ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारबिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी का इस्तीफा, नीतीश सरकार में बन सकते हैं मंत्री

बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी का इस्तीफा, नीतीश सरकार में बन सकते हैं मंत्री

बिहार विधानसभा के डिप्टी स्पीकर महेश्वर हजारी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। वे जेडीयू से विधायक हैं। उन्हें आगामी कैबिनेट विस्तार में नीतीश सरकार में मंत्री बनाए जाने की चर्चा है।

बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी का इस्तीफा, नीतीश सरकार में बन सकते हैं मंत्री
Jayesh Jetawatलाइव हिन्दुस्तान,पटनाWed, 21 Feb 2024 01:01 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। विधानसभा सचिवालय की ओर से बुधवार को इस संबंध में अधिसूचना जारी की। जेडीयू नेता महेश्वर हजारी के इस्तीफे के बाद अटकलों का बाजार गर्म है। चर्चा है कि उन्हें नीतीश सरकार में मंत्री बनाया जा सकता है। हालांकि, पार्टी की ओर से अभी तक इस बारे में पुष्टि नहीं की गई है। नीतीश कैबिनेट का विस्तार जल्द होने की संभावना है। 

महेश्वर हजारी जेडीयू के चार बार से विधायक हैं। वे पासवान जाति से आते हैं और जेडीयू का प्रमुख दलित चेहरा हैं। पिछली महागठबंधन सरकार से वे बिहार विधानसभा में डिप्टी स्पीकर हैं। पिछले महीने जेडीयू अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महागठबंधन छोड़कर एनडीए में वापसी की। राज्य में एनडीए की सरकार का गठन हुआ। आरजेडी से स्पीकर रहे अवध बिहारी चौधरी के हटने के बाद बीजेपी से नंद किशोर यादव को स्पीकर बनाया गया था। जबकि महेश्वर हजारी डिप्टी स्पीकर के पद पर बने रहे थे। अब उन्होंने पद त्याग दिया है। उनकी जगह जेडीयू से ही किसी अन्य नेता को उपाध्यक्ष बनाया जा सकता है।

महेश्वर हजारी पहले भी नीतीश सरकार में मंत्री रह चुके हैं। 2009 में वे लोकसभा सांसद चुने गए थे। अब उन्हें फिर से मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने की चर्चा तेज हो गई है। 

नीतीश कैबिनेट का विस्तार कब होगा?
बिहार में पिछले महीने नई सरकार के गठन के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ बीजेपी, जेडीयू और हम के 8 अन्य नेताओं ने मंत्री पद की शपथ ली थी। इसके बाद से नीतीश कैबिनेट के विस्तार का इंतजार है। एनडीए के सूत्रों ने पूर्व में दावा किया कि बिहार विधानसभा के बजट सत्र के बाद राज्य मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा। बताया जा रहा है कि बीजेपी खेमे में नए मंत्रियों के नामों को लेकर अभी तक सहमति नहीं बनी है। इस कारण कैबिनेट विस्तार में देरी हो रही है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें