DA Image
18 अक्तूबर, 2020|2:25|IST

अगली स्टोरी

बिहार चुनाव 2020 : बड़े नेताओं की चुनावी सभा के लिए छोटे पड़ रहे मैदान

बड़े नेताओं की चुनावी सभा के लिए जिले में मैदान छोटे पड़ रहे हैं। अबतक चिह्नित 65 मैदानों में से किसी की क्षमता ऐसी नजर नहीं आ रही जहां सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बड़ी सभा हो सके। उधर, चुनाव आयोग ने जिला प्रशासन से जिले में उपलब्ध सभी मैदानों की क्षमता सहित रिपोर्ट की मांग की थी।  
चुनाव आयोग के निर्देश पर जिला प्रशासन ने चुनावी सभा के लिए कुल 65 मैदान चिह्नित किए थे। मैदानों की पहचान के बाद उसकी रिपोर्ट भी चुनाव आयोग को भेज दी गई थी। लेकिन उस रिपोर्ट में मैदान की माप व आयोजन की क्षमता का आकलन नहीं किया गया था। चुनाव आयोग ने एक बार फिर जिले से सभी मैदानों की माप व उनकी क्षमता सहित रिपोर्ट की मांग की है।
 कोविड 19 को ले जारी गाइडलाइन के अनुसार एक व्यक्ति के चारों तरफ कम से कम 28 वर्गफीट खाली जमीन होनी चाहिए। इस माप के हिसाब से देश के बड़े नेताओं के लिए मैदान छोटे पड़ रहे हैं। शहर में जिन मैदानों को सूची में शामिल किया गया है, उनमें चक्कर मैदान, एमआईटी मैदान, एलएस कॉलेज मैदान, पताही हवाई अड्डा व जिला स्कूल मैदान समेत कुल सात मैदान शामिल किये गए हैं। बाकी मैदान शहर के बाहरी हिस्सों में स्थित हैं। चुनाव आयोग ने इनकी पैमाइश कराकर पूरी माप व इनकी क्षमता की जानकारी देने का आदेश दिया है।

सुविधा एप से होगा मैदानों का आवंटन
राजनीतिक दलों को चुनावी सभा के लिए मैदान ढूंढ़ने अब नहीं निकलना होगा। चुनाव आयोग द्वारा जारी सुविधा एप पर वे अपना आवेदन डालेंगे। ऑनलाइन आवेदन में अपने स्टार प्रचारक के नाम के अलावा शामिल होने वाले लोगों की संभावित संख्या भी बतानी होगी। संभावित संख्या के आधार पर आयोग तय करेगा कि किसी राजनीतिक दल या नेता को कौन सा मैदान आवंटित किया जा सकता है। आवेदन देने के बाद की सारी प्रक्रिया अधिकारी स्वयं पूरी करेंगे और इसके लिए दल के प्रतिनिधि को कहीं भागदौड़ नहीं करनी पड़ेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bihar Election 2020 : Small Grounds for Election Meet of Big Leaders