ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारबिहार पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, लॉरेंस बिश्नोई गैंग का शॉर्प शूटर जोगबनी में अरेस्ट

बिहार पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, लॉरेंस बिश्नोई गैंग का शॉर्प शूटर जोगबनी में अरेस्ट

राजस्थान के मोस्ट वांटेड लॉरेंस बिश्नोई गैंग के शॉर्प शूटर को अररिया जिले के जोगबनी से पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार शूटर की पहचान कृष्ण कुमार उर्फ जय प्रकाश के रूप में हुई है।

बिहार पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, लॉरेंस बिश्नोई गैंग का शॉर्प शूटर जोगबनी में अरेस्ट
Malay Ojhaहिन्दुस्तान,अररियाThu, 09 May 2024 06:30 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के जयपुर शहर के जी ग्रुप के एक होटल में एक करोड़ की फिरौती के लिए लॉरेंस बिश्नोई गैंग के शूटरों द्वारा की गयी फायरिंग में शामिल का एक कुख्यात कृष्ण कुमार उर्फ जयप्रकाश उर्फ जेपी को जोगबनी  पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार किया है। जेपी कई माह पूर्व नाम बदल कर भारतीय सीमा से सटे नेपाल के विराटनगर में रह रहा था।  दरअसल, जोगबनी पुलिस एक दुकानदार के अकाउंट फ्री होने की शिकायत पर एटीएम फ्रॉड मामले में जोगबनी रेलवे स्टेशन स्थित एटीएम बूथ से गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में खुलासा हुआ कि वह राजस्थान के विश्नोई ग्रुप का शूटर है। लॉरेंस बिश्नोई गैंग राजस्थान का एक बड़ा आपराधिक संगठन है। इस गिरोह के खिलाफ राजस्थान के कई शहरों में दर्जनों मामले दर्ज है। बताया जाता है कि इस गैंग के सदस्य जेल में बंद कुख्यात गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई और विदेश में रहने वाले सतिंदरजीत सिंह उर्फ ​​गोल्डी बराड़ के इशारे पर ये लोग काम कर रहे थे। 

एसपी अमित रंजन ने बताया कि भारत-नेपाल सीमा स्थित जोगबनी रेलवे स्टेशन के पास साइबर फ्रॉड की शिकायत पर जोगबनी पुलिस ने एक युवक को पकड़ा। पकड़ाया युवक से पूछताछ करने पर वह अपना नाम जयप्रकाश पिता  शांताराम, बीकानेर, राजस्थान बताया। यह युवक कृष्ण कुमार के नाम से फेक आईडी बना कर नेपाल के विराटनगर में किराए पर वास्तविक पहचान छुपा कर रह रहा था। पकड़ा गया युवक कुख्यात लॉरेंस बिश्नोई गैंग का शार्प शूटर है। यह वर्ष 2023 में राजस्थान के जयपुर शहर में जी ग्रुप के एक होटल में एक करोड़ की फिरौती के लिए लॉरेंस बिश्नोई गैंग के सूत्रों द्वारा की गई गोलीबारी की घटना में भी शामिल रहा है। इस घटना के बाद इसकी गिरफ्तारी हुई थी और इसे बीकानेर के बाल सुधार गृह में रखा गया था। 

लॉरेंस विश्नोई पर बड़ा खुलासा, रिमांड होम के बंदियों को शूटर बना रहा उसका गैंग; कौन है यह शातिर?

एसपी ने कहा कि बाल सुधार गृह में रहने के दौरान वह खिड़की का रॉड तोड़कर भाग गया था और अपना पहचान छुपा कर विराटनगर में किराए पर रह रहा था। एसपी अमित रंजन ने कहा कि विराटनगर में रहकर भी जयप्रकाश अपने ग्रुप के लोगों से इंटरनेट वीपीएन के माध्यम से संपर्क में बना हुआ था। गिरोह के लीडर इसे विभिन्न एप्स के माध्यम से पैसा भेजा करता था। जयप्रकाश पैसा निकालने जोगबनी आया करता था। इसी दौरान एक दुकानदार की अकाउंट फ्रीज होने की शिकायत पर जोगबनी थाना पुलिस ने जयप्रकाश को दोबारा पैसा निकालने के दौरान पकड़ लिया।

उत्तर बिहार में एक्टिव लॉरेंस विश्नोई गैंग; साइबर फ्रॉड, रंगदारी का खड़ा किया नेटवर्क, गिरोह में नौजवानों की भर्ती

डेढ़ वर्ष पहले बिश्नोई गैंग में हुआ था शामिल:
जयप्रकाश लगभग डेढ़ वर्ष पूर्व बिश्नोई गैंग में शामिल हुआ था। लॉरेंस विश्नोई ग्रुप राजस्थान का एक बड़ा आपराधिक ग्रुप है। इस ग्रुप के सदस्यों के खिलाफ राजस्थान में कई मामले दर्ज हैं। गिरफ्तार जेपी से पूछताछ अररिया पुलिस गहन पूछताछ कर रही है। पूछताछ के दौरान युवक के राजस्थान के लॉरेंस बिश्नोई ग्रुप के कुख्यात शूटर के रूप में पहचान की गई। 

विराटनगर में छिपकर रह रहा था आरोपी :

एसपी अमित रंजन ने बताया कि लॉरेंश विश्नोई ग्रुप का आरोपी जय प्रकाश पिता शांता राम राजस्थान के बिकानेर के जवाहर सर्किल थाना का निवासी है। जय प्रकाश राजस्थान के बीकानेर में एक होटल से जुड़े फिरौती मामले में मोस्ट वांटेड है और रिमांड होम से भागकर वह विराटनगर में छिपकर रह रहा था। जोगबनी रेलवे स्टेशन के पास एटीएम फ्रॉड मामले में उसे गिरफ्तार किया गया है। एसपी ने कहा कि गिरफ्तारी की सूचना राजस्थान पुलिस को दे दी गयी है।