अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार उपचुनाव: जहानाबाद की जनता ने वोट के माध्यम से दी मुंद्रिका यादव को श्रद्धांजलि

mundrika yadav

बिहार विधानसभा चुनाव 2015 में 30 हजार से अधिक मतों से जीते राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के कद्दावर नेता मुद्रिका सिंह यादव के निधन के बाद खाली हुई जहानाबाद विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में वोटरों ने उनके बेटे सुदय यादव के सिर जीत का ताज पहनाया है। दूसरे शब्दों में कहें तो जहानाबाद विधानसभा क्षेत्र के वोटरों ने वोट के माध्यम से मुंद्रिका सिंह यादव को सच्ची श्रद्धांजलि दी है।

मुंद्रिका सिंह यादव की पहचान जनपक्षधर नेता की रही। वर्ष 1995 और 2015 में वे जहानाबाद से विधायक बनने में कामयाब रहे थे। 24 अक्टूबर 2017 को उनके निधन के बाद राजद के अलावा विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं को भी उनकी कमी खली थी। उनके अंतिम संस्कार में जहानाबाद और अरवल जिले के लोग उमड़ पड़े थे। उनकी लोकप्रियता दलीय सीमाओं के परे थी। जब उनके पुत्र सुदय यादव को राजद से टिकट मिला तो कई लोग यह मानकर चल रहे थे कि राजद के आधार वोट के अलावा मुंद्रिका बाबू द्वारा किए कार्यों का लाभ भी सुदय को मिलेगा।

जमीनी स्तर पर सक्रिय रहे राजद कार्यकर्ता

एनडीए के विपरीत उपचुनाव में राजद कार्यकर्ता जमीनी स्तर पर सक्रिय रहे। योजनाबद्ध तरीके से मतदाताओं को अपने पाले में लाने की हरसंभव कोशिश की और उनकी कोशिश रंग लाई। एनडीए के कार्यकर्ता जहां तड़क-भड़क को ज्यादा तवज्जो दे रहे थे, वहीं राजद और कांग्रेस कार्यकर्ता बगैर शोर-शराबा के चुपचाप गांव और मोहल्लों में वोटरों को अपने पक्ष में लाने के लिए बैठक और जनसंपर्क करते रहे।

विस क्षेत्र की सामाजिक बनावट के अनुसार कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी दी गई थी। स्थानीय कार्यकर्ताओं के सहयोग से बाहरी नेताओं को क्षेत्र का फीडबैक मिलता रहा। राजद को सहानुभूति वोटों का लाभ भी मिला।

लोस उपचुनाव: गोरखपुर और फूलपुर में BJP का किला ध्वस्त, सपा की फतह

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bihar bypoll results : Jehanabad Public pays tribute to Mundrika Yadav by votes