ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारविवादों में साहेबगंज के BJP विधायक! सीओ बोले- घर बुलाकर लातों से मारा, फिर डीएम से कर दी शिकायत

विवादों में साहेबगंज के BJP विधायक! सीओ बोले- घर बुलाकर लातों से मारा, फिर डीएम से कर दी शिकायत

साहेबगंज के भाजपा विधायक राजू कुमार सिंह पर सीओ पारू अनिल भूषण ने मारपीट और गाली गलौज का आरोप लगाया है। जिसके बाद सीओ ने FIR दर्ज कराई है। वहीं विधायक आरोपों को बेबुनियाद बता रहे हैं।

विवादों में साहेबगंज के BJP विधायक! सीओ बोले- घर बुलाकर लातों से मारा, फिर डीएम से कर दी शिकायत
Sandeepवरीय संवाददाता,मुजफ्फरपुरThu, 20 Apr 2023 10:47 AM
ऐप पर पढ़ें

मुजफ्फरपुर के  साहेबगंज के भाजपा विधायक राजू कुमार सिंह ‘राजू’ पर पारू के सीओ अनिल भूषण ने घर बुलाकर मारपीट करने का आरोप लगाया है। सीओ का आरोप है कि विधायक ने अपने घर बाड़ादाउद गांव बुलाकर लात से मारकर नीचे गिरा दिया और जातिगत रूप से अपमानित किया। सीओ ने पारू थाने में विधायक पर एफआईआर कराई है। विधायक राजू कुमार सिंह, पारू प्रमुख पति विजय पासवान, अंचल के डाटा ऑपरेटर सोनू कुमार, विधायक प्रतिनिधि प्रभाकर कुमार सिंह को नामजद और 70 अज्ञात को आरोपित किया गया है।

'सीओ ने बहकावे में दर्ज कराई FIR'
सीओ ने बताया कि 11 अप्रैल की दोपहर विधायक ने कॉल कर घर आने को कहा। वह राजस्व कर्मचारी सह प्रभारी अंचल निरीक्षक चंद्रदीप कुमार के साथ विधायक के घर पहुंचे। पहुंचते ही विधायक ने गाली-गलौज शुरू कर दी और मारने की धमकी दी। विधायक ने कहा कि उनके संबंधी अंचल के डाटा ऑपरेटर सोनू कुमार को काम से क्यों हटवाया? इसके खिलाफ डीएम को पत्र क्यों भेजा? इस बीच विधायक ने लात मारकर कुर्सी से नीचे गिरा दिया। उन्होंने चंद्रदीप को भी मारा। उधर, विधायक ने आरोप को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि विपक्षी गुट की राजनीति और बहकावे में सीओ ने गलत एफआईआर कराई है। 

विधायक ने डीएम से की सीओ की शिकायत
जिसके बाद साहेबगंज विधायक राजू कुमार सिंह ने दाखिल-खारिज में गड़बड़ी करने का आरोप लगाते हुए पारू सीओ अनिल भूषण व प्रभारी राजस्व अधिकारी चंद्रदीप कुमार के खिलाफ डीएम से शिकायत की है। विधायक ने आरोप लगाया कि विभाग की ओर से कर्मी द्वारा दाखिल-खारिज पर रोक लगा दी गई है। सीओ ने पत्र जारी करते हुए कर्मी को हल्का आवंटित कर दिया। इसमें अवैध उगाही की गई। छपरा आस निवासी वीरा राम के नाम वासगीत पर्चा निर्गत है।

दाखिल-खारिज में गड़बड़ी हुई
जिस जमीन को शैलेश ठाकुर, जीतेंद्र ठाकुर व नवीन ठाकुर के नाम कर दिया गया। दाखिल-खारिज के दौरान कर्मी ने जमाबंदी रैयत के संबंध में पुत्र दर्शाया। इसी तरह दाखिल-खारिज के कई मामलों में गड़बड़ी की गई। विधायक ने मामले की उच्चस्तरीय जांच और दोनों अधिकारियों को पारू अंचल से हटाने की मांग की गई है। उधर, 15 अप्रैल की तारीख में दर्ज इस एफआईआर की जांच साहेबगंज एसडीपीओ कुमार चंदन ने शुरू कर दी है। प्रभारी अचंल निरीक्षक का बयान लिया गया है।

सीओ को डांटा था, मारा नहीं- विधायक
विधायक राजू कुमार सिंह का कहना है कि साहेबगंज में सहनी समाज के लोगों के मकान अगलगी में जल गए हैं। अनुदान नहीं मिलने पर समाज के लोग उनके पास आए थे। इसको लेकर सीओ को बुलाया था। सीओ ने शॉर्ट सर्किट से अगलगी में अनुदान नहीं मिलने की गलत जानकारी दी। इसी बात को लेकर उन्हें डांटा था। लात मारकर गिराने या गाली-गलौज करने आदि का आरोप बेबुनियाद है। साहेबगंज विधायक ने कहा कि विपक्षी गुट की राजनीति व बहकावे के चक्कर में सीओ ने गलत तरीके से एफआईआर दर्ज कराई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें