ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारतख्ती उड़ाएंगे तो उठाकर फेंका ही जाएगा; विपक्षी सांसदों के निलंबन पर बोले बीजेपी सांसद निरहुआ

तख्ती उड़ाएंगे तो उठाकर फेंका ही जाएगा; विपक्षी सांसदों के निलंबन पर बोले बीजेपी सांसद निरहुआ

भोजपुरी एक्टर सह बीजेपी नेता निरहुआ ने कहा कि विपक्षी सांसद अगर संसद में हंगामा करेंगे तो उन्हें निलंबित किया ही जाएगा। उन्हें जनता ने कामकाज के लिए चुनकर भेजा है लेकिन वे सदन में तख्ती उड़ा रहे हैं।

तख्ती उड़ाएंगे तो उठाकर फेंका ही जाएगा; विपक्षी सांसदों के निलंबन पर बोले बीजेपी सांसद निरहुआ
nirahua file photo
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,पटनाTue, 19 Dec 2023 06:08 PM
ऐप पर पढ़ें

भोजपुरी स्टार एवं बीजेपी सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ ने सांसदों के निलंबन के मुद्दे पर विपक्ष पर हमला बोला है। उन्होंनें कहा कि संसद के अंदर अगर सांसद तख्ती उड़ाएंगे, तो उन्हें उठाकर बाहर फेंका ही जाएगा। निरहुआ ने INDIA गठबंधन की बैठक पर तंज कसते हुए कहा कि पहले यह तो तय कर लें कि विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार कौन होगा।

भोजपुरी एक्टर एवं बीजेपी सांसद निरहुआ मंगलवार को पटना पहुंचे। एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने संसद से विपक्षी सांसदों के निलंबन पर बयान दिया। उन्होंने कहा कि जनता अनमोल वोट देकर नेताओं को संसद में भेजती है। मगर विपक्षी सांसद संसद में हंगामा कर रहे हैं। सदन के अंदर तख्ती उड़ाएंगे तो कार्रवाई होगी। संसद में जनता ने उन्हें काम करने के लिए भेजा है न कि तख्ती उड़ाने के लिए। तख्ती उड़ाएंगे तो उठाकर फेंका ही जाएगा।

INDIA गठबंधन की बैठक पर निरहुआ ने कहा कि विपक्षी गठबंधन पहले तय कर ले कि उनकी ओर से प्रधानमंत्री कौन बनेगा। क्योंकि, बीजेपी आश्वस्त है कि नरेंद्र मोदी ही तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री बनेंगे। दिल्ली में INDIA गठबंधन की मंगलवार को चौथी बैठक का आयोजन किया गया। इसमें राहुल गांधी, अखिलेश यादव, नीतीश कुमार, लालू यादव, तेजस्वी यादव, अरविंद केजरीवाल समेत कई विपक्षी नेता शामिल हुए हैं।

बता दें कि संसद के शीतकालीन सत्र में भारी हंगामा मचा हुआ है। लोकसभा और राज्यसभा से सोमवार और मंगलवार को 141 सांसदों को निलंबित कर दिया गया। सरकार की ओर से आरोप लगाए गए कि विपक्ष सदन को चलने नहीं दे रहा है। इसलिए यह कार्रवाई की गई। वहीं, विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने इसे लोकतंत्र की हत्या करार दिया है।