DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  केंद्रीय आम बजट स्वागत योग्य: CM नीतीश
बिहार

केंद्रीय आम बजट स्वागत योग्य: CM नीतीश

पटना हिन्दुस्तान टीमPublished By: Malay
Fri, 05 Jul 2019 06:14 PM
केंद्रीय आम बजट स्वागत योग्य: CM नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किये गये आम बजट 2019-20 को स्वागत योग्य बताया है। उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था को पांच ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य प्रशंसनीय है। 

मुख्यमंत्री ने पूरे देश के लिए हर घर जल योजना की घोषणा का स्वागत किया। साथ ही यह भी कहा कि प्रसन्नता की बात है कि बिहार में पूर्व से ही सात निश्चय के तहत हर घर नल का जल योजना का क्रियान्वयन हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहित करने का निर्णय पर्यावरण के हित में है। स्वच्छ भारत मिशन का विस्तार करते हुए गांवों में भी ठोस कचरा प्रबंधन लागू करने की व्यवस्था भी सराहनीय है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि जल संरक्षण का दृष्टिकोण भी स्वागत योग्य एवं प्रशंसनीय है। रेलवे की योजनाओं को पूर्ण करने के लिए जन-निजी-भागीदारी के तहत राशि की व्यवस्था करने की बात कही गई है। केंद्र सरकार को ध्यान देना चाहिए कि इससे यह संदेश न जाए कि रेलवे का निजीकरण किया जाएगा। 

आम बजट: गांव, गरीब, किसान के साथ साथ अर्थव्यस्था को गति देने पर जोर
'गांव, गरीब और किसान तथा प्रत्येक नागरिक के जीवन को 'अधिक सरल बनाने के लक्ष्य के साथ पेश किए गये नरेन्द्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले आम बजट में अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए मीडिया, विमानन, बीमा और एकल ब्रांड खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के नियमों को उदार करने का प्रस्ताव किया गया है। बजट में बुनियादी आर्थिक और सामाजिक ढांच के विस्तार, पेंशन और वीमा योजाओं को आम लोगों की पहुंच के दायरे में ले जाने के विभिन्न प्रस्ताव किए गए है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा शुक्रवार को लोकसभा में पेश किए गए वित्त वर्ष 2019-20 के अपने बजट भाषण में कहा कि हालिया चुनाव में एक आकर्षक और मजबूत भारत की उम्मीदें लहरा रही थीं और लोगों ने एक ऐसी सरकार को चुना जिसने काम कर के दिखाया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने अपने पहले कार्यकाल में 'न्यू इंडिया के लिए काम शुरू कर दिया था। अब इन कार्यों की रफ्तार बढ़ाई जाएगी और आगे चलकर लालफीताशाही को और कम किया जाएगा। 

इस आर्टिकल को शेयर करें
लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

सब्सक्राइब
अपडेट रहें हिंदुस्तान ऐप के साथ ऐप डाउनलोड करें

संबंधित खबरें