ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारपहले गर्मी ने रुलाया, अब आंधी और बारिश मचाएगी तबाही? बिहार में मौसम विभाग की चेतावनी

पहले गर्मी ने रुलाया, अब आंधी और बारिश मचाएगी तबाही? बिहार में मौसम विभाग की चेतावनी

Bihar Weather Forecast: बिहार में हीटवेव से बुरे हालात के बीच मौसम विभाग ने आंधी-बारिश और ठनका की चेतावनी जारी कर दी है। अगले हफ्ते से राज्यभर में मौसम बिगड़ने वाला है।

पहले गर्मी ने रुलाया, अब आंधी और बारिश मचाएगी तबाही? बिहार में मौसम विभाग की चेतावनी
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,पटनाSat, 04 May 2024 07:19 PM
ऐप पर पढ़ें

Bihar Weather Forecast: बिहार में भीषण गर्मी और हीटवेव से लोगों का बुरा हाल है। मगर अगले कुछ घंटों में मौसम बदलने के आसार हैं। मौसम विभाग ने राज्यभर में आंधी, बारिश और वज्रपात की चेतावनी जारी की है। 24 घंटे के भीतर इसका असर देखने को मिल सकता है। 6 से 11 मई तक बिहार के कई जिलों में आंधी-तूफान के साथ बूंदाबांदी और ठनका गिरने की आशंका बनी रहेगी। इसके लिए पटना मौसम केंद्र की ओर से विस्तृत एडवाइजरी भी जारी की गई है। खराब मौसम में लोगों से सावधानी बरतने की अपील की गई है।

मौसम विभाग ने शनिवार को जारी बुलेटिन में कहा है कि बिहार के पूर्वी हिस्से में पुरवा हवा का प्रवाह बढ़ना शुरू हो गया है। धीरे-धीरे पूरे राज्य में नमीयुक्त पुरवा हवा का प्रवाह बढ़ेगा। इससे अधिकांश हिस्सों में अगले हफ्ते हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश होने के आसार हैं। इस दौरान कुझ जगहों पर वज्रपात और आंधी की भी आशंका बनी रहेगी।

मुंगेर, जमुई, बांका, भागलपुर, सहरसा, मधेपुरा, सुपौल, अररिया, पूर्णिया, भागलपुर, कटिहार, किशनगंज और मुंगेर जिले में रविवार को झोंके के साथ 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलने की येलो अलर्ट जारी किया गया है। हालांकि, पटना समेत उत्तर एवं दक्षिण बिहार के अन्य जिलों में हॉट डे यानी लू की स्थित बनी रहेगी। 

इसके बाद 6 से 11 मई तक पूरे राज्य में आंधी, बारिश और वज्रपात का अलर्ट जारी हुआ है। इससे अधिकतम तापमान में तेजी से गिरावट आएगी और लोगों को भीषण गर्मी से राहत जरुर मिलेगी। हालांकि, खराब मौसम में लोगों से सावधानी बरतने को कहा गया है। 

मौसम विभाग ने अपनी एडवाइजरी में कहा है कि किसान अपनी कटी हुई फसलों का सुरक्षित भंडारण कर लें। साथ ही खराब मौसम में पेड़ और खंभों के नीचे न खड़े रहें। ऐसे समय में पक्के मकान में शरण लें। खेतों में खड़ी फसलें और फलदार पेड़ों को भी नुकसान पहुंच सकता है। आंधी में टिन शेड और झोपड़ियों के छप्पर उड़ने का खतरा बना रहेगा।