ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारपरिवार विश्वास यात्रा निकालते, तेजस्वी के जनविश्वास पर गिरिराज का तंज बोले- आरोपों से घिरे हैं और...

परिवार विश्वास यात्रा निकालते, तेजस्वी के जनविश्वास पर गिरिराज का तंज बोले- आरोपों से घिरे हैं और...

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने तेजस्वी यादव की इस नई यात्रा पर करारा प्रहार किया है। उन्होंने कहा है कि तेजस्वी यादव परिवार विश्वास यात्रा निकलते तो ज्यादा अच्छा रहता। उन पर कौैन विश्वास करेगेै

परिवार विश्वास यात्रा निकालते, तेजस्वी के जनविश्वास पर गिरिराज का तंज बोले- आरोपों से घिरे हैं और...
Sudhir Kumarलाइव हिंदुस्तान,पटनाThu, 22 Feb 2024 12:10 PM
ऐप पर पढ़ें

लालू प्रसाद यादव की पार्टी राजद के युवराज तेजस्वी यादव के जन विश्वास यात्रा पर भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बड़ा हमला किया है। उन्होंने तेजस्वी यादव को परिवार विश्वास यात्रा निकालने की सलाह दी है।  कहा है कि उन पर कौन भरोसा करता है। तेजस्वी यादव अपने 17 माह के कार्यकाल में हुए काम को जनता बीच ले जाने के मकसद से यात्रा पर हैं। आज तीसरा दिन है।

नीतीश कुमार की सरकार से अलग होने के बाद तेजस्वी यादव 20 फरवरी से बिहार के विभिन्न जिलों के दौरे पर हैं। उनकी यह मुहिम जन विश्वास यात्रा के रूप में चल रही है। मुजफ्फरपुर से उन्होंने जनविश्वास यात्रा की शुरुआत की। जिले के सकरी सरैया में जनसभा के साथ उन्होंने इसका आगाज किया। गुरुवार को आज तीसरा दिन है और और तेजस्वी यादव छपरा, सीवान और आरा में जनसभा को संबोधित करने वाले हैं। इससे पहले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने तेजस्वी यादव की इस नई यात्रा पर करारा प्रहार किया है। उन्होंने कहा है कि तेजस्वी यादव परिवार विश्वास यात्रा निकलते तो ज्यादा अच्छा रहता। जो व्यक्ति कभी परिवार से बाहर नहीं निकला हो और तमाम तरह के भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरा हो वह क्या जनविश्वास यात्रा निकालेंगे। उनको कौन विश्वास देगा।

इससे पहले 19 फरवरी को गिरिराज सिंह मुजफ्फरपुर पहुंचे जहां से तेजस्वी की यात्रा शुरू होने वाली थी। सर्किट हाउस में  प्रेस को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था कि पिता पुत्र ने बिहार की जनता का विश्वास खो दिया है। इसलिए उनकी यह यात्रा महज पॉलीटिकल स्टंट है। आज गुरुवार को फिर से गिरिराज सिंह ने तेजस्वी यादव की जनविश्वास यात्रा को सिर्फ और सिर्फ सियासत करार दिया। उन्होंने कहा कि जनता ने तय कर लिया है कि उसे क्या करना है। इन हथकंडों से कोई फायदा नहीं होने वाला नहीं है।

नीतीश कुमार सरकार से अलग होने के बाद तेजस्वी यादव अपने 17 महीने के कार्यकाल को जनता के बीच ले जाना चाहते हैं। 2024 के  लोकसभा और 2025 के विधानसभा चुनाव में शिक्षक बहाली और और अन्य विभागों में भर्ती के मसले को भुनाने के मकसद से तेजस्वी जनविश्वास यात्रा कर रहे हैं। उनकी यह यात्रा 29 फरवरी को खत्म होगी। 3 फरवरी को पटना में महागठबंधन की रैली होने वाली है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें