहे हैं। उसने हरेराम कुमार, तिलक कुमार सिंह, विजय गिरि, अजय प्रताप सिंह और नरू आलम पर मारपीट का आरोप लगाया है। ये पांचों कंपनी के अधिकारी हैं। इनमें तिलक सिंह गिरफ्तार हो चुका है। युवती ने बताया है कि कंपनी में जिसने भी अधिकारियों के मन की बात पूरी नहीं की, उसे बर्बरता का शिकार होना पड़ा। मीनापुर क्षेत्र की युवती ने पुलिस को बताया है कि उससे गलत करने की कोशिश की गई। जब उसने इंकार किया तो उसे टार्गेट पूरा नहीं होने का बहाना बनाकर बेल्ट से पीटा गया। उसने आरोप लगाया है कि उसे राजेश यादव ने बेल्ट से मारा था। उसने बताया कि उसके जैसी कई युवतियों को इसी तरह पीटा जाता था। यौन शोषण के खिलाफ अहियापुर थाने में केस दर्ज कराने वाली सारण की पीड़िता ने इन दोनों को केस में गवाह बनाया है।

छापा पड़ा तो भेज दिया बाहर, वहां भी हुआ शोषण 

अहियापुर थाना क्षेत्र के बखरी में 19 मई 2023 को छापेमारी के बाद कई किशोरियों को मुजफ्फरपुर से हाजीपुर स्थित कार्यालय में शिफ्ट कर दिया गया था। यौन शोषण का केस दर्ज कराने वाली सारण की पीड़िता ने यह बात पुलिस को दिए अपने बयान में कही है। उसने बताया है कि हाजीपुर स्थित कार्यालय में भी उसे यौन हिंसा का शिकार बनाया गया। इधर, गवाह बनाई गई युवतियों में से एक ने बताया है कि हाजीपुर में उसे जिस कमरे में रखा गया था, वहां 10 लड़कियां और थीं।

कंपनी के अधिकारी का नंबर ब्लॉक कर देने पर उसे और एक युवक को तिलक सिंह व अन्य ने बुरी तरह पीटा था। टार्गेट पूरा नहीं होने पर युवकों को भी बेरहमी से पीटा जाता था। ठगी के साथ मारपीट लड़के इसलिए सहते थे क्योंकि उन्हें अगले माह का वेतन मिलने की उम्मीद रहती थी। जब कई माह तक वेतन नहीं मिलता था तब कई जगह कंपनी के अधिकारियों पर एफआईआर कराई।

मांग में सिंदूर डालकर देते हैं झांसा

यौन शोषण की शिकार युवती जब पुलिस के पास जाने की बात कहती या अन्य तरीके से विरोध शुरू करती थी तो उसे शादी करने का झांसा भी दिया जाता था। ऑफिस में ही युवती के मांग में सिंदूर डालकर उसे मना लिया जाता था। मामला दर्ज कराने वाली पीड़िता ने इसका खुलासा किया था। अब मामले में एक नया ऑडियो वायरल हुआ है। इससे भी इस तरह की बात सामने आ रही है। वायरल ऑडियो में कथित तौर पर कंपनी के एक बड़े अधिकारी और शोषण का शिकार हुई एक युवती के बीच की बातचीत का बताया जा रहा है। इसमें युवती उक्त अधिकारी से कह रही है कि मांग में सिंदूर डाला है तो अब सबको पति के रूप में तुम्हारा नाम ही बताऊंगी। इस पर वह अधिकारी सकपका रहा है। ‘हिन्दुस्तान’ इस वायरल ऑडियो की सत्यता की पुष्टि नहीं करता है।

पांच दिनों से पीड़िता अहियापुर थाने में

सारण की पीड़िता बीते पांच दिनों से अहियापुर थाने में रखी गई है। उसका भाई भी थाना में ही है। लगातार पुलिस के बीच रह रही युवती ने कोर्ट में बयान व मेडिकल के बाद बुधवार को थाना से जाना चाहा। उससे कहा गया कि यहां से उसे सीधे घर जाना होगा। हालांकि, देर रात तक युवती को थाने से नहीं छोड़ा गया था। पुलिस उसे गुरुवार को सारण स्थित घर पहुंचा सकती है।

वीडियो वायरल करने की देते थे धमकी

बर्बरता की शिकार एक युवती ने बयान में बताया है कि कंपनी से जुड़ने वाली युवतियों और लड़कियों का वीडियो बना लिया जाता था। उन्हें धमकी दी जाती थी कि टास्क पूरा नहीं किया तो वीडियो वायरल कर दिया जाएगा। आशंका है कि शोषण और ब्लैकमेलिंग के कई और वीडियो हो सकते हैं। आरोपितों की जांच में ऐसे वीडियो सामने आ सकते हैं।

बीते साल 19 मई 2023 को अहियापुर के सिपाहपुर में छापेमारी की गई, तब पुलिस ने इस सेंटर के बंद कर दिए जाने का दावा किया था। लेकिन, जब तीन दिन पहले शोषण का शिकार बनी युवती को साथ लेकर पुलिस टीम उसी भवन में पहुंची तो वहां नाम बदलकर फिर से सेंटर चलाया जाना पाया गया। सेंटर में अंदर पुलिस ने डीबीआर यूनिक का नाम लिखा ब्लैक बोर्ड जब्त किया था। इससे आशंका जताई जा रही हैकि बीते साल हुई छापेमारी के बाद कंपनी यहां छद्म नाम से फिर से धंधा कर रही थी।

सात जिलों में दर्ज मामलों की जानकारी जुटा रही पुलिस

डीबीआर यूनिक नेटवर्किंग कंपनी के खिलाफ बिहार के सात जिलों में मामले दर्ज हैं। मुजफ्फरपुर पुलिस सभी जिलों में कंपनी पर चल रहे मामलों में कार्रवाई की जानकारी जुटा रही है। पुलिस ने सातों जिले की पुलिस से संपर्क साधा है। रक्सौल थाना में झारखंड के दुमका जिले की किशोरी ने यौन शोषण का मामला दर्ज कराया था। इस केस में कार्रवाई का भी पुलिस ब्योरा जुटा रही है। पुलिस के अनुसार औरंगाबाद, गया, हाजीपुर, दरभंगा, सारण और गोपालगंज में भी कंपनी के कर्मियों के खिलाफ नौकरी के नाम पर ठगी व शोषण की एफआईआर दर्ज है।