ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारबिहार के सियासी घमासान पर एक्टिव बीजेपी, दिल्ली के बाद पटना में भाजपा कार्यसमिति की बैठक, शाह करेंगे अध्यक्षता

बिहार के सियासी घमासान पर एक्टिव बीजेपी, दिल्ली के बाद पटना में भाजपा कार्यसमिति की बैठक, शाह करेंगे अध्यक्षता

बिहार में जारी सियासी उठापटक के बीच बीजेपी पूरी तरह एक्टिव हो गई है। दिल्ली में गुरूवार को हुई बैठक के बाद अब पटना में भाजपा कार्यसमिति की बैठक बुलाई है। अध्यक्षता केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह करेंगे।

बिहार के सियासी घमासान पर एक्टिव बीजेपी, दिल्ली के बाद पटना में भाजपा कार्यसमिति की बैठक, शाह करेंगे अध्यक्षता
Sandeepलाइव हिन्दुस्तान,पटनाFri, 26 Jan 2024 11:52 AM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में मची सियासी उठापटक और सत्तारूढ़ राजद और जेडीयू के बीच खटपट को लेकर भाजपा फुल एक्टिव मोड में आ गई है। और एक के बाद एक बैठकों का दौर शुरू कर दिया है।  जानकारी के मुताबिक कल यानी 27 जनवरी को पटना में बिहार बीजेपी की बैठक होनी है। जिसकी अध्यक्षता केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह करेंगे। जिसमें बिहार बीजेपी के अध्यक्ष सम्राट चौधरी समेत बिहार भाजपा के दिग्गज नेता शामिल होंगे।

इससे पहल गुरूवार को भी दिल्ली में शाह के आवास पर बड़ी बैठक हुई थी। जिसमें बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी शामिल हुए थे। और अपने केरल दौरे को भी रद्द कर दिया था। और अब अगली बैठक पटना में रखी गई है। दिल्ली में हुई भाजपा की बैठक खत्म होने के बाद सम्राट चौधरी ने बताया कि लोकसभा चुनाव को लेकर चर्चा हुई। 

इस बैठक में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, संगठन महामंत्री भीखु भाई दलसानिया, सुशील मोदी, बिहार की पूर्व डिप्टी सीएम रेणु देवी मौजूद थी। बैठकों का दौर सिर्फ बीजेपी में ही नहीं चल रहा है। लालू की पार्टी राजद और नीतीश की पार्टी जदयू की बैठकें भी हुईं। सीएम आवास पर नीतीश ने पार्टी के नेताओं के साथ मुलाकात की। तो वहीं लालू यादव ने भी राजद नेताओं के साथ बैठक की। हालांकि अभी तक ये साफ नहीं हो सका है कि इन बैठकों में आखिर चर्चा किस बात पर हुई।

बिहार की सियासत में हलचल उस वक्त से बढ़ गई। जब सीएम नीतीश कुमार ने कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिए जाने के ऐलान पर पीएम मोदी का शुक्रिया किया। और आभार जताया। साथ ही कर्पूरी जयंती के समारोह में परिवारवाद पर निशाना साधते हुए कहा कि कर्पूरी ठाकुर ने अपने परिवार को राजनीति में आगे नहीं बढ़ाया। जब तक कर्पूरी ठाकुर रहे बेटे को आगे नहीं किया। उनके निधन के बाद जेडीयू ने उनके बेटे रामनाथ ठाकुर को राज्यसभा भेजा।

नीतीश ने कहा कि हमने भी कर्पूरी ठाकुर के रास्ते पर चलते हुए कभी अपने परिवार को आगे नहीं बढ़ाया। दूसरों को मौका देते रहे।  नीतीश के इस बयान के अगले ही दिन लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्य ने एक के बाद एक तीन ट्वीट कर दिए। जिन्हें नीतीश के परिवारवाद वाले बयान से जोड़कर देखा। जिसपर हंगाम मचने के बाद रोहिणी ने डिलीट कर दिए। फिलहाल बिहार में सियासी खिचड़ी तो जरूर पक रही है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें