DA Image
2 अगस्त, 2020|12:06|IST

अगली स्टोरी

बिहार में 49 लाख आबादी बाढ़ से प्रभावित, छपरा-मुजफ्फरपुर एनएच 722 व मोतिहारी में एसएच 74 ठप

bihar flood

बिहार में बाढ़ का प्रकोप हर दिन बढ़ता जा रहा है। बाढ़ ने राज्य के 14 जिलों के 112 प्रखंडों की 1043 पंचायतों की 49 लाख 50 हजार आबादी को प्रभावित किया है। आपदा प्रबंधन विभाग के अपर सचिव रामचंद्रडु ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस में कहा है कि बाढ़ पीड़ितों के लिए राहत एवं बचाव कार्य युद्ध स्तर पर चलाए जा रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि बाढ़ से प्रभावित एक लाख 94 हजार परिवारों के खाते में छह-छह हजार की सहायता राशि भेज दी गई है। भुगतान की गई कुल राशि 116 करोड़ है। शेष प्रभावित परिवारों के खाते में भी शीघ्र ही राशि भेज दी जाएगी। राज्य के विभिन्न जिलों में 1340 सामुदायिक किचेन चलाए जा रहे हैं, जिनमें प्रतिदिन करीब नौ लाख लोग भोजन कर रहे हैं। विभिन्न जिलों में 19 राहत केंद्र चलाए जा रहे हैं, जहां पर 27 हजार लोगों रखा गया है औह उन्हें जरूरी सामान मुहैया काराए जा रहे हैं। 

बाढ़ से प्रभावित जिलों में सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, पूर्वी चंपारण, पश्चिम चंपारण, खगड़िया, सारण, समस्तीपुर, सीवान और मधुबनी शामिल हैं।

वहीं एक साथ छोटी-बड़ी दर्जन भर नदियों का मार झेल रहे उत्तर बिहार में शनिवार को भी बाढ़-कटाव का संकट घटता नहीं दिखा। बाढ़ के कारण छपरा-मुजफ्फरपर एनएच 722 पर आवागमन को बंद करा दिया गया है। वहीं मोतिहारी में एसएच 74 पर भी पानी के कारण आवागमन ठप है। मुजफ्फरपुर में बाया नदी में उफान के कारण एक दर्जन नई पंचायतों में पानी घुस गया है। दरभंगा के केवटी में महाराजी बांध टूटने से सैकड़ों घरों में पानी घुस गया है। चंपारण में लौरिया की भी स्थिति अभी भी खराब है।

छपरा होते हुए मुजफ्फरपुर आने के रास्ते में मकेर में एनएच 722 पर पानी चढ़ गया है। इस कारण अब छपरा से मुजफ्फरपुर आने के लिए लोगों के पास हाजीपुर जाकर फिर लौटने का ही विकल्प बचा है। गोपालगंज का पानी मकेर में एनएच पर चढ़ा है।

वहीं मुजफ्फरपुर में शुक्रवार की रात से बाया नदी में उफान से पानी साहेबगंज से पारू होते हुए अब सरैया की ओर बढ़ गया है। इन तीनों प्रखंड के गांव इस बाढ़ से प्रभावित हो गए हैं। उधर, गंडक, बूढ़ी गंडक व बागमती के जलस्तर के स्थिर होने के कारण बाढ़ की स्थिति बाकी प्रखंडों थोड़ी सामान्य दिखी। दरभंगा के केवटी में करजापट्टी पंचायत के विरने गांव में महाराजी बांध 20 फीट में टूट गया। इससे कई गांव में पानी तेजी से फैल गया जिससे करीब 12 हजार की आबादी प्रभावित हुई। हालांकि देर शाम तक इस बांध की मरम्मत कर ली गई है।

उधर, समस्तीपुर में शिवाजीनगर प्रखंड में बोरज के पास करेह नदी का पानी ओवरटॉप कर गया है। इससे समस्तीपुर के अलावा दरभंगा की भी कई पंचायतों के प्रभावित होने की आशंका है। वहीं मोतिहारी के केसरिया में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है। नगर पंचायत सहित प्रखंड के दर्जन भर पंचायत बाढ़ की चपेट में हैं। वहीं स्टेट हाइवे 74 पर बच्चा प्रसाद सिंह कॉलेज के पास सड़क पर चार फीट पानी बह रहा है, जिससे आवागमन बाधित है। वहीं सीतामढ़ी में भी बागमती व अधवारा समूह की नदियां खतरे के निशान से ऊपर होने के बावजूद स्थिर हैं। गंडक, बूढ़ी गंडक व बागमती के जलस्तर में भी कई मीटरगेज पर स्थिरता दर्ज की गई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:bihar flood 49 lakh population affected by flood in bihar chhapra muzaffarpur NH 722 and SH 74 stalled in Motihari