Bihar Weather Update:बिहार में गर्मी से मिली राहत, अब दो दिनों तक आंधी-पानी के आसार

पटना। मुख्य संवाददाता Last Modified: Sat, Apr 10 2021. 07:07 AM IST
offline

बिहार के कुछ जिलों में पिछले 24 घंटों में आंधी-पानी से तापमान लुढ़क गया। पटना समेत सूबे के विभिन्न शहरों में बादल छाए रहे। गर्मी से लोगों के राहत मिली। पटना का अधिकतम तापमान छह डिग्री जबकि गया का दो डिग्री तक नीचे आया है। 24 घंटों में पूर्णिया में सबसे ज्यादा 16 मिमी बारिश दर्ज की गई। कदवां में 12 मिमी और भीमनगर में 11 मिमी बारिश दर्ज की गई।

मौसम विभाग का कहना है कि दोतरफा हवाओं की स्थिति से अगले दो दिनों तक आंधी पानी की स्थिति बने रहने के आसार हैं। शुक्रवार को दक्षिणी पूर्वी बिहार के कुछ जिलों के लिए आंधी पानी का येलो अलर्ट जारी किया गया। शनिवार दोपहर तक  बक्सर, रोहतास, भभुआ, भोजपुर, औरंगाबाद, जहानावाद और अरवल में एक दो जगहों पर 30 से 40 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार की हवा के साथ बारिश की स्थिति बन सकती है। राज्य के शेष भागों में भी थंडरस्टॉर्म की स्थिति बन सकती है। मौसम विज्ञान केंद्र पटना के निदेशक विवेक सिन्हा कि अगले दो दिन अधिकतम तापमान में विशेष बढ़ोतरी के आसार नहीं है। येलो अलर्ट एहतियातन जारी किया गया है। 

सूबे में शुष्क पश्चिमी हवा और नमीयुक्त पूर्वी हवा से गरज वाले बादल बन रहे है। साथ ही बिहार व इसके आसपास पूर्वी उत्तरप्रदेश से सटे इलाकों में चक्रवाती हवा का क्षेत्र बना हुआ है। इससे सूबे के मौसम पर पिछले 24 घंटों में तेजी से असर हुआ है। पटना में शाम चार बजे के आसपास बूंदाबांदी हुई। दिन में बादल छाये रहे और बादलों के बीच सूरज की लुकाछिपी चलती रही। अधिकतम तापमान 33 डिग्री के आसपास पहुंच गया। इससे पहले गुरुवार की रात राजधानी के लोग उमस की वजह से पसीने से तरबतर होते रहे। 

दो दिन बाद पारा चढ़ेगा, दक्षिणी बिहार में हीट वेव की स्थिति बनेगी
हालांकि मौसम विभाग का यह पूर्वानुमान है कि रविवार के बाद सूबे के कुछ भागों में पछुआ का प्रवाह बढ़ेगा। अधिकतम तापमान ऊपर चढ़ेगा। राज्य के कई जिलों में हीट वेव की स्थिति भी बन सकती है। रविवार तक मौसम सुहाना रहेगा। आंशिक बादलों के छाये रहने की वजह से ऊमस की स्थिति रह सकती है।


प्रमुख शहरों का पारा
शहर अधिकतम न्यूनतम

पटना 33.6 24 .6 
गया 37.2  22.6
भागलपुर 36.7  21.4
पूर्णिया 30.4   19.6
 

ऐप पर पढ़ें

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।
हिन्दुस्तान मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें