DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  रसोई गैस और पेट्रोल के दामों में बढ़ोतरी से बिहार में उबला विपक्ष, कहा- NDA सरकार की गलत नीतियों का परिणाम 

बिहाररसोई गैस और पेट्रोल के दामों में बढ़ोतरी से बिहार में उबला विपक्ष, कहा- NDA सरकार की गलत नीतियों का परिणाम 

पटना। हिन्दुस्तान टीमPublished By: Sunil Abhimanyu
Tue, 16 Feb 2021 02:59 PM
रसोई गैस और पेट्रोल के दामों में बढ़ोतरी से बिहार में उबला विपक्ष, कहा- NDA सरकार की गलत नीतियों का परिणाम 

बिहार में शतक की ओर बढ़ रहे पेट्रोल की कीमत और रसोई गैस की कीमत में 50 रुपये की बढ़ोतरी करने से पूरा विपक्ष उबल पड़ा है। बिहार में विपक्षी दलों के नेताओं ने पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की कीमत को लेकर केंद्र की मोदी और बिहार की नीतीश सरकार को घेरा। नेताओं ने पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि को जनविरोधी बताते हुए इसे एनडीए सरकार की गलत नीतियों का परिणाम बताया। जानें विपक्ष ने क्या कहा-

पेट्रोल-डीजल व रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि जनविरोधी : प्रेमचंद मिश्र
कांग्रेस विधान पार्षद प्रेमचंद मिश्रा ने पेट्रोल,डीजल और रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि को जन विरोधी बताया। सोमवार को जारी बयान में उन्होंने कहा कि महंगाई चरम पर है और आमजनों, गरीबों-किसानों-मजदूरों तथा ट्रांसपोर्टरों पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत कम है। इसके बावजूद पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस की कीमतों में लागातार हो रही वृद्धि केंद्र और राज्य सरकार की गलत नीतियों का परिणाम है। वहीं सरकारी खजाने को भरने और तेल कंपनियों को बेशुमार लाभ प्राप्त हो रहा है। 

उन्होंने केंद्र सरकार तथा बिहार सरकार पर आरोप लगाया कि उसके द्वारा लिए जा रहे एक्साइज ड्यूटी और वैट के कारण आम जनता को लगभग क्रमशः पेट्रोल 45 रुपये तथा डीजल 43.50 रुपये प्रति लीटर महंगा खरीदना पड़ रहा है। उन्होंने बताया की कांग्रेस सरकार के समय 2014 मई माह में कच्चे तेल की कीमत 116 डॉलर प्रति बैरेल थी और पेट्रोल 74 रुपये तथा डीजल 57 रुपये प्रति लीटर मिल रहा था उस तुलना में आज कच्चे तेल की कीमत आधी से भी कम होने के बावजूद पेट्रोल 91.12 पैसे तथा डीजल 84.57 रुपये प्रति लीटर क्यों बिक रहा है, बिहार में यह भाजपा-जदयू सरकार को बताना चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार के समय रसोई गैस 414 रुपये प्रति सिलेंडर था जो आज 867 रुपये तक पहुंच गया है जो दोगुनी से भी ज्यादा है। उन्होंने  मुख्यमंत्री तथा उपमुख्यमंत्री से मांग की कि पेट्रोल डीजल पर लिए जाने वाले टैक्स और वैट में कटौती कर आम जनता को सस्ते दर पर पेट्रोल डीजल उपलब्ध कराएं।

माकपा ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की निंदा की
मॉर्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने केंद्र सरकार द्वारा रसोई गैस और पेट्रोल, डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की निंदा की है। माकपा के राज्य सचिव अवधेश कुमार एवं पटना जिला सचिव मनोज कुमार चंद्रवंशी ने आमलोगों से केंद्र व राज्य सरकार की नीतियों के खिलाफ एकजुट होने और सड़क पर उतरकर आंदोलन को तेज करने की अपील की। सोमवार को जारी संयुक्त बयान में उन्होंने आरोप लगाया कि आमलोगों के रहन-सहन और उनके भविष्य के प्रति सरकार जानबूझकर लापरवाही बरत रही है!

महंगाई रोकने में असफल है सरकार: शर्मा 
राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य व पूर्व विधायक जनार्दन शर्मा ने महंगाई रोकने में केंद्र सरकार को असफल बताया। सोमवार को जारी बयान में उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने आमलोगों को भगवान भरोसे छोड़ दिया है। मध्यमवर्गीय परिवार महंगाई की चक्की में पीसे जा रहे हैं। मूल्य बढ़ोतरी के खिलाफ जन आक्रोश जब जाग जाएगा तो सरकार को उखाड़ फेंकेगा। 

रसोई गैस के दामों में बढ़ोतरी, आम आदमी की जेब पर डाका
राजद के प्रदेश सचिव प्रमोद कुमार सिन्हा, युवा राजद उपाध्यक्ष अमिताभ ऋतुराज एवं महासचिव शिवेन्द्र तांती ने रसोई गैस की कीमतों में अप्रत्याशित वृद्धि पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि घरेलू गैस सिलेंडर की कीमतों में की जा रही बेतहाशा मूल्यवृद्धि से देश की जनता परेशान है। पिछले ढाई माह में घरेलू गैस सिलेंडर के दामों में 175 रुपये की वृद्धि की गई है। जबकि सरकारी सब्सिडी राशि घटाकर मात्र 79 रुपये कर दी गई है। राजद नेताओं ने कहा कि केन्द्र सरकार ने तेल कंपनियों को जनता की जेब पर डाका डालने के लिए खूली छूट दे रखी है।

गैस-तेल की कीमतों में वृद्धि से आमजन का जीना मुहाल: एनसीपी
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष राणा रणवीर सिंह ने कहा है कि डीजल, पेट्रोल एवं गैस के दामों में बेतहाशा वृद्धि से आम आदमी का जीना मुहाल है। उन्होंने कहा कि देश की जनता से अच्छे दिन लाने का दावा करने वालों ने लोगों को ठगने का काम किया है। कहा कि इसका खामियाजा केंद्र और राज्य सरकार को भुगतना होगा।

सीपीआईएम ने कहा- निम्न मध्यम वर्ग, किसान आदि की परेशानी बढ़ गई
सीपीआईएम ने केंद्र सरकार द्वारा रसोई गैस और पेट्रोल व डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की निंदा की है। पिछले दो महीनों के अंदर रसोई गैस, पेट्रोल, डीजल, सुधा दुग्ध उत्पादों में काफी बढ़ोतरी हुई है। पेट्रोल में बढ़ोतरी के कारण पटना शहर में बिहार परिवहन प्राधिकरण ने ऑटो किराया में 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी की है। बढ़ोतरी से निम्न मध्यम वर्ग, किसान आदि की परेशानी बढ़ गई है। रसोई गैस की सब्सिडी में भारी कटौती की गई है। गैस की कीमत लगभग 800 रुपया तक पंहुच गई है। सीपीआईएम के राज्य सचिव अवधेश कुमार एवं पटना जिला सचिव मनोज कुमार चंद्रवंशी ने आमलोगों से अपील की है कि केंद्र व राज्य सरकार की नीतियों के खिलाफ एकजुट हो और सड़क पर उतर कर आंदोलन को तेज करें।
 

संबंधित खबरें