ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहारबिहार के 23 शहरों के लोग जहरीली हवा में सांस लेने को मजबूर, बेगूसराय और पूर्णिया की हालत सबसे खराब

बिहार के 23 शहरों के लोग जहरीली हवा में सांस लेने को मजबूर, बेगूसराय और पूर्णिया की हालत सबसे खराब

बिहार के छोटे शहरों में बेगूसराय, पूर्णिया, मोतिहारी का वायु प्रदूषण ठंड के समय सबसे अधिक रहता है। खासकर बेगूसराय और पूर्णिया का वायु गुणवत्ता सूचकांक 400 से अधिक लंबे समय तक रहता है। 

बिहार के 23 शहरों के लोग जहरीली हवा में सांस लेने को मजबूर, बेगूसराय और पूर्णिया की हालत सबसे खराब
Jayesh Jetawatहिन्दुस्तान,पटनाSat, 25 Nov 2023 08:10 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में वायु प्रदूषण से हालात बिगड़ते जा रहे हैं। स्थिति यह है कि सूबे में पटना समेत 23 जिले के लोग शुद्ध हवा की जगह धूलकण घोंटने को मजबूर हैं। इन जिलों में 35 स्थलों पर लगे स्वचालित वायु गुणवत्ता निगरानी स्टेशन इसकी तस्दीक कर रहे हैं। बेगूसराय और पूर्णिया में हालत ज्यादा खराब है। पटना, गया और मुजफ्फरपुर में साल 2019 से वायु गुणवत्ता का आकलन किया जा रहा है। वर्ष 2022 से  20 शहरों का वायु गुणवत्ता का आकलन हो रहा है। इन शहरों के वायु प्रदूषण की स्थिति की जानकारी एक साल से मिल रही है। 15 जिलों से जानकारी नहीं मिल पा रही है। 

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) का निर्देश है कि सूबे के सभी 38 जिलों में वायु गुणवत्ता निगरानी केंद्र लगाया जाए लेकिन अभी तक बिहार में 23 जिला में ही निगरानी स्टेशन लगाया गया है। जिन शहरों से वायु प्रदूषण का डेटा जारी हो रहा है उससे यह तो पता चल रहा है कि वहां की स्थिति क्या है लेकिन वायु प्रदूषण के नियंत्रण के लिए कुछ खास उपाय नहीं किए जा रहे हैं। पटना, गया और मुजफ्फरपुर को छोड़ दें तो बाकी के छोटे शहरों की स्थिति में कोई सुधार नहीं है। संसाधन में कमी के कारण यहां वायु प्रदूषण पर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है।

बेगूसराय और पूर्णिया सबसे अधिक दिनों तक रहा प्रदूषित
सूबे के छोटे शहरों में भी अक्टूबर से फरवरी तक वायु प्रदूषण बढ़ा रहता है। छोटे शहरों में बेगूसराय, पूर्णिया, मोतिहारी का वायु गुणवत्ता सूचकांक सबसे अधिक रहता है। खासकर बेगूसराय और पूर्णिया का सूचकांक 400 से अधिक लंबे समय तक रहता है। 

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव एस चंद्रशेखर ने कहा कि पहले चिह्नित स्थलों पर मैनुअली वायु प्रदूषण की जांच होती थी। अभी 23 जिलों के 35 स्थलों पर स्वचालित मशीन से आकलन हो रहा है। शेष में मैनुअली जांच होगी। जल्द ही इसकी प्रक्रिया शुरू जाएगी। 

इन शहरों में होता है वायु गुणवत्ता का आकलन
आरा, अररिया, बेतिया, बिहारशरीफ, भागलपुर, बेगूसराय, छपरा, गया, हाजीपुर, कटिहार, किशनगंज, मुजफ्फरपुर, मोतिहारी, मुंगेर, पटना, पूर्णियां, सासाराम, सहरसा, सिवान, राजगीर।

विभिन्न शहरों में वायु गुणवत्ता सूचकांक
शहर            सूचकांक

बेगूसराय        407
सिवान        383
कटिहार        376
बेतिया        362
छपरा        354
पूर्णिया        350
आरा            351
मोतिहारी        348
सहरसा        337
समस्तीपुर        335
भागलपुर        320
गया            320
हाजीपुर        315
पटना            313

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें