ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारमंत्री-अफसर को नीतीश की फटकार, चंद्रशेखर और केके पाठक को साथ बैठकर विवाद खत्म करने कहा गया: सूत्र

मंत्री-अफसर को नीतीश की फटकार, चंद्रशेखर और केके पाठक को साथ बैठकर विवाद खत्म करने कहा गया: सूत्र

मुख्यमंत्री ने चंद्रशेखर से कहा-

मंत्री-अफसर को नीतीश की फटकार, चंद्रशेखर और केके पाठक को साथ बैठकर विवाद खत्म करने कहा गया: सूत्र
Malay Ojhaहिन्दुस्तान टाइम्स,पटनाThu, 06 Jul 2023 04:41 PM
ऐप पर पढ़ें

शिक्षा विभाग में मचे घमासान के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शिक्षा मंत्री प्रोफेसर चंद्रशेखर को गुरुवार को मिलने के लिए बुलाया। सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री ने चंद्रशेखर से कहा- "अगर कोई दिक्कत है तो उसको बातचीत के जरिए सुलझना चाहिए था। जिस तरह से बात बढ़ी है, ये अच्छा नहीं लगता है क्योंकि ये सब सरकार से जुड़ी बात है। इस स्थिति से बचना चाहिए था। दोनों को बैठकर बात करनी चाहिए।" वहीं शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने अपना पक्ष रखा। बाद में पत्रकारों से शिक्षा मंत्री ने कहा कि उन्हें शिक्षा विभाग के काम की प्रगति पर चर्चा के लिए बुलाया गया था। गौर करने वाली बात ये है कि नीतीश कुमार सामान्य तौर पर इस तरह की समीक्षा विभागीय बैठक में करते हैं जिसमें मंत्री के साथ-साथ विभाग के सभी सीनियर अधिकारी मौजूद रहते हैं। 

इससे पहले शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने आज सुबह पूर्व सीएम राबड़ी देवी के आवास पर पहुंचे, जहां उन्होंने आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव से मुलाकात की। इस दौरान शिक्षा मंत्री ने केके पाठक के साथ हुए विवाद के बारे में लालू यादव को बताया। इसके बाद लालू ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को फोन कर शिक्षा मंत्री से मुलाकात करने को कहा। लालू के आदेश पर शिक्षा मंत्री ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने गए उनके आवास गए थे। बता दें कि 2021 में भी जेडीयू के समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी का विभाग के एसीएस अतुल प्रसाद के साथ मतभेद हुआ था, जिसके बाद नाराज मंत्री ने इस्तीफे की पेशकश कर दी थी। मुख्यमंत्री को खुद हस्तक्षेप करना पड़ा, जिसके बाद मामला शांत हुआ था।

केके पाठक और शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर में क्यों हुआ झगड़ा, अब तक क्या हुआ, कौन किसके साथ?

बता दें कि शिक्षा मंत्री के पीए कृष्ण नंद यादव ने कुछ दिन पहले केके पाठक को एक पीत पत्र लिखा था, जिसके बाद विभाग के कार्यालय में उनके प्रवेश करने पर रोक लगा दी गयी है। पीए ने केके पाठक को लिखे पत्र में कहा है कि मंत्री ने हाल के घटनाक्रमों पर अपनी नाराजगी जतायी है, जिसमें यह देखा गया है कि विभाग से संबंधित नकारात्मक खबरें मीडिया में आ रही हैं। यहां तक कि आधिकारिक पत्र या विभागीय संचार मंत्री के कक्ष तक पहुंचने से पहले ही मीडिया में लीक हो जाते हैं। यह लोक सेवकों के कामकाज संबंधी नियमों के विरुद्ध है। विभाग को ऐसे अधिकारियों की पहचान करनी चाहिए और उचित अनुशासनात्मक कार्रवाई करनी चाहिए। इस पर शिक्षा विभाग के निदेशक (प्रशासन) सुबोध कुमार चौधरी ने कृष्णा नंद यादव को पांच जुलाई को सख्त लहजे में एक पत्र लिख कर कहा था कि आप शिक्षा विभाग के कार्यालय में भौतिक रूप से प्रवेश नहीं कर सकते हैं।

सनकी मंत्री और महासनकी अफसर के बीच कव्वाली का अखाड़ा, चंद्रशेखर-केके पाठक के झगड़े पर बोले उपेंद्र कुशवाहा

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें