ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारइतिहास पढ़ अपनी समझ बढ़ाएं; PM मोदी पर तेजस्वी के बयान से बिहार में सियासी जंग; BJP-JDU ने खोला मोर्चा

इतिहास पढ़ अपनी समझ बढ़ाएं; PM मोदी पर तेजस्वी के बयान से बिहार में सियासी जंग; BJP-JDU ने खोला मोर्चा

तेजस्वी यादव के बयान पर पलटवार करते हुए मंगल पांडे ने कहा है कि तेजस्वी यादव को पहले भारत के इतिहास का अध्ययन करना चाहिए। सलाह है उनको कि उन्हें इस देश की संस्कृति की समझ भी बढ़ानी चाहिए

इतिहास पढ़ अपनी समझ बढ़ाएं; PM मोदी पर तेजस्वी के बयान से बिहार में सियासी जंग; BJP-JDU ने खोला मोर्चा
Sudhir Kumarलाइव हिन्दुस्तान,पटनाSat, 04 May 2024 02:34 PM
ऐप पर पढ़ें

पीएम मोदी पर तेजस्वी यादव के एक बयान से बिहार में सियासी जंग छिड़ गया है। बीजेपी के साथ जेडीयू के नेता भी उनपर हमलावर हो गये हैं। भाजपा नेता और नीतीश कुमार की सरकार में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने उन्हें इतिहास पढ़कर समझ बढ़ाने की सलाह दी है। दूसरी ओर जेडीयू की मंत्री लेसी सिंह ने कहा है कि कुछ बोलने से पहले यह बताएं कि उनके माता पिता के राज में बिहार का क्या हाल था। मंलग पांडे ने बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर तंज सका है। तेजस्वी यादव ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर पीएम नरेंद्र मोदी से सवाल पूछा है कि जब देश के सभी प्रमुख पदों पर हिंदू समाज के लोग बैठे हैं तो सनातन खतरे में कैसे है।

तेजस्वी यादव के बयान पर पलटवार करते हुए मंगल पांडे ने  कहा है कि तेजस्वी यादव को पहले भारत के इतिहास का अध्ययन करना चाहिए। मेरी सलाह है उनको कि उन्हें इस देश की संस्कृति की समझ भी बढ़ानी चाहिए और यह जो पुरातन देश है। उन्होंने कहा कि हमारे देश में अपनी विशिष्ट संस्कृति और परंपराएं रही हैं।  तेजस्वी यादव जब इतिहास पढ़कर उनको समझ लेंगे समझ लेंगे  तब उन्हें सबकुछ स्पष्ट रूप से समझ में आएगा कि देश के लोग भारतवर्ष को कैसा रखना चाहते हैं और देश कैसे आगे बढ़ेगा। अभी उन्हें इसकी कोई समझ नहीं है। उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव को अपनी चिंता करनी चाहिए।  बिहार के नौजवानों को पूरी तरीके से मालूम है कि नौकरी देना हो या रोजगार देना हो वह नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार की जोड़ी है।

जेडीयू नेता लेसी सिंह ने भी तेजस्वी यादव के बयान पर पलटवार किया है।  उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव के पास बोलने के लिए कुछ नहीं है। कोई मुद्दा नहीं है। बिना मुद्दा के तेजस्वी यादव बात करते हैं। उन्होंने कहा कि उनके माता-पिता के कार्यकाल में क्या हुआ इसका जवाब उनका देना चाहिए। उनके पास बोलने के लिए कुछ नहीं है मुद्दा कुछ नहीं है तो इधर-उधर की बातें करते रहे हैं।

स्वास्थ्य एवं कृष मंत्री मंगल पांडे ने बंगाल की सीएम ममता बनर्जी को भी आड़े हाथों लिया। कहा कि बीजेपी से सफाई मांगने से पहले ममता दीती  उन आरोपों का जवाब क्यों नहीं देती है जिसमें उनके मंत्रियों के घरों से रुपए पकड़े गए। उनका जवाब क्यों नहीं देती है जो अपराधी जेल में गए और टीएमसी के नेता हैं। बंगाल की जनता इन बातों का जवाब चाहती है और ममता दीदी इन विषयों को इधर-उधर करना चाहती है।

शुक्रवार को चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री हिंदू, राष्ट्रपति हिंदू, सभी राज्यों के मुख्यमंत्री भी हिंदू हैं। इतना हीं तीनों सेनाध्यक्ष हिंदू हैं। फिर भी ये लोग कह रहे है कि धर्म खतरे में है। दरअसल धर्म को ख़तरे में बताने वाले यह नहीं बताना चाहते कि रिकॉर्डतोड़ बेरोजगारी से देश के 60 फीसदी युवाओं का वर्तमान एवं भविष्य खतरे में है। किसान और कृषि खतरे में है। उद्योग-धंधे खतरे में है। तेजस्वी यादव ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर भी अपनी बात और भाषण का वीडियो शेयर किया है। उन्होंने कहा कि बहन बेटियाँ और महिलाएं खतरे में है। शिक्षा-चिकित्सा खतरे में है। महंगाई-गरीबी से बहुसंख्यक आबादी खतरे में है। इनकी चर्चा मोदी जी नहीं करते क्योंकि जनता के जिंदा मुद्दों पर तो प्रधानमंत्री जी बात ही नहीं करना चाहते।