ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहारबिहार में लोकसभा चुनाव लड़े नेताओं के बेटा, बेटी और दामाद का क्या हुआ?

बिहार में लोकसभा चुनाव लड़े नेताओं के बेटा, बेटी और दामाद का क्या हुआ?

Bihar Leaders Son Daughters Result 2024: बिहार में लोकसभा चुनाव के नतीजे साफ हो चुके हैं। लीड और नतीजों के आधार पर एनडीए 30 सीट, इंडिया गठबंधन 9 सीट और 1 सीट निर्दलीय जीत चुका है या जीत रहा है।

बिहार में लोकसभा चुनाव लड़े नेताओं के बेटा, बेटी और दामाद का क्या हुआ?
Ritesh Vermaलाइव हिन्दुस्तान,पटनाWed, 05 Jun 2024 06:40 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में लोकसभा चुनाव के नतीजे साफ हो चुके हैं। इंडिया गठबंधन 30 सीट और इंडिया गठबंधन 9 सीट जीत रहा है। 32 सीटों के नतीजे घोषित हो चुके हैं। बाकी 8 सीट के रुझान बदलने वाले नहीं हैं क्योंकि सारी सीट पर आगे चल रहे कैंडिडेट की लीड काफी बड़ी है। एनडीए में बीजेपी 12, जेडीयू 12, लोजपा-आर 5 और हम 1 सीट जीती है। इंडिया गठबंधन में आरजेडी 4, कांग्रेस 3 और सीपीआई-माले 2 सीट पर जीती है। पूर्णिया में एक सीट निर्दलीय पप्पू यादव जीत गए हैं। लेकिन इस चुनाव में कई नेताओं के बेटा, बेटी और दामाद चुनाव लड़ रहे थे। एक नजर डालते हैं उनकी हार और जीत की रिपोर्ट पर। इस रिपोर्ट में उन बाल-बच्चों को शामिल किया गया है जो आज तक कभी लोकसभा नहीं पहुंचे हैं इसलिए चिराग पासवान का नाम इस लिस्ट में नहीं है।

जमुई सीट से पहली बार लोकसभा लड़े रामविलास पासवान के दामाद और लोजपा-आर के सुप्रीमो चिराग पासवान के बहनोई अरुण भारती जीत गए हैं। उन्होंने आरजेडी की अर्चना कुमारी को 112482 वोट से हरा दिया है। अरुण भारती को 509046 वोट मिले। लोकसभा में इस बार पासवान के परिवार से बेटा चिराग और दामाद अरुण एक साथ पहुंच गए हैं। 

महाराजगंज लोकसभा सीट से बीजेपी के मौजूदा सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल के खिलाफ लड़े कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश प्रसाद सिंह के बेटे आकाश प्रसाद सिंह 102651 वोटों से चुनाव हार गए हैं। आकाश को 426882 वोट मिले। आकाश 2019 में पूर्वी चंपारण में भाजपा के राधा मोहन सिंह के खिलाफ भी चुनाव लड़े थे लेकिन जीत नहीं पाए।

समस्तीपुर लोकसभा सीट से जेडीयू के दो बड़े नेता और नीतीश सरकार के मंत्री के बेटे और बेटी लड़ रहे थे। महेश्वर हजारी के बेटे सन्नी हजारी को कांग्रेस ने टिकट दिया था जबकि अशोक चौधरी की बेटी शांभवी चौधरी को लोजपा-आर ने। बाजी अशोक चौधरी की बेटी ने मारी जो सीएम नीतीश कुमार के बहुत करीबी हैं। नीतीश ने प्रचार में संकेत दिया था कि चुनाव के बाद महेश्वर हजारी को मंत्री पद से हटाया जा सकता है। शांभवी चौधरी को 579786 वोट मिले जबकि सन्नी हजारी को 382535 वोट मिले। शांभवी ने सन्नी हजारी को 187251 वोट के बड़े अंतर से हराकर पहली जीत दर्ज की है।

सारण लोकसभा सीट से आरजेडी अध्यक्ष लालू यादव की बेटी रोहिणी आचार्या बीजेपी के राजीव प्रताप रूडी से चुनाव हार गई हैं। रोहिणी का यह पहला चुनाव था। रूडी पहले लालू से हारे हैं लेकिन बाद में राबड़ी और साथ ही तेज प्रताप यादव के ससुर चंद्रिका राय को भी हराया है। रोहिणी को 458091 वोट मिले हैं और वो रूडी से 13661 वोट से हार गईं।

सासाराम सीट से लगातार तीन बार भाजपा के सांसद रहे मुनिलाल के बेटे शिवेश राम को बीजेपी ने लड़ाया था जो कांग्रेस के मनोज कुमार से हार गए हैं। मनोज कुमार पिछला चुनाव बसपा से लड़े थे और तीसरे नंबर पर रहे थे। शिवेश को 493847 वोट मिले और वो मनोज से 19157 वोट से हारे हैं। 

नवादा लोकसभा सीट से वरिष्ठ भाजपा नेता सीपी ठाकुर के राज्यसभा सांसद बेटे विवेक ठाकुर जीत गए हैं और वो पहली बार लोकसभा पहुंचे हैं। विवेक ठाकुर को 410608 वोट मिले और उन्होंने आरजेडी कैंडिडेट श्रवण कुशवाहा को 67670 वोट से हराया है।

पाटलिपुत्र लोकसभा सीट पर भाजपा के दो बार के सांसद रामकृपाल यादव को लालू यादव की बड़ी बेटी मीसा भारती ने हरा दिया है। रामकृपाल ने इससे पहले के दो चुनावों में मीसा को ही हराया था। इस सीट से 2009 में लालू यादव भी हार चुके हैं। मीसा भारती को 613283 वोट मिले और उन्होंने कभी लालू के प्रिय रहे रामकृपाल को 85174 वोट के अंतर से हराया है।

बक्सर लोकसभा सीट से राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के बेटे और आरजेडी विधायक सुधाकर सिंह भी जीत गए हैं। सुधाकर सिंह महागठबंधन सरकार में एक महीने कृषि मंत्री भी रहे थे लेकिन नीतीश कुमार के खिलाफ बोलने के कारण इस्तीफा देना पड़ा था। सुधाकर सिंह को 438345 वोट मिले हैं और उन्होंने भाजपा के मिथिलेश तिवारी को 30091 वोट से हराया है।

लोकसभा की पूर्व अध्यक्ष मीरा कुमार के बेटे अंशुल अविजित पटना साहिब सीट से हार गए हैं। अंशुल को बीजेपी के बडे़ नेता रविशंकर प्रसाद ने हराया है। भाजपा की गढ़ पटना साहिब में भाजपा लगातार जीत रही है। अंशुल अविजित को 434424 वोट मिला और वो रविशंकर प्रसाद से 153846 वोट के अंतर से हार गए।