ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारदो-दो 4 तो हो गया, बाकी 5 को कब? सम्राट चौधरी ने समझाया लालू परिवार के लिए आरक्षण का मतलब

दो-दो 4 तो हो गया, बाकी 5 को कब? सम्राट चौधरी ने समझाया लालू परिवार के लिए आरक्षण का मतलब

लालू यादव ने पहले पत्नी को सीएम बनाया उसके बाद बड़ी बेटी मीसा भारती को राज्यसभा भेजने का काम किया। अब सिंगापुर की टूरिस्ट बेटी को सीधे छपरा के मैदान में उतार दिया है। इससे पहले बेटों को मंत्री बनाया।

दो-दो 4 तो हो गया, बाकी 5 को कब? सम्राट चौधरी ने समझाया लालू परिवार के लिए आरक्षण का मतलब
Sudhir Kumarलाइव हिन्दुस्तान,पटनाWed, 17 Apr 2024 02:15 PM
ऐप पर पढ़ें

2024 के लोकसभा चुनाव में परिवारवाद पर जमकर राजनीति हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर एनडीए के सभी नेता लालू प्रसाद यादव समेत इंडिया ब्लॉक के कई नेताओं पर परिवारवाद की राजनीति करने का आरोप लगा रहे हैं। राजद की ओर से समय-समय पर एनडीए नेताओं को इस पर जवाब भी दिया  जा रहा है। एक बार फिर भाजपा ने लालू यादव पर अपने बेटे बेटियों को चुनाव का टिकट दिए जाने को लेकर जुबानी हमला किया है। सुपौल में एक सभा को संबोधित करते हुए बिहार प्रदेश अध्यक्ष और नीतीश सरकार के डिप्टी सीएम सम्राट चौधरी ने कहा कि दो-दो चार तो हो गया, बाकी बच गए पांच। लालू जी बताएं उन्हें कब टिकट देंगे।

बुधवार को सम्राट चौधरी एनडीए के सहयोगी चिराग पासवान और उपेंद्र कुशवाहा के साथ गठबंधन के उम्मीदवार दिलेश्वर कामत के नामांकन में सुपौल गए थे। नॉमिनेशन के बाद जनसभा का आयोजन किया गया जिसे नेताओं ने संबोधित किया। इसी दौरान सम्राट चौधरी ने कहा कि लालू प्रसाद यादव  के लिए आरक्षण का मतलब होता है कि परिवार के लोगों को पहले टिकट दे दिया जाए। सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि एक बेटी जब लोकसभा चुनाव हार गई तो  राज्यसभा का टिकट देकर दिल्ली में पहुंचा दिया गया। अब एक दूसरी टूरिस्ट बेटी सिंगापुर से सीधे छपरा आई है। उसे छपरा की बेटी बताते हुए स्थानीय लोगों से आशीर्वाद देने की बात कही जा रही है। अब जरा सोचिए कि छपरा की बेटी को न्याय मिलेगा या लालू यादव की बेटी को। 

बिहार बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि दो और दो चार तो हो गया लेकिन, जो पांच बेटियां बच गई हैं उन्हें विधानसभा का टिकट कब देंगे, यह बात लालू प्रसाद यादव बताएं नहीं तो हम लोग तब तक आंदोलन करते रहेंगे।  सम्राट चौधरी ने समझाया कि लालू प्रसाद यादव ने जेल जाने से पहले मुख्यमंत्री की अपनी कुर्सी पर पत्नी राबड़ी देवी को बैठाया।  फिर बेटी मीसा भारती को लोकसभा भेजने में कामयाब नहीं रहे तो राज्यसभा से टिकट देकर भेज दिया।  उसके बाद अपने दोनों बेटे तेज प्रताप यादव और तेजस्वी यादव को विधायक बनाकर मंत्री बना दिया। फिर 2024 के चुनाव में सिंगापुर में रहने वाली बेटी रोहिणी आचार्य को सारण लोकसभा सीट का टिकट देकर दिल्ली भेजने की तैयारी में लगे हैं। 

इससे पहले सभा को संबोधित करते हुए उपेंद्र कुशवाहा ने जहां नीतीश कुमार की जमकर तारीफ की तो लालू प्रसाद यादव के मुख्यमंत्रीकाल के जंगल राज की याद दिलाकर उनके उम्मीदवारों को वोट नहीं देने की अपील की। उन्होंने कहा कि वोट देते समय 2005 के पहले और 2005 के बाद बिहार की स्थिति को जरा याद कर लेंगे।  नीतीश कुमार ने पिछड़े और दलित समाज को जितना सम्मान दिया उतना किसी और ने नहीं दिया।  कुशवाहा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश का मान सम्मान दुनिया भर में बढ़ाने का काम किया है।  वहीं लोजपा रामविलास के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि 2024 में केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बने इसके लिए हम बिहारी पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। काफी समय के बाद बिहार को डबल इंजन की सरकार मिली है बिहार विकसित राज्य नहीं बन पाया क्योंकि हम लोगों ने निरंतर विरोधाभासी सरकारें बनाने का काम किया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें